Facebook Gaming : गेमिंग की दुनिया से बैकफुट करने जा रही है फेसबुक, लॉन्च के दो साल बाद लिया बड़ा फैसला 

New Delhi : Facebook Gaming विश्वप्रसिद्ध सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक गेमिंग की दुनिया में सफल होने में असमर्थ रहे है। मेटा के स्वामित्व वाली इस कंपनी ने मंगलवार को एक बड़ी घोषणा की। कंपनी का कहना है कि, गेमिंग स्ट्रीमिंग बाजार में प्रतिस्पर्धा करने में असमर्थ होने पर वह अपने गेमिंग ऐप को बंद करने की तैयारी में है और इस जल्द ही बंद कर दिया जाएगा।

बता दें कि इस ऐप को 2 साल पहले बड़े स्तर पर लॉन्च किया गया था। यह प्लेटफॉर्म यूजर्स को ऑन-डिमांड वीडियो गेम देखने और खेलने देता है। कंपनी ने जानकारी दी कि 28 अक्टूबर 2022 से यह ऐप एंड्रॉयड या आईओएस पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध नहीं होगा। हालांकि फेसबुक ऐप के माध्यम से इसे आगे भी एक्सेस किया जा सकेगा।

यूज़र्स को कंपनी ने मैसेज के जरिए दी सुचना – Facebook Gaming

फेसबुक ने अपने यूजर्स के लिए एक अपडेट में कहा, ” इस ऐप के लॉन्च होने के बाद से गेमर्स और प्रशंसकों के लिए एक संपन्न कम्युनिटी बनाने के लिए आपने जो कुछ भी किया है, उसके लिए हम आप सभी का दिल से धन्यवाद देना चाहते हैं।”

कंपनी ने आगे कहा है कि “बेशक हमने इसे बंद करने की तैयारी की है, लेकिन इस खबर के बावजूद, खिलाड़ियों, प्रशंसकों और क्रिएटर्स को उनके पसंदीदा गेम से जोड़ने का हमारा मिशन नहीं बदला है, और जब भी आप फेसबुक ऐप में गेमिंग पर जाएंगे, तब भी आप अपने गेम, स्ट्रीमर और ग्रुप को ढूंढ पाएंगे।”

2020 में कोरोना काल को भुनाने के लिए किया था लॉन्च – Facebook Gaming

फेसबुक ने अप्रैल 2020 में बाजार में एक प्रमुख खिलाड़ी ट्विच के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए अपना गेमिंग ऐप लॉन्च किया था। ऐप कोरोना काल को भुनाना चाहता था,  क्योंकि तब यूजर्स अपने घरों में कैद थे और गेम खेलने के लिए नए प्लेटफॉर्म की तलाश कर रहे थे। हालांकि कंपनी ने जो सोचा था वैसा परिणाम नहीं आया. फेसबुक ने इसे खड़ा करने के लिए कई कोशिशें कीं। उसने ब्राजील के फुटबॉलर नेमार जूनियर और डिगुइज्ड टोस्ट, रमी जैसी हस्तियों को अपने साथ जोड़ा, लेकिन कंपनी को इसका फायदा नहीं मिला।

गेमिंग में 7.9 फीसदी ही थी फेसबुक की हिस्सेदारी – Facebook Gaming

मार्केट रिसर्च फर्म स्ट्रीमलैब्स के आंकड़ों के मुताबिक, दूसरी तिमाही में गेमिंग मार्केट में ट्विच का दबदबा 76.7 फीसदी था। इसके बाद यूट्यूब 15.4 फीसदी हिस्सेदारी के साथ दूसरे नंबर पर था, जबकि फेसबुक गेमिंग में केवल 7.9 फीसदी पर ही सीमित रहा। ऐसा नहीं है कि फेल होने पर गेमिंग क्षेत्र से बाहर निकलने वाली फेसबुक एकमात्र हाई-प्रोफाइल कंपनी है। इससे पहले Microsoft के स्वामित्व वाली गेमिंग स्ट्रीमिंग सेवा मिक्सर भी इस फील्ड में फ्लॉप हो चुकी है।

Related Articles

Back to top button