Gupt Navratri 2022 : इस माह के अंत से शुरू होने वाली है गुप्त नवरात्री, जानें डेट व घटस्थापना मुहूर्त व खास बातें

 

 

 

New Delhi : Gupt Navratri 2022 नवरात्री का पावन त्यौहार साल में 4 बार आता है, जिसमें आषाढ़ मास की नवरात्रि (Ashadh Navratri) का हिंदू धर्म में ख़ास महत्व है। इस दौरान मां दुर्गा (Maa Durga) की उपासना करते हैं। आमतौर पर आषाढ़ नवरात्रि गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri 2022) के रूप में जाना जाता है। इस दौरान दस महाविद्या माता काली, मां तारा, मां त्रिपुर सुंदरी, माता भुवनेश्वरी, मां छिन्नमस्ता, त्रिपुर भैरवी, मां धूमावती, मां बंगलामुखी, मातंगी और कमला देवी की पूजा की जाती है। साल 2022 में आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri 2022) 30 जून से शुरू होने जा रही है। जो 9 जुलाई 2022 तक चलेगी।

Read More : Navratri 7th Day Puja: आज है नवरात्रि का 7वां दिन, इस विधि से करें मां कालरात्रि की पूजा विधि और मंत्र जाप

 

पंचांग अनुसार, इस बार आषाढ़ नवरात्रि की घटस्थापना 30 जून, गुरुवार को होगी प्रतिपदा तिथि का आरंभ 29 जून, बुधवार को सुबह 8 बजकर 21 मिनट से शुरू हो रही है। जबकि प्रतिपदा तिथि की समाप्ति 30 जून को सुबह 10 बजकर 49 मिनट पर होगी। घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर 26 मिनट से 6 बजकर 43 मिनट तक है।

आषाढ़ गुप्त नवरात्रि पूजा विधि – Gupt Navratri 2022

30 जून से शुरू होने जा रही आषाढ़ गुप्त नवरात्रि की घटस्थापना भी शारदीय नवरात्रि की तरह ही की जाती है। इस दौरान दुर्गा सप्तशती का पाठ किया जाता है। माता को प्रसन्न करने के लुए लोग बताशे और लौंग का भोग चढ़ाते है। वहीं पूजा के दौरान मां दुर्गा के मंत्रों का जाप किया जाता है।

Read More : Chaitra Navratri: यहां गिरा था सती माता का केश, संध्या आरती में उमड़ता है भक्तो का सैलाब…

 

आषाढ़ नवरात्रि मंत्र – Gupt Navratri 2022

गुप्त नवरात्रि का विधान पौराणिक काल से ही है, इस नवरात्रि में शक्ति की उपासना की जाती है। यही वजह है की इस नवरात्री को गुप्त नवरात्री कहा जाता है। हिन्दू मान्यताओं मुताबिक गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा के कुछ खास मंत्रों का जाप करने से कई प्रकार के कष्टों का निवारण होता है। साथ ही सिद्धि प्राप्त की जा सकती है। सिद्धि के लिए ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै, बाधाओं से मुक्ति के लिए ‘ॐ क्लीं सर्वबाधा विनिर्मुक्तो धन्य धान्य सुतान्वितः, मनुष्यो मत प्रसादेन भविष्यति न संचयः क्लीं ॐ. ॐ श्रीं ह्रीं हसौ: हूं फट नीलसरस्वत्ये स्वाहा इत्यादि मंत्रों का जाप किया जा सकता है।

 

 

(Disclaimer : यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। टीसीपी 24 न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button