CG Crime : चरित्र शंका में पति ने प्रेग्नेंट बीवी को 17 बार चाक़ू मारकर उतारा मौत के घाट, देने वाली थी दूसरे बच्चे को जन्म, पुलिस ने किया गिरफ्तार   

 

 

कोरबा। CG Crime इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला कोरबा जिला से सामने आया है। पति ने अपनी ही प्रेग्नेंट बीवी को चरित्र शंका के चलते 17 बार चाक़ू वार कर मौत के घात उतार दिया। घटना अप्रैल महीने में सामने आई थी उस वक्त आरोपी पुलिस को लगतार गुमराह करने का काम करता रहा। जिसके बाद पोस्ट मार्टम में प्राप्त जानकारी अनुसार पुलिस की कार्यवाही में पति को आरोपी माना और गिरफ्तार कर लिया।
आरोपी पति ने पहले पत्नी पर जानलेवा हमला किया। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया। वह लगातार पुलिस को भी गुमराह करता रहा, लेकिन कानून के लंबे हांथों से वह ज्यादा दिन तक बच नहीं पाया। पुलिस द्धारा पूछे जाने पर आरोपी कहता था कि उसने खुद पर चाकू मार कर जान देनी की कोशिश की है।
उसे तड़पता देख रात लगभग 1 बजे वो खुद बाइक में लेकर अस्पताल पहुंचा है।  नवविवाहिता बयान देने योग्य नहीं थी, उसकी हालत नाज़ुक थी। उसका उपचार जारी था जिसके कुछ दिनों बाद उसकी मौत हो गई।  पुलिस ने शव का पंचनामा कार्रवाई कर पोस्ट मार्टम करवाया।
aad
मीडिया जानकारी के अनुसार, उसने खुद के ऊपर चाकू मार कर घायल नहीं किया था, बल्कि उसके ऊपर किसी ने हमला कर घायल किया है। रिपोर्ट आने के बाद जब रामपुर चौकी पुलिस ने जांच कार्रवाई शुरू की तो पता चला कि उसके पति ने ही चाकू से हमला कर घायल किया था।
कड़ाई से पुलिस द्धारा पूछताछ की जाने पर आरोपी ने घटना को अंजाम देना स्वीकार कर लिया। जिले की रामपुर पुलिस ने उस आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी शिव प्रकाश और उसकी पत्नी ममता खपराभट्टा में रहते थे। दोनों को 5 साल का पुत्र है और दूसरे बच्चे को जन्म देने वाली थी।
मृतिका के मूल रूप से बिहार की रहने वाली थी। मृतिका के परिजन उसे घटना दिनांक के बाद उससे मिलने भी आये थे, लेकिन उसकी हालत देख वो भी काफी दुखी हो गए और वो भी वापस अपने घर लौट गए थे। फिलहाल रामपुर चौकी पुलिस ने आरोपी पति शिव को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है।

महिलों के खिलाफ जुर्म : NCRB

एनसीआरबी की रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध की दर (प्रति 1 लाख जनसंख्या पर घटनाओं की संख्या) 2020 में 56.5 प्रतिशत से बढ़कर 2021 में 64.5 प्रतिशत हो गई।

Related Articles

Back to top button