Alert : Google पर भूलकर भी सर्च नहीं करनी चाहिए ये 5 चीजें, निजी जानकारी हो जाती है लीक, पढ़े पूरी खबर

नई दिल्ली। Alert : गूगल पर सर्च करने से आप मुश्किल में फंस सकते हैं। कई लोग जानकारियां हासिल करने के लिए अक्सर लोग गूगल सर्च का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि यह प्लेटफार्म आसानी से जानकारियां उपलब्ध कराता है। लेकिन, क्या आपको पता है कि कुछ ऐसी भी चीजें हैं जिनको गूगल पर सर्च करने से आप मुश्किल में फंस सकते हैं। कई चीजों को सर्च करना आपके लिए परेशानी का कारण बन सकता है।

Read More : CG Job Alert : स्वास्थ्य विभाग में इन पदों पर होगी संविदा भर्ती, इस दिन होगा डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन, देखें डिटेल….

 

1. गूगल पर अपनी ई-मेल सर्च करना

अक्सर लोग अपनी ई-मेल को गूगल पर ना सर्च करते हैं. यह आपकी निजी जानकारी के लिए बेहद खतरा पैदा कर सकता है. लेकिन ऐसा न करने पर हैकर हैकिंग के जरिए आपका अकाउंट हैक और पासवर्ड हैक कर सकते हैं. जिससे आप किसी स्कैम में भी फंस सकते हैं.

2. संदिग्ध चीजों को सर्च करना

गूगल पर आपको भूलकर भी ऐसी चीजें सर्च नहीं करनी चाहिए जिनसे आपका मतलब नहीं होता. इसलिए संदिग्ध चीजों जैसे बम बनाने का तरीका आदि को सर्च न करें. क्योंकि, ऐसा करने वालों पर सायबर सेल की नजर होती है. ऐसा करने पर सुरक्षा एजेंसियां आपके खिलाफ कार्रवाई कर सकती हैं. जिसमें आपको जेल भी हो सकती है.

3. कस्टमर केयर नंबर सर्च करना

कई बार हम किसी प्रोडक्ट सें संबंधित समस्या होने पर गूगल सर्च के जरिए कस्टमर केयर को कॉल करने के लिए नंबर सर्च करते हैं. यह भी सुरक्षा के लिहाज से खतरनाक है. क्योंकि हैकर्स फर्जी हेल्पलाइन नंबर Google Search में फ्लोट करते हैं. ऐसे में जब आप उस नंबर पर कॉल करेंगे तो आपका नंबर हैकर्स के पास पहुंच जाता है. जिसके बाद हैकर्स आपको आपके नंबर पर कॉल करके साइबर क्राइम को अंजाम दे सकते हैं.

4. बार-बार अपनी पहचान गूगल पर देखना

अपनी पहचान जानने के लिए लोग गूगल सर्च का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन इससे आपकी निजी जानकारी लीक होने का खतरा बढ़ जाता है. दरअसल गूगल के पास आपकी सर्च हिस्ट्री का पूरा डेटाबेस होता है.

5. दवाईयों की जानकारी तलाशना

लोग बीमारी के इलाज ढूंढने के लिए गूगल पर दवाइयां सर्च कर रहे हैं. ऐसा करना बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. क्योंकि गलत दवाइयों का सेवन करने से आपकी तबीयत और खराब हो सकती है. साथ ही सर्च का डाटा थर्ड पार्टी को ट्रांसफर कर दिया जाता है. जिसके बाद आपको लगातार उस बीमारी और उसके ट्रीटमेंट से संबंधित विज्ञापन दिखाए जाते हैं.

Related Articles

Back to top button