CG Crime : लीज पर लिए ट्रकों का फर्जी दस्तावेज तैयार कर बेचते थे, 6 आरोपी गिरफ्तार…

CG Crime

रायपुर। CG Crime राजधानी के खमतराई पुलिस ने लीज पर ट्रकों को लेकर फर्जी दस्तावेज तैयार कर बेचने वाले 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों के पास से 20 से अधिक ट्रक जब्त किया है।

Read More : CG Crime : दामाद ने डंडे से पीट-पीटकर की सास की हत्या, आरोपी गिरफ्तार, जाने क्या है वजह…

बता दें कि ग्राम छिछोर रतनपुरा थाना हलधर जिला मऊ उत्तर प्रदेश निवासी अनुज कुमार सिंह ट्रांसपोर्टिंग का व्यवसाय करता है। 15 अक्टूबर 2022 को पटना बिहार निवासी ट्रांसपोर्टर नागेन्द्र कुमार सिन्हा द्वारा प्रार्थी की उक्त वाहन को 80 हजार रूपये प्रतिमाह किराया पर परिचालन करने का एग्रीमेन्ट कर वाहन को अपने पास रखकर वाहन का परिचालन किया जा रहा था। इसी दौरान 14 नवम्बर 2022 के शाम 5.38 बजे करीबन किसी शेख मकसूद निवासी बिलासपुर द्वारा प्रार्थी को फोन कर उसके ट्रक वाहन के संबंध में पूछा गया।

Read More : CG Crime : कार में मिली युवती की लाश, चार दिन से थी लापता, दुर्गंध आने से हुआ खुलासा…

जिस पर प्रार्थी द्वारा ट्रक वाहन को ट्रांसपोर्टर एन.के. सिन्हा द्वारा परिचालन करना बताया गया। शेख मकसूद द्वारा प्रार्थी को बताया गया कि भनपुरी स्थित यार्ड मालिक उपेन्द्र शर्मा उसे प्रार्थी की उक्त ट्रक वाहन को बेचने के लिए दिखाया है। शेख मकसूद द्वारा वाहन के दस्तावेज मांगने पर यार्ड मालिक उपेन्द्र शर्मा द्वारा आनाकानी करने पर शेख मकसूद को शक होने पर ट्रक के चेचीस नम्बर से डिटेल निकालकर प्रार्थी को उसके द्वारा सूचित किया गया। उक्त सूचना पर प्रार्थी रायपुर आकर भनपुरी स्थित उपेन्द्र शर्मा के यार्ड जाकर देखा गया तो प्रार्थी के वाहन टाटा मोटर्स क्रमांक यू पी 54 टी 9806 का डेंटिंग पेटिंग कर गाड़ी का हुलिया बदल दिया गया था,

CG Crime

वाहन के डाला को काटकर लगभग आधा कर दिया गया था, नंबर प्लेट बदल दिया गया था एवं वाहन के चेचिस नम्बर से छेड़खानी व कूटरचित करते हुए उसे भी बदल दिया गया था। प्रार्थी के द्वारा उक्त वाहन के गाड़ी के टायर, केबिन, पीछे के डाला, रेडियम इत्यादि को देखकर अपनी गाड़ी का पहचान किया गया। प्रार्थी द्वारा उक्त वाहन के संबंध में यार्ड मालिक उपेन्द्र शर्मा से पूछताछ करने पर यार्ड मालिक उपेन्द्र शर्मा द्वारा ट्रक वाहन को गाड़ी को अशोक अग्रवाल, सुब्बू काजी उर्फ सोनू खान से खरीदना बताया। इस प्रकार ट्रांसपोर्टर नागेन्द्र कुमार सिन्हा, भनपुरी स्थित यार्ड मालिक उपेन्द्र शर्मा, अशोक अग्रवाल, सुब्बू काजी उर्फ सोनू खान द्वारा षडयंत्र कर कूटरचित कर प्रार्थी के साथ धोखाधड़ी किया है।

Read More : CG Crime : नौकरी लगाने का झांसा देकर 8 लाख की ठगी, पति-पत्नी गिरफ्तार…

मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच में लिया। जांच के दौरान जहां आरोपी उपेन्द्र शर्मा 43 वर्ष को भनपुरी चौक के पास दम्मानी पेट्रोल पंप से टाटीबंध जाने के मार्ग में पकड़कर हिरासत में लेकर पूछताछ किया गया। साथ ही उनके बताये आधार पर टीम के द्वारा पता तलाश कर आरोपी अशोक अग्रवाल को भी हिरासत में लिया जाकर कड़ाई से पूछताछ किया गया। पूछताछ पर उनके द्वारा बताया गया कि वह अशोक अग्रवाल 65 वर्ष, शाहाबूद््दीन काजी उर्फ सब्बू काजी उर्फ सोनू खान 44 वर्ष एवं अन्य उनके साथीगणों के साथ मिलकर चोरी व फर्जी तरिके से दस्तावेज तैयार कर सस्ते में बेचे जाने वाले 6 चक्का, 12 चक्का एवं 14 चक्का ट्रकों को खरीद कर आर.टी.ओ. एजेण्ट से मिली भगत कर उन ट्रकों का छत्तीसगढ़ में रजिस्ट्रेशन कराकर यहां के स्थानीय ट्रांसपोटर्स को विक्रय कर बहुत अधिक लाभ अर्जित किया जाता था।

CG Crime

आरोपी के पूछताछ इन ट्रकों को वे मुजफ्फरपुर बिहार के कुछ बड़े ट्रांसपोटर्स, एजेण्टों व दलालों के माध्यम से खरीदते थे। मुजफ्फरपुर बिहार के ट्रांसपोटर्स व दलाल के द्वारा ट्रकों को उत्तर प्रदेश व बिहार के ट्रक मालिकों से लीज पर ली जाकर एवं कुछ चोरी के ट्रकों का महाराष्ट्र, बिहार व छत्तीसगढ़ के ट्रक के चेचीस नम्बर बदलने में माहिर व्यक्तियों के द्वारा चेचीस नम्बर बदलवाया जाता था। जिसके पश्चात् नागालैण्ड, अरूणाचल प्रदेश, बिहार व उत्तर प्रदेश के स्थानीय आर.टी.ओ. एजेण्ट के माध्यम से ट्रक वाहनों का फर्जी दस्तावेज तैयार किया जाता था और उक्त ट्रकों को छत्तीसगढ़ व आस-पास के प्रदेशों के आर.टी.ओं. में रजिस्ट्रेशन कराकर छत्तीसगढ़ लाकर ट्रक के बॉडी में परिवर्तन कर, डेंटिंग पेटिंग कर उसका हुलिया बदलकर तथा आर.टी.ओं. में नाम ट्रांसफर करा कर यहां के स्थानीय ट्रांसपोटर्स को बेचा जाता था।

Read More : CG Crime : घरेलू विवाद में सौतेले पिता ने की बेटे की हत्या, आरोपी गिरफ्तार…

इस काम के लिये पूर्व में परिवहन विभाग में आर.टी.ओ. एजेण्ट के रूप में कार्यरत् अशोक अग्रवाल के माध्यम से पूर्ण दस्तावेज तैयार कराया जाता था। उक्त ट्रकों के व्यापक फर्जीवाड़ा पर टीम के द्वारा गहराई पर पहुंचने पर ज्ञात हुआ कि उक्त आरोपीगण के अलावा भी बहुत से समूह है जो बिहार, उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों से ट्रक लाकर छत्तीसगढ़ व अन्य सरहदी राज्यों में खपा रहें है। उक्त घटना के प्रकोश में आने पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन पर टीमें गठित कर संबंधित आरोपियों व वाहनों की पतासाजी के लिए उड़ीसा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र आदि राज्यों में टीमें रवाना की गई।

CG Crime

जहां पहुंचकर उक्त संबंध में सूचना एकत्रित कर एवं तकनिकि आधार पर टीम के द्वारा इस गिरोह से संबंधित व्यक्तियों एवं वाहनों का सघन पतासाजी करते हुए प्रकरण में संलिप्त आरोपी सत्येन्द्र सिंह 42 वर्ष, शाहाबुद््दीन अहमद काजी उर्फ सब्बू काजी उर्फ सोनू खान, राजेश यदु उर्फ ओम प्रकाश 40 वर्ष व अन्य आरोपियों को पकड़ा गया तथा उनके बताये आधार पर 20 से अधिक ट्रकों को जब्त किया गया है। जब्त ट्रकों की कीमत करीब 7 करोड़ 20 लाख रूपए के आसपास बताई जा रही है। वहीं मामलें में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।

Related Articles

Back to top button