CG Crime : सोशल मीडिया के जरिए चोर गिरोह तक पहुंची पुलिस, नाबालिग सहित 7 आरोपी गिरफ्तार…

CG Crime

दुर्ग। CG Crime जिला के सुपेला, वैशाली नगर व स्मृतिनगर थाना क्षेत्रों में चोरी की वारदात को अंजाम देने के वाले नाबालिग सहित सात आरोपियों को पुलिस के टीम ने गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि पुलिस सीसीटीवी के माध्यम से आरोपियों तक पहुंच पाई है। साथ ही चोरी की गहने खरीदी बिक्री करने वाले तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है।

Read More : CG Crime : लोहार ने टंगिया से हमला कर किसान की हत्या की, गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस पर भी किया वार…

मामले का खुलासा करते हुए एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने बताया कि शहर में लगातार हो रही चोरी की घटनाओं के मद्देनजर संदेहियों पर निगाह रखी जा रही थी, आदतन अपराधियों व जेल से रिहा हुये अपराधियों से पूछताछ कर पतासाजी के प्रयास किये जा रहे थे। दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरा का अवलोकन किया गया, अवलोकन के दौरान 3 संदेहियों के फूटेज प्राप्त हुए थे। प्राप्त फूटेज के आधार पर सोशल मीडिया के माध्यम से विभिन्न व्हाट्सप ग्रुप में पतासाजी के लिए फूटेज वायरल किये गये थे।

CG Crime

जिसके परिणाम स्वरूप आरोपियों की पहचान सुपेला इंद्रा नगर निवासी शाहिल खान 18 वर्ष, तूकेश्वर ठाकुर उर्फ सोनू ठाकुर 19 वर्ष एवं 1 नाबालिग लड़के के रूप में सुनिश्चित हुई। टीम द्वारा आरोपियों सतत् निगरानी करते हुये सुपेला क्षेत्र में उनकी उपस्थिति के आधार पर घेराबंदी कर उक्त तीनों को पकड़ा गया। पूछताछ में तीनों आरोपियों ने बताया कि अपने दोस्त गुलाम खान 23 वर्ष एवं महेश यादव 18 वर्ष के साथ पांचों मिलकर सुपेला, वैशाली नगर एवं स्मृति नगर क्षेत्र के 4 सुने मकानों में अलग-अलग समय पर रेकी करके नकबजनी की घटना को अंजाम दिए है।

Read More : CG Crime : लीज पर लिए ट्रकों का फर्जी दस्तावेज तैयार कर बेचते थे, 6 आरोपी गिरफ्तार…

पकड़े गये आरोपियों ने बताया कि चोरी किए गए गहने सामान को बाजार खैरागढ़ निवासी धर्मेंद्र वर्मा के माध्यम से सालेखुर्द धमधा निवासी गैंदराम जंघेल को बेचना स्वीकार किये। जिससे आरोपियों के बताये अनुसार धर्मेंद्र वर्मा 27 वर्ष व गेंदराम जंघेल 26 वर्ष को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर धर्मेंद्र वर्मा के द्वारा आरोपियों के द्वारा लाये गये सोने-चांदी के जेवरातों को अपने रिश्तेदार ज्वेलरी शॉप में काम करने वाले गेदराम जंघेल के परिचित सोना गलाई का काम करने वाले मानस जेना 43 वर्ष के पास बिकवाना बताये। जिससे मानस जेना के कब्जे से सोने-चांदी के जेवरात बरामद किया गया।

Related Articles

Back to top button