All-rounder retirement : भारत का यह दिग्गज आलराउंडर भी ODI को कहेगा अलविदा! अभी है टीम के अहम खिलाड़ी, रवि शास्त्री ने कहा- 2023 वर्डकप…

All-rounder retirement 

नई दिल्ली। All-rounder retirement कुछ दिन पहले दुनिया के बेहतरीन आलराउंडर बेन स्टोक्स ने ODI क्रिकेट को अलविदा कह दिया हैं। वही अब ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि भारतीय टीम के बेन स्टोक्स भी ODI क्रिकेट को जल्द ही छोड़ देंगे। हम बात कर रहे है टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक की। एक बार विराट कोहली ने कहा था कि भारत के हार्दिक पांड्या के पास वो सब करने की क्षमता मौजूद है जो इंग्लैंड के लिए बेन स्टोक्स करते हैं।

आज हार्दिक पांड्या उतने ही क्षमतावान हैं जितने की बेन स्टोक्स। उनको हालांकि टेस्ट क्रिकेट में जगह कभी मिल पाएगी या नहीं, यह देखने वाली बात होगी। लेकिन भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री को लगता है कि हार्दिक किसी एक फॉर्मेट को अलविदा कहने वाले हैं। जैसे बेन स्टोक्स ने वनडे को विदा दी है, ऐसे ही हार्दिक भी दे सकते हैं। शास्त्री को लगता है कि तेजतर्रार ऑलराउंडर 2023 एकदिवसीय विश्व कप के बाद 50 ओवर के प्रारूप को अलविदा कह सकते हैं।

Read More : Retirement : भारत की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर ने लिया सन्यास, विश्व कप में खेला था आखिरी मैच

 

टीम इंडिया के पूर्व कोच रवि शास्त्री ने कमेंट्री के दौरान कहा कि, “50 ओवर का खेल तब भी जीवित रह सकता है जब आप सिर्फ विश्व कप पर ध्यान दें। आईसीसी को विश्व कप को सर्वोपरि महत्व दिया जाना चाहिए, चाहे टी20 विश्व कप हो या 50 ओवर का विश्व कप। टेस्ट क्रिकेट हमेशा बना रहेगा।” शास्त्री ने कहा कि हार्दिक अपने विचार में बहुत स्पष्ट हैं कि वह टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं और अन्य प्रारूपों पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं। “आपके पास खिलाड़ी पहले से ही चुन रहे हैं कि वे कौन से प्रारूप खेलना चाहते हैं। हार्दिक पांड्या को ही लीजिए। वह टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं और उनके मन में बिल्कुल साफ है कि ‘मैं और कुछ नहीं खेलना चाहता।’

शास्त्री ने कहा, “50 ओवर का खेल तब भी जीवित रह सकता है जब आप सिर्फ विश्व कप पर ध्यान दें। आईसीसी को विश्व कप को सर्वोपरि महत्व दिया जाना चाहिए, चाहे टी20 विश्व कप हो या 50 ओवर का विश्व कप। टेस्ट क्रिकेट हमेशा बना रहेगा।” शास्त्री ने कहा कि हार्दिक अपने विचार में बहुत स्पष्ट हैं कि वह टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं और अन्य प्रारूपों पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं। “आपके पास खिलाड़ी पहले से ही चुन रहे हैं कि वे कौन से प्रारूप खेलना चाहते हैं। हार्दिक पांड्या को ही लीजिए। वह टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं और उनके मन में बिल्कुल साफ है कि ‘मैं और कुछ नहीं खेलना चाहता।’

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button