CG News : अब रात 10 बजे के बाद नहीं बजा सकेंगे डीजे-धुमाल, प्रशासन ने ली बैठक…

CG News

रायपुर। CG News गणेशोत्सव पर्व के मद्देनजर राजधानी पुलिस व प्रशासन ने शहर में शांति व्यवस्था स्थापित करने एवं सुगम यातायात व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिले में संचालित होने वाले डीजे धुमाल संचालकों की बैठक ली गई। जिसमें शहर के लगभग 70-80 डीजे-धुमाल संचालक उपस्थित हुए।

Read More : CG News : बैकुंठ में मनाया राष्ट्रीय खेल दिवस, प्रतिभागियों को ईनाम व प्रमाण पत्र दिया…

बैठक के दौरान अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी एनआर साहू ने उपस्थित डीजे धुमाल संचालकों को उच्चतम न्यायालय द्वारा डीजे धुमाल संचालन के संबंध में जारी दिशानिर्देशों के बारे में अवगत कराते हुए नियमानुसार डीजे धुमाल संचालन करने समझाइश दी गई। साथ ही डीजे संचालन के दौरान किसी भी संप्रदाय के भावनाओं को आहत करने वाला गाना नहीं बजाने के निर्देश दिए गए।

CG News

बैठक के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर रायपुर सुखनंदन राठौर द्वारा उपस्थित डीजे धुमाल संचालको बताया कि उच्च न्यायालय के दिशा-निर्देश अनुसार रात्रि 10 बजे के बाद डीजे धुमाल बजाना प्रतिबंधित होगा। रात 10 बजे के बाद डीजे धुमाल बजते पाए जाने पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। निर्धारित मापदंड के अनुरूप ही डीजे धुमाल बजाएंगे मापदंड के अनुरूप तेज आवाज में बजाते पाए जाने पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

Read More :CG News : शराब के नशे में युवक कमल फूल तोड़ने गया तालाब, डूबने से हुई मौत…

साइलेंट जोन हॉस्पिटल स्कूल मंदिर के आसपास डीजे संचालन प्रतिबंधित रहेगा साइलेंट जोन पर डीजे संचालन किए जाने पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। यदि किसी आयोजक द्वारा जोर जबरदस्ती पूर्वक डीजे धुमाल संचालित करने के लिए बाध्य किया जाता है तो उसकी सूचना संबंधित थाने में पुलिस कंट्रोल को देंगे ताकि संबंधित के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जा सके।

aad

बाहर जिले से आकर नियमों का उल्लंघन कर डीजे धुमाल संचालन किए जाने वालो की सूचना संबंधित थाने एवं पुलिस कंट्रोल को दें ताकि संबंधित के खिलाफ भी नियमानुसार कार्यवाही की जा सके। मालवाहक वाहनों में डीजे बॉक्स साउंड सिस्टम बांधना प्रतिबंधित है ऐसा करते पाए जाने पर कार्यवाही की जाएगी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात रायपुर जयप्रकाश बढ़ाई द्वारा बैठक के दौरान उपस्थित डीजे धुमाल संचालकों को निर्देशित किया गया कि अधिकांश डीजे धुमाल संचालक मालवाहक वाहनों में बॉडी के बाहर बॉक्स एवं चूंगा लगाकर बजाते हैं।

Read More : CG News : 3 माह में आवारा कुत्तों ने 4 चीतलों का किया शिकार, झुंड से टकराकर युवक की मौत…

साथ ही बीच रोड में निकाल कर डीजे संचालित करते हैं जिससे मार्ग यातायात बाधित होती है, जिससे जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। ऐसी स्थिति होने पर संबंधित डीजे संचालक एवं आयोजक दोनों के खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। अतः कार्यवाही से बचने नियमों का पालन करते हुए डीजे संचालन करने निर्देशित किया गया।

Read More : CG News : नहाने के दौरान दो बच्चे गहरे नदी में डूबे, एक का शव बरामद, दूसरे की तलाश जारी…

ध्वनि प्रदूषण 4 श्रेणियों में होता है
बैठक के दौरान प्रदूषण विभाग से आए अधिकारी द्वारा भी उपस्थित डीजे धुमाल संचालकों को ध्वनि प्रदूषण के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ध्वनि प्रदूषण चार श्रेणियों में होता है। आवासीय औद्योगिक शहरी एवं साइलेंट जो आवासी क्षेत्रों में 65 डेसीबल औद्योगिक क्षेत्रों में 75 डेसीबल साइलेंट जोन में 50 डेसीबल एवं रहवासी क्षेत्र में 60 डेसिबल से अधिक आवाज में डीजे धुमाल बजाना प्रदूषण की श्रेणी में आता है। जिस पर प्रशासन एवं पुलिस द्वारा वैधानिक कार्यवाही की जा सकती है। अतः डीजे संचालन के दौरान उक्त नियमों का पालन करते हुए संचालक करने की समझाइश दी गई।

Related Articles

Back to top button