CG Crime : एटीएम कार्ड से ठगी करने वाले तीन अंतर्राज्यीय आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, जाने कैसे देते थे वारदात को अंजाम…

CG Crime

अम्बिकापुर। CG Crime शहर के मणिपुर चौकी पुलिस ने एटीएम कार्ड से ठगी करने वाले तीन अंतर्राज्यीय आरोपी को पलामू झारखंड से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। पुलिस ने आरोपियों के पास से नकद 36 हजार, 7 नग एटीएम कार्ड और कार जब्त किया है।

Read More : CG Crime : ससुराल में सड़क किनारे खून से लथपथ मिली दामाद की लाश, पुलिस जांच में जुटी…

मामले का खुलासा करते हुए एसपी भावना गुप्ता ने बताया कि 30 नवंबर को प्रतिक्षा बस स्टैंड के पास दरिमा थाने में पदस्थ आरक्षक अमित कुजुर बैलेंस जांच करने एटीएम गया हुआ था। बैलेंस जांच करने के दौरान एटीएम कार्ड मशीन में फंस गया, तभी बाहर खड़े दो अन्य व्यक्तियों ने सहयोग करने के नाम पर आरक्षक से एटीएम का पिन देखकर रजिस्टर मोबाइल नंबर से फोन करने की बात कहते हुए उसे घर भेज दिया और दोनों आरोपी आरक्षक का एटीएम कार्ड लेकर मौके से फरार हो गए।

Read More : CG Crime : एक्सीवेशन वर्कशॉप पर चोरी करने वाले 2 आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे…

अलग-अलग दो एटीएम मशीन 50 हजार रकम निकाल लिये जिसके बाद पुलिस आरक्षक ने इसकी शिकायत मणिपुर चौकी में दर्ज कराई थी शिकायत के बाद जांच पर मणिपुर पुलिस ने घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन करने के साथ ही साइबर सेल की मदद ली साइबर सेल के अथक प्रयासों के बाद पुलिस की एक विशेष टीम आरोपियों को पकड़ने पलामू झारखंड रवाना हुई।

Read More : CG Crime : नौकरी दिलाने का झांसा देकर अपने रिश्तेदारों से की ठगी, गिरफ्तार…

जहां तीन आरोपियों जिनमें कपिल विश्वकर्मा 25 वर्ष निवासी कालपी उत्तर प्रदेश, नीरज निषाद 20 वर्ष निवासी कालपी व अजय कुमार निषाद 19 वर्ष निवासी शेखपुरगोड़ा उत्तर प्रदेश को घेराबंदी कर गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में आरोपियों ने वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से नकदी 36 हजार, 7 एटीएम कार्ड और घटना में प्रयुक्त एक कार जब्त किया है।

Read More : CG Crime : बैंक के लॉकर से किया था रकम पार, पूर्व कैशियर निकला आरोपी…

ऐसे देते थे वारदात को अंजाम-
एसपी भावना गुप्ता ने बताया कि आरोपियों के द्वारा एटीएम कार्ड फंसाने के लिए किसी ग्लू का इस्तेमाल करते थे। जिससे कि एटीएम में पहुंचने वाले एटीएम धारक का एटीएम कार्ड मशीन में ही फंस जाता था, जिसे निकालने और सहायता करने के नाम पर आरोपी उसे ठगी का शिकार बनाते थे।

Back to top button