RAILWAY : दिनभर में चल रही गिनती की ट्रेने उसमें भी ज्यादातर देर से, खत्म नहीं हो रहा यात्रियों का इंतजार


रायपुर। कोयला ढुलाई और पटरियों में कार्य के चलते ट्रेनों ने यात्रियों को बेहद परेशान कर रखा हैं, जो ट्रेन पहले यात्रियों के बीच अपने निर्धारित समय से स्टेशन पहुंचने के नाम से जानी जाती थी, अब उसकी पहचान सबसे अधिक विलंब होने वाली ट्रेन से होने लगी हैं। रायपुर से गुजरने वाली हावड़ा-सीएसटीएम, शालीमार, उत्कल एक्सप्रेस, अमरकंटक एक्सप्रेस समेत इंटरसिटी एक्सप्रेस यात्रियों की पसंदीदा ट्रेन हुआ करती थी, क्योंकि यह ट्रेन समय पर पहुंच जाती थी, लेकिन वर्तमान में इन ट्रेनों की चाल बिगड़ी हुई। यह ट्रेन 5 से 6 घंटे देरी से चल रही हैं।

वर्तमान में 64 ट्रेन रद्द चल रही है। 24 ट्रन महीने भर से रद्द चल रही है। वही 22 और 18 ट्रेनों काे रेलवे ने बीते दिनों राजनांदगांव व कलमना व अनूपपुर-अम्लाई के बीच अलग-अलग कार्यों के चलते रद्द कर रखा है। इनदिनों रायपुर से दिनभर में लगभग 30 ट्रेनों आना-जाना कर रही है। पटरियों में गिनती के ट्रेन चलने के बावजूद लगभग सभी ट्रेने घंटो विलंब चल रही हैं। स्टेशनों में यात्रियों का इंतजार खत्म नहीं हो रहा है। यात्री ट्रेन के निर्धारित समय पहुंचने के बाद स्टेशन में घंटो का समय बिताना पड़ रहा।

READ MORE : Urfi Bold Video : Urfi Javed ने फिर अपनी बोल्ड ड्रेस से बढ़ाया इंटरनेट का पारा, Blue Bikini के साथ पहनी रंगबिरंगी रस्सी की स्कर्ट, देखें वीडियो

रेलवे ने ट्रेनों को रद्द पटरियों के काम में तेजी लाने के लिए किया हैं, लेकिन रेलवे ने इस आपदा को भी सुनहरे अवसर में बदल दिया है। एक बार फिर मालगाड़ी के परिचालन में तेजी देखने को मिली हैं। इस वजह से यात्री ट्रेन के विलंब होने की समस्या खत्म ही नहीं हो रही है। रेलवे जानकारों का कहना है, रेलवे ने पहले मालगाड़ी का परिचालन प्रभावित होने से बचाने के लिए 24 ट्रेनों को रद्द किया ताकि ट्रैक खाली रहे, और समय पर मालगाड़ी पहुंच सके। इस वक्त 64 ट्रेन रद्द है, और मुंबई और हावड़ा रूट में 30 ट्रेन दौड़ रही है। ऐसे में यात्री ट्रेनों के रद्द नहीं होनी चाहिए। लेकिन रेलवे ने मालगाड़ी की संख्या बढ़ाकर फिर ट्रेनों को स्टेशन या फिर आउटर में घंटो रोक दिया जा रहा। खाली ट्रेक का उपयोग रेलवे कोयला ढुलाई के लिए कर रहा है।

READ MORE : Maharashtra Crisis : उद्धव ठाकरे के लिए बहुमत साबित करना अब होगा और कठिन ! एकनाथ शिंदे के साथ सूरत जाने 34 विधायक और 7 निर्दलीय विधायक पहुंचे एयरपोर्ट 

रेलवे ट्रेनों का परिचालन समय पर करने में नाकाम है। मंगलवार को एक भी ऐसी ट्रेनें नहीं थीं, जो तय समय पर स्टेशन पहुंची हो। बारिश और ऊपर से ट्रेनों की लेेटलतीफी की वजह से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। यात्री नाराज थे और रेलवे की इस अव्यवस्था को कोसते भी नजर आए। हावड़ा, मुंबई, पुणे सभी दिशाओं से आने वाली ट्रेनें विलंब से पहुंचीं। ये ट्रेनें गंतव्य पर विलंब से पहुंची है,इसलिए वापसी में देर से ही रवाना होगी और यात्रियों को दोबारा प्लेटफार्म पर इंतजार करना पड़ेगा। राजनांदगांव व कलमना एवं अनूपपुर-अम्लाई के बीच अलग-अलग कार्यों के चलते 40 ट्रेनें रद रहेंगी। स्टेशन में हर यात्री अपने विलंब ट्रेनों का इंतजार करता हुआ दिखा।

READ MORE : Weather Update : प्रदेश में आज भी होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने अलर्ट किया जारी, देखिए इस जिले में बारिश की संभावना

आंदोलन कर असर लगातार चौथे दिन बिहार की ट्रेनें में देखने को मिला। पूर्व मध्य रेलवे में हो रहे आंदोलन के चलते रायपुर मंडल से छूटने वाली ट्रेनें रद रहीं। इनमें दुर्ग-राजेंद्रनगर साउथ बिहार एक्सप्रेस, गोंदिय-बरौनी एक्सप्रेस शामिल है। ये ट्रेनें यहां से रवाना नहीं हो रही है, इसलिए वहां से भी इन ट्रेनों की सुविधा नहीं मिल पा रही है। इसके चलते यात्री परेशान है। वही दूसरी ओर यात्री को टिकट वापस करने में भी काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर लोग आनलाइन टिकट बुक कराते हैं, इसलिए यात्रियों के खाते में आनलाइन पैसा पहुंच रहा है।

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button