CG Breaking : SSP की कड़ी कार्रवाई, महिला ASI सस्पेंड, हेड कांस्टेबल पर भी गिरी गाज, जानें पूरा मामला…

CG Breaking

 

बिलासपुर । GPF खातों से 59 लाख की ठगी मामले में बिलासपुर SSP ऑफिस में पदस्थ ASI मधुशिला सुरजाल को सस्पेंड और हेड कांस्टेबल संजय श्रीवास्तव को बर्खास्त कर दिया गया है। दोनों ने मिलकर ही ठगी की घटना को अंजाम दिया था। सिविल लाइन थाने में दोनों पर 409, 420, 467, 468, 471 और 120 के तहत मामला दर्ज था। दो दिन पहले ही पुलिस ने हेड कॉन्स्टेबल संजय श्रीवास्तव को गिरफ्तार किया गया था।

मिली जानकारी के अनुसार एएसआई ( एम) के पद पर मधुशीला सुरजाल पदस्थ है। मधुशीला सुरजाल लंबे समय से फंड शाखा की रकम में हवलदार संजय श्रीवास्तव के साथ मिलकर रकम की हेरफेर कर रही थी। रूटीन में फाइलों के अवलोकन के दौरान एसएसपी पारुल माथुर की नजर इन गड़बड़ियों पर पड़ी। दस्तावेजों में काफी कांट-छांट एसएसपी को दिखी। पता चला कि जीपीएफ़ समेत अन्य मद में रकम निकालने के लिए यदि कोई पुलिस कर्मचारी आवेदन देता है तो उसमें कूटरचना कर के कही अधिक रकम फंड प्रभारी मधुशीला सुरजाल के द्वारा निकाल ली जाती है। प्रथम दृष्टया ही मामला संदेहास्पद प्रतीत होने पर एसएसपी पारुल माथुर ने फंड शाखा प्रभारी मधुशीला सुरजाल को लाइन अटैच करते हुए डीएसपी हेड क्वार्टर राजेश श्रीवास्तव को मामले की जांच सौपी।

 

 

READ MORE :India Book of Records : 51 बच्चों ने 33 मिनट में बनाई श्री गणेश की इतनी पेटिंग, इंडिया बुक में दर्ज कराया अपना नाम

 

 

डीएसपी की जांच में पता चला कि फंड शाखा प्रभारी ने बेलगहना चौकी में पदस्थ प्रधान आरक्षक संजय श्रीवास्तव ने मधुशीला सुरजाल के साथ मिलकर बीमा फॉर्म के जीपीएफ के लाखों रुपये की हेराफेरी की है। हवलदार ने बिना फॉर्म के जीपीएफ के 15 लाख, 75 हजार रुपये निकाल कर गबन कर दिया। फंड शाखा से दस्तावेज मंगवा कर जांच करने में पता चला कि दस्तावेजों में काफी कांट- छांट की गई है। जांच में यह भी पाया गया कि कई पुलिसकर्मियों के जीपीएफ फंड से राशि निकाली गई हैं। वही कुछ पुलिसकर्मियों के जीपीएफ फंड की राशी निकालने के बाद वापस जमा की गई है।

 

यह भी तथ्य स्प्ष्ट हुआ डीआईजी सह पुलिस एसएसपी पारुल माथुर के फर्जी हस्ताक्षर के अलावा बैंक के फर्जी सील व चालान का इस्तेमाल भी फर्जीवाड़े में किया गया है। जांच रिपोर्ट डीएसपी हेडक्वार्टर राजेश श्रीवास्तव ने एसएसपी को सौपीं। जिस पर एसएसपी पारुल माथुर ने सिविल लाइन थाना प्रभारी को निर्देशित कर तीन दिन पहले ही गबन, धोखाधड़ी, कूटरचना, आपराधिक षड्यंत्र के मामलें में धारा 409, 420, 467, 468, 471, 120 बी के तहत जुर्म दर्ज करवाया। जुर्म दर्ज होने के बाद बेलगहना चौकी में पदस्थ प्रधान आरक्षक संजय श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। वही फंड शाखा प्रभारी के पद पर पदस्थ मधुशीला सुरजाल एएसआई (एम) फरार हो गई जिसकी तलाश पुलिस कर रही है।

 

 

Related Articles

Back to top button