Shocking News : नौजवान हुए ऐसी लत का शिकार की सुनकर नहीं कर पाएंगे यकीन, कंडोम को बनाया नशे का साथी, अचानक व्यपार बढ़ने पर हुआ खुलासा 

 

कोलकता। Shocking देश भर में आज कल की युवा पीढ़ी गांजा, चरस, एमडीएमए, एलएसडी, हेरोइन के चंगुल में फंसते चले जा रहे है। बॉलीवुड (Bollywood) से लेकर तमाम मीडिया पर प्रदर्शित होने वाली आदतों को भी युवा आज कल कॉपी करते है। युवा फ़िल्मी सितारों (Film Celeb) को कॉपी करते हुए भूल जाते है कि यह उन्हें भ्रमहित करता हुआ चला जाएगा।

ऐसा मामला पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर शहर से सामने आया है जहां युवाओं को इन दिनों अजीबोगरीब लत लगी है। युवा इन दिनों नशे के लिए कंडोम को उपयोग में ला रहे है। वैसे तो कंडोम (Condom) असुरक्षित यौन संबंधों से बचाने के काम आता है, लेकिन यहां के युवक इसका इस्तेमाल मादक पदार्थ की तरह कर रहे हैं।

अचानक व्यापर बढ़ने पर हुआ खुलासा

बीते कुछ दिनों में शहर के दुकानों पर कंडोम की बिक्री (Condom Sales) में भारी इजाफा हुआ है। कई दुकानों पर तो स्टॉक आने के कुछ ही घंटे बाद खत्म हो जा रहा है। नशे करने के लिए कंडोम इस्तमाल में लाने से हर कोई परेशान और हैरान है। नौजवानों में इस नई लत से प्रशासन की भी चिंता बढ़ रही है।

मिली जानकारी अनुसार, पिछले कुछ दिनों में दुर्गापुर के विभिन्न इलाकों जैसे दुर्गापुर सिटी सेंटर, बिधाननगर, बेनाचिती और मुचिपारा, सी जोन, ए जोन में फ्लेवर्ड कंडोम (Flavoured Condom) की बिक्री में भारी वृद्धि हुई है। अचानक इस बढ़ोतरी से हैरान एक स्थानीय दुकानदार ने अपने यहां से बार-बार कंडोम खरीद रहे एक युवक से इसकी वजह पूछी। तो उसने हैरान करने वाला जवाब दिया कि वह नशे के लिए इन्हें खरीदता है। दुर्गापुर (Durgapur) के एक मेडिकल स्टोर संचालक ने बताया कि पहले रोजाना कंडोम के 3 से 4 पैकेट ही बिकते थे लेकिन अब पूरे के पूरे पैक बिक रहे हैं।

इस तरह युवा करते है कंडोम का नशा

कंडोम का प्रयोग करने वाले युवा किस तरह से इसका इस्तमाल करते है, इस बात की जानकारी दुर्गापुर के मंडल अस्पताल में काम करने वाले धीमान मंडल ने बताया। उनका कहना था कि कंडोम में कुछ सुगंधित यौगिक (Aromatic Compound) होते हैं। अल्कोहल बनाने के दौरान ये टूट जाते हैं. ये लत लगाने वाले होते हैं. इनसे नशा जैसा महसूस होता है। उन्होंने बताया कि यह सुगंधित यौगिक डेंड्राइट गोंद में भी पाया जाता है। बहुत से लोग डेंड्राइट (dendrites) का भी नशे के लिए इस्तेमाल करते हैं।

दुर्गापुर आरई कॉलेज मॉडल स्कूल केमिस्ट्री के टीचर नूरुल हक ने बताया कि कंडोम को गर्म पानी में लंबे समय तक भिगोने से बड़े कार्बनिक अणु अल्कोहल यौगिक (Organic Molecules Alcohol Compounds) में टूट जाते हैं, जिससे नशा होता है। नशे के लिए अजीबोगरीब चीजों के इस्तेमाल का ये पहला मामला नहीं है। 21वीं सदी के मध्य में नाइजीरिया में टूथपेस्ट और जूते की स्याही की बिक्री अचानक 6 गुना तक बढ़ गई थी। लोग इनका इस्तेमाल नशे के लिए करने लगे थे।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button