Rishi Agarwal Arrest : CBI ने ABG शिपयार्ड के चेयरमैन को किया गिरफ्तार, 28 बैंकों को लगाया 22,842 करोड़ रुपए का चूना 

 

Ahmedabad : Rishi Agarwal Arrest : सीबीआई ने बुधवार को एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड के संस्थापक ऋषि कमलेश अग्रवाल को 22,842 करोड़ रुपये की कथित बैंक धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार कर लिया। ICICI बैंक के नेतृत्व में 28 बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कंपनी को लोन सुविधा दी गई थी।

अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के तहत आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी, आपराधिक विश्वासघात और आधिकारिक पद के दुरुपयोग के आरोपों में कंपनी के पूर्व अध्यक्ष अग्रवाल और अन्य के खिलाफ सात फरवरी को मामला दर्ज किया था। जांच एजेंसी ने एसबीआई की शिकायत पर यह मामला दर्ज किया था।

ऋषि कमलेश अग्रवाल को बुधवार को पूछताछ के लिए सीबीआई मुख्यालय बुलाया गया था और इस दौरान जांच में सहयोग नहीं करने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया। आईसीआईसीआई बैंक के नेतृत्व में 28 बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कंपनी को ऋण सुविधा दी गई थी, जिसमें भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा दिया गया 2,468.51 करोड़ रुपये का कर्ज शामिल है।

फ्रॉड करके लिया लोन
लेखा परीक्षक सेवाप्रदाता ‘अर्न्स्ट एंड यंग’ के फरेंसिक ऑडिट से पता चला है कि 2012 और 2017 के बीच आरोपियों ने एक-दूसरे के साथ मिलीभगत कर अवैध गतिविधियों को अंजाम दिया, जिसमें कोष का दुरुपयोग और आपराधिक विश्वासघात शामिल है। अधिकारियों ने बताया कि कर्ज की राशि का उपयोग उन उद्देश्यों के लिए नहीं किया गया, जिनके लिए उन्हें बैंकों ने जारी किया था।

2020 में दर्ज हुआ था केस
बैंक ने सबसे पहले आठ नवंबर, 2019 को शिकायत दी थी, जिस पर सीबीआई ने 12 मार्च, 2020 को कुछ स्पष्टीकरण मांगा था। इसके बाद, बैंक ने अगस्त, 2020 में नयी शिकायत दी और करीब डेढ़ साल की छानबीन के बाद सीबीआई ने सात फरवरी को मामला दर्ज किया था। एबीजी शिपयार्ड जहाज निर्माण क्षेत्र में देश की एक अग्रणी कंपनी रही है, जिसकी निर्माण इकाई गुजरात के दहेज और सूरत में है।

किन बैकों से लिया कितना लोन
अग्रवाल के अलावा तत्कालीन कार्यकारी निदेशक संथानम मुथास्वामी, निदेशक अश्विनी कुमार, सुशील कुमार अग्रवाल और रवि विमल नेवेटिया और एक अन्य कंपनी एबीजी इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड का भी नाम एफआईआर में है। भारतीय स्टेट बैंक, जिस पर कंपनी का 2,925 करोड़ रुपये बकाया है, ने इस घोटाले की शिकायत दर्ज कराई थी। अन्य बैंकों में आईसीआईसीआई बैंक (7,089 करोड़ रुपये), आईडीबीआई बैंक (3,634 करोड़ रुपये), बैंक ऑफ बड़ौदा (1,614 करोड़ रुपये), पीएनबी (1,244 करोड़ रुपये और आईओबी (1,228 करोड़ रुपये)) शामिल हैं।

सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन CBI ने बुधवार (21 सितंबर) को ABG शिपयार्ड लिमिटेड के फाउंडर-चेयरमैन ऋषि कमलेश अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया है। CBI ने ऋषि को 22,842 करोड़ रुपए से ज्यादा की कथित बैंक धोखाधड़ी के मामले में अरेस्ट किया है।

CBI ने इंडियन पीनल कोड (IPC) और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और आधिकारिक पद के दुरुपयोग के कथित अपराधों के लिए कंपनी के पूर्व चेयरमैन अग्रवाल और अन्य पर मामला दर्ज किया था।

बैंकों का 22,842 करोड़ रुपए बकाया
कंपनी को ICICI बैंक के नेतृत्व में 28 बैंकों और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट्स से क्रेडिट फैसिलिटी मिली थी। शिपिंग कंपनी पर ICICI बैंक का 7,089 करोड़ रुपए, SBI का 2,925 करोड़ रुपए, IDBI बैंक का 3,634 करोड़ रुपए, बैंक ऑफ बड़ौदा का 1,614 करोड़ रुपए, पंजाब नेशनल बैंक का 1,244 करोड़ रुपए, एक्जिम बैंक का 1,327 करोड़ रुपए, इंडियन ओवरसीज बैंक का 1,228 रुपए और बैंक ऑफ इंडिया का 719 करोड़ रुपए बकाया है। इसके अलावा कुछ अन्य बैंकों का भी बकाया है।

 

Related Articles

Back to top button