Chhattisgarh News: दंबगों को नहीं है पुलिस का खौफ, भूगोल क्लब में खुलेआम बिक रहा था ड्रग्स, मुख्य आरोपी अभी भी गिरफ्त से बाहर, आईजी के नाम ज्ञापन…

 

CG Crime

प्रणव शर्मा/बिलासपुर CG Crime सईय्या भये कोतवाल तो डर काहे का…। ये बातें बिलासपुर में शत्-प्रतिशत चरितार्थ होते दिख रही है। ड्रग्स का कारोबार बिलासपुर में दिनों दिन फलता फूलता जा रहा है। ड्रग्स मामले में बिलासपुर पुलिस तमाशबीन बनी बैठी है।

Read More : CG Crime : नाले में बहे युवक का शव 24 घंटे के बाद मिला, नाला से 200 मीटर दूर में हुआ बरामद…

आपको बता दें कि बिलासपुर के मैग्नेटो मॉल स्थित भूगोल क्लब में खुलेआम ड्रग्स का कारोबार चल रहा थी। इसकी जानकारी होने के बाद भी पुलिस मामले में हाथ नहीं डाल पा रही है, क्योंकि नशा का कारोबार करने वाला कोई आम इंसान नहीं बल्कि कोयला कारोबारी अंकित अग्रवाल को बताया जा रहा है। जिस पर पुलिस हाथ डालने से कतरा रही है। पुलिस मामले में मुख्य आरोपी को न गिरफ्तार करने से बचते नजर आ रही है।

Read More : CG Crime : शिक्षक के सूने मकान का ताला टूटा, नकदी समेत लाखों रूपए के जेवर पार, पुलिस जांच में जुटी…

आपको बता दें कि पुलिस ने मामले की जानकारी लगने के बाद मैग्नेटो मॉल स्थित भूगोल क्लब में छापामार कार्रवाई की थी। जिसमें ड्रग्स बेच रहे व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पूरे मामले में गिरफ्तार आरोपी ने वीडियो के माध्यम से अपना बयान जारी किया है। जिसमें अंकित अग्रवाल को मुख्य आरोपी बताया है।

Read More : CG Crime : ऑनलाइन ठगी करने वाला आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे, साथियों के जमानत के सिलसिले में पहुंचा था राजनांदगांव…

बयान जारी के बाद भी बिलासपुर पुलिस मौन साधे बैठी है। वहीं सूत्रों का कहना है कि अंकित अग्रवाल अब भी ड्रग्स की सप्लाई करते हुए पार्टी आयोजित कर रहा है। जिससे यह अंदेशा लगाया जा सकता है कि पुलिस सिर्फ छुटभैये नशे के सौदागारों को हिरासत में लेकर गुणगान कर रही है। शहर में खुलेआम पुलिस के नाक के नीचे नशा का कारोबार चल रहा है।

CG Crime

मामले की एनएसयूआई ने कड़ी निंदा की है। साथ ही आरोपी को गिरफ्तार की लगातार मांग कर रही है। बिलासपुर आईजी रतनलाल डांगी की अनुपस्थिति में डीएसपी सुशीला टेकाम को ज्ञापन सौंपा गया है। जिसमें उचित कार्रवाई नहीं होने पर उग्र आंदोलन की बात कही गई है।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button