Heatwave : गर्मी से हाल हुआ बेहाल, सड़कों पर पसरा सन्नाटा, घास तक जल गई, अब तक हजारों की मौत…

 

Heatwave

 

 

 

 

ब्रिटेन में इस बार गर्मी (Heatwave) ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए है. आने वाले दिनों में पारे में बढोतरी के पूर्वानुमान लगाए जा रहे हैं. इसके 40 ड्रिगी सेल्सियस तक पहुंचने की बात कही जा रही है. ब्रिटेन के मौसम विभाग ने ट्विटर पर कहा अगर पुष्टि हुई तो यह ब्रिटेन में अब तक का सबसे अधिक तापमान दर्ज किया जाएगा. ब्रिटेन में बढ़ते तापमान की वजह से “राष्ट्रीय आपातकाल” की स्थिति है.

 

 

 

जंगल जल रहे हैं, लोग मर रहे हैं, एयरपोर्ट के रनवे पिघल रहे हैं, सड़कों पर डामर पिघल गया है., इतना ही नहीं, घास तक जल जा रही है, सड़कों पर ऐसा सन्नाटा, मानो फिर से लॉकडाउन लग गया हो, ये हाल इस समय यूरोप का है. पूरा यूरोप भीषण गर्मी से जूझ रहा है. ब्रिटेन के इतिहास में पहली बार पारा 40 डिग्री के पार चला गया है. इससे पहले आखिरी बार सबसे ज्यादा तापमान 2019 में 39.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था. स्पेन-पुर्तगाल में हजार से ज्यादा लोगों की मौत गर्मी की वजह से हो चुकी है.

 

 

 

ब्रिटेन में गर्मी से हालात कितने खराब हो गए हैं? इसे इस तरह से समझा जा सकता है कि अपने सख्त अनुशासन के लिए जाना जाने वाले हाउस ऑफ कॉमन्स (संसद) ने सदस्यों को अपनी सुविधा के हिसाब से कपड़े पहनने की इजाजत दे दी है. हाउस ऑफ कॉमन्स के स्पीकर लिंडसे होयल ने बताया कि इस बढ़ती गर्मी में अगर सांसद टाई-सूट नहीं पहनना चाहते, तो न पहनें.

 

 

सड़कें पिघलीं, ट्रैक फैल रहे, रनवे पिघल रहा

ब्रिटेन में गर्मी से हालात इतने बिगड़ गए हैं, जिससे वहां का ट्रांसपोर्ट सिस्टम गड़बड़ा गया है. न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ब्रिटेन में सड़कों पर डामर पिघलने लगा है. लूटन एयरपोर्ट का रनवे भी पिघल गया. वहीं, रेलवे ट्रैक भी बढ़ते तापमान को सह नहीं पा रहे हैं और फैल रहे हैं. इस कारण कई ट्रेनें कैंसिल हो चुकीं हैं.

इंग्लैंड में लोगों को ट्रेन से यात्रा न करने की सलाह दी गई है. परिवहन मंत्री ग्रांट शैप्स ने बताया कि यूके का रेल नेटवर्क इस भीषण गर्मी का सामना नहीं कर सकता. इसे अपग्रेड करने में सालों लग जाएंगे.

 

 

 

उन्होंने बताया कि पारा 40 डिग्री सेल्सियस होने पर ट्रैक का तापमान 50 डिग्री, 60 डिग्री और यहां तक कि 70 डिग्री तक पहुंच जाता है. इस कारण ट्रैक पिघल सकते हैं और ट्रेन के पटरी से उतरने का खतरा बढ़ जाता है.

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button