Shiva Purana : सृष्टि के आरम्भ में ब्रम्हा जी के थे 4 नहीं 5 सिर, भगवान शिव ने दी उनकी गलती की सजा, जानिए इसके पीछे की वजह

Shiva Purana

रायपुर। Shiva Purana पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ब्रम्हदेव को सृष्टि के रचयिता कहा जाता हैं। ब्रह्मा जी के चार सिर हैं इसे तो होंगे। ब्रम्हदेव के हर मुख से एक वेद की रचना की है और इस तरह से चार वेद हुए हैं। लेकिन बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि सृष्टि के आरंभ में ब्रह्मा जी के पांच मुख थे और अगर ये बने रहते तो शायद पांच वेदों की रचना होती। एक बार उन्होंने इसी पांचवें मुख ने झूठ बोला था जिसके दंडस्वरूप भगवान भोले नाथ ने भैरव को आदेश देकर इसे कटवा दिया। इस कथा का वर्णन शिव पुराण में मिलता है। आइए बताते हैं।

Read More : Lord Shiva’s favorite zodiac sign : महादेव के बेहद करीब होते है ये 3 राशि वाले, देखें क्या आप भी हैं इस लिस्ट में शामिल..

 

एक बार भगवान विष्णु शेष शय्या पर शयन कर रहे थे। तभी वहां ब्रह्मा जी पहुंचे। उन्होंने उन्हें पुत्र कहकर संबोधित किया खुद को उनका ईश्वर कहा। भगवान विष्णु इस बात से क्रोधित हो गए और कहा कि तुम तो मेरे नाभिकमल से पैदा हुए हो, इसलिए तुम्हारा ईश्वर तो मैं ही हूं। इसके बाद दोनों के के बीच युद्ध शुरू हो गया। यह देखकर अन्य देवगण घबरा गए और शिव जी के पास पहुंचे। ब्रह्मा जी ने खुद को ईश्वर साबित करने के लिए झूठ का सहारा लिया था। आकाश से केतकी का फूल लाकर कहा – मैंने आदि का अंत पा लिया है।

Read More : Nayantara-Vignesh Shivan Wedding pics: सामने आई नयनतारा और विग्नेश शिवन के शादी की पहली तस्वीर, लाल जोड़े में बेहद खूबसूरत दिखी एक्ट्रेस…

 

उनका छल देख शिव जी तुरंत प्रकट हो गए भैरव की उत्पत्ति करके उन्हें झूठ बोलने वाले ब्रह्मा को दंड देने का आदेश दिया। भैरव ने अपनी तलवार से तुरंत ब्रह्मा जी का वह सिर काट दिया। जिससे उन्होंने झूठ बोला था। भोलेनाथ सब पहले से ही जानते थे। उन्होंने देवताओं को आश्वस्त किया और युद्धस्थल पर पहुंचे। देखा जाए तो दोनों ईश्वर एक दूसरे पर माहेश्वर पाशुपत अस्त्र चला चुके थे। शिव जी ने तुरंत लिंग रूप धारण किया दोनों अस्त्रों के बीच जा खड़े हुए। लिंग का स्पर्श पाते ही दोनों अस्त्र शांत हो गए। लिंग का ओर-छोर नहीं दिख रहा था। आदि अंत जानने के लिए ब्रह्मा जी हंस रूप में आकाश की ओर तो विष्णु जी शूकर रूप में पाताल को निकले, पर आदि अंत न मिला।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button