स्वतंत्रता सेनानी एवं शहीद परिवार ने राष्ट्रपति के नाम लिखा पत्र, परिजनों और उनके संरक्षण के लिए दिए महत्वपूर्ण सुझाव

नई दिल्ली। देश को आजादी दिलाने वाले स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के परिजनों ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नाम पत्र लिख स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के सम्मान और परिजनों के संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं। पत्र के माध्यम से उन्होंने आजादी का अमृत महोत्सव मनाए जाने के लिए राज्य एवं केंद्र सरकार का आभार व्यक्त किया हैं। इस मुहीम के तहत स्वतंत्रता सेनानी / शहीद परिवारों के द्वारा भी अपने पूर्वजों के सम्मान में अमृत महोत्सव के अन्तर्गत देशभर में विविध कार्यक्रम आयोजित किए गए।

Read More : Big News : लश्कर-ए-तैयबा के निशाने पर कई बड़े नेता, IB ने पुलिस को किया अलर्ट, स्वतंत्रता दिवस पर हो सकता है हमला…

 

स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के परिजनों ने स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से कार्यान्वित करने की प्रधानमंत्री द्वारा घोषणा करने की अपील भी की हैं । देश के इन धरोहर को के सम्मान को सहेजने के लिए राष्ट्रपति के नाम पत्र लिखा गया हैं। अगर इन सुझाओं पर अमल किया जाता है तो यह भारत सरकार द्वारा अमृत महोत्सव वर्ष की आजादी के दीवानों के लिए सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

पत्रके माधयम से दिए गए ये सुझाव

  • ” स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्मारक की स्थापना महामहिम पिछले काफी समय से स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी परिवार समिति ( रजि . ) द्वारा केन्द्र सरकार से दिल्ली क्षेत्र में शहीद स्मारक की भांति ” स्वतंत्रता संग्राम सेनानी राष्ट्रीय स्मारक ” की स्थापना का अनुरोध किया जाता रहा है , हमारा अनुरोध है कि राष्ट्रीय स्मारक बनाने की घोषणा माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2022 को लाल किले की प्राचीर से किया जाए ।
  • ” संवैधानिक संस्थाओं में मनोनयन ” महामहिम स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों तथा उनके उत्तराधिकारी परिवारों की समस्याओं की ओर सरकारों का ध्यान आकृष्ट किया जा सके , इसके लिए आवश्यक है कि राज्यसभा , विधान परिषदों तथा नगर निकायों में सेनानी उत्तराधिकारी परिवारों को भी मनोनीत करने का प्रावधान किया जाए ।
  • ” स्वतंत्रता सेनानी परिवार आयोग का गठन महामहिम सेनानी परिवारों के संरक्षण के लिए भारत सरकार में एक अलग से ” स्वतंत्रता सेनानी परिवार आयोग का गठन किया जाए , ताकि आर्थिक दृष्टि से कमजोर सेनानी परिवारों के आंसू पोंछे जा सकें एवं सेनानी तथा शहीद परिवारों की तात्कालिक समस्याओं का समुचित समाधान किया जा सके ।
  • ” राष्ट्रीय परिवार का दर्जा दिया जाना ” महामहिम स्वतंत्रता सेनानी / शहीद परिवारों को ” राष्ट्रीय परिवार घोषित किया जाए तथा
  • ” केन्द्र सरकार द्वारा आन लाइन परिचय पत्र जारी किया जाए ।
  • महामहिम स्वतंत्रता सेनानी के निधन के बाद उन्हें दी जाने वाली सम्मान पेंशन तथा अन्य सुविधाएं उनके परिवारों को हस्तांतरित किया जाए ।
  • ” पाठ्यक्रम में जीवनी को शामिल किया जाना ” आदरणीया स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की स्मृतियों को चिरस्थाई बनाने के लिए स्थानीय स्तर पर विद्यालयों में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों / शहीदों की जीवनी को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए ।
  • भारत सरकार द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की गठित एमिनेंट कमेटी में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के साथ ही सेनानी परिवारों के हितों की रक्षा के लिए संघर्षरत संगठनों के प्रतिनिधियों को भी मनोनीत किया जाए , क्योंकि अब बहुत कम ही ऐसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शेष हैं जो आयु की दृष्टि से गृह मंत्रालय द्वारा आयोजित बैठकों में शामिल होकर भारत सरकार को सेनानी परिवारों की समस्याओं पर सुझाव देने की स्थिति में हों ।
  • ” लम्बित मामलों का शीघ्र निस्तारण किया जाए ” महामहिम स्वतंत्रता सेनानी परिवारों के गृहमंत्रालय तथा विभिन्न न्यायालयों सहित उच्चतम न्यायालय में लम्बित सभी प्रकरणों को सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए तत्काल निस्तारण किया जाए।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button