छत्तीसगढ़ में Virus Attack, कोरोना सहित तीन अन्य वायरस ने मचाया कोहराम, अब तक 72 लोगों ने गवाई जान…

 

Dangerous Virus

 

रायपुर, Virus Attack: छत्तीसगढ़ में बीते एक पखवाड़े से जिस रफ्तार से कोरोना महामारी ने दोबारा से अपने पांव पसारे है वो बेहद विचलित कर देने वाली स्थिति है क्योंकि कोरोना की पॉजिटिविटी रेट लगातार 4% से ऊपर बनी हुई हैं जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक खतरनाक स्तर के बेहद करीब है और बीते दो सालों के दौरान कोरोना महामारी की वजह से प्रदेश के 14 हजार 72 लोगों की जाने जा चुकी हैं।

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक जनवरी 2022 से तीन अगस्त 2022 तक डेंगू के 859 मरीज मिल चुके हैं। इसमें से 704 मरीज केवल बस्तर जिले में ही सामने आ चुके। यह आंकड़ा इसलिए खतरनाक है कि यह पिछले तीन साल में सबसे अधिक मरीजों का आंकड़ा है। 2020 में पूरे साल भर के दौरान डेंगू के केवल 57 केस मिले थे। 2021 में जनवरी से सितम्बर के बीच 740 मरीज मिले थे। उस साल कुल एक हजार 86 मरीजों की पहचान हुई थी। जबकि इस साल जनवरी से अगस्त के तीन तारीख तक ही 859 मरीज मिल चुके हैं। वहीं तीन लोगों की मौत भी हुई है। स्वास्थ्य विभाग इन्हें संदिग्ध मान रहा है क्योंकि उन्हें डेंगू के साथ अन्य बीमारियां भी थीं। कहा जा रहा है डेथ ऑडिट के बाद ही इसे पूरी तरह कंफर्म किया जा सकता है। बस्तर संभाग के जिलों में इसका खतरा अभी भी बेहद बढ़ा हुआ है।

 

 

 

 

कोरोना महामारी का आंकड़ा भी खतरनाक ढंग से बढ़ रहा है। बुधवार को ही दिन भर में 501 नए मामले सामने आ गए। महामारी की संक्रमण दर इस समय 4.34% तक पहुंच गई है। इससे पहले यह 6% का आंकड़ा भी छू चुकी है। बुधवार को कोरोना की वजह से जांजगीर-चांपा के एक मरीज की जान भी गई है। प्रदेश में अब तक 14 हजार 71 लोगों की जान कोरोना महामारी की वजह से जा चुकी है। वहीं 11 लाख 67 हजार 517 लोग अब तक इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। जून के बाद से संक्रमण फिर से बढ़ना शुरू हुआ है। मानसून के साथ इसका दायरा भी बढ़ा। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि बरसात के मौसम में सामान्य तौर पर सर्दी-जुकाम होता रहता है। लोग संक्रमण की स्थिति में भी सामान्य सर्दी-जुकाम मानकर समय से जांच और इलाज नहीं करा रहे हैं। इसकी वजह से भी यह संक्रमण फैल रहा है।

 

 

 

रायगढ़ में एक तरफ कोरोना को लेकर कलेक्टर ने जारी किया नया फरमान तो दूसरी तरफ एक ही स्थान पे दो दो मीना बाजार के आयोजन की अनुमति

यही हाल रायगढ़ जिले में भी है जहां संक्रमण की दर औसत रूप से 5% के करीब बनी हुई हैं जिसकी वजह से कल कलेक्टर रानू साहू द्वारा कंटेनमेंट जोन बनाने को लेकर नए दिशा निर्देश भी जारी किए गए हैं लेकिन इस प्रशासनिक फरमान को लेकर जनचर्चा यह भी चल रही है कि जब कोरोना को लेकर जिला प्रशासन इतना संवेदनशील है तो फिर एक ही स्थान पर दो दो मीना बाजार जैसे अति भीड़ भाड़ वाले आयोजन की अनुमति कैसे दे दी गई ?

क्योंकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों का स्पष्ट रूप से मानना है कि अबाध यात्राओं और भीड़-भाड़ वाले आयोजनों का बढ़ना भी इसकी एक बड़ी वजह बताया जा रहा है।

स्वाइन फ्लू के 14 केस मिल गए

इस बीच एक नई बीमारी स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी है। एच 1 एन 1 इंफ्लुएंजा वायरस के इस संक्रमण से 14 लोग प्रभावित हुए हैं। उनमें से केवल तीन को इलाज के बाद छुट्‌टी मिली है। 11 लोगों का इलाज अभी भी जारी है। चिंता इसलिए बढ़ी है कि स्वास्थ्य विभाग को इस बीमारी का पता बहुत देर में लगा है। बताया जा रहा है कि कई लोगों में यह बीमारी करीब 20 दिन पहले ही सामने आ गई थी। इसको मंगलवार को कंफर्म किया गया। उसके बाद इलाज के प्रोटोकॉल जारी हुए। ऐसे में मरीजों के संपर्क में आए लोगों की पहचान नहीं हो पाई है। संक्रमण कहां से आया यह भी फिलहाल पता नहीं है। आशंका है कि 15-20 दिनों में संक्रमण व्यापक रूप से फैला होगा।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button