RAIPUR NEWS : नुपूर शर्मा विवाद पर बोले शंकराचार्य, कहा- कब क्या बोलना चाहिए इसकी समझदारी होनी चाहिए, महाभारत एक शब्द कहने से हुई थी

 

रायपुर। राष्ट्रोत्कर्ष अभियान के उद्देश्य से देशभर की यात्रा में निकले ऋग्वेदीय पूर्वाम्नाय गोवर्धन मठ जगन्नाथपुरी के पीठाधीश्वर जगत गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज ने राजधानी रायपुर में सरकार वार्ता को संबोधित करते हुए राजनीतिक परिपेक्ष्य में बड़ी बात कही । उन्होंने कहा कि उन्माद का नाम, सत्ता भोग का नाम, फुट डालो राज करो की कूटनीति का नाम राजनीति नहीं है। राजनीति का अर्थ होता है नीतियों में सर्वोत्कृष्ट, जिसके द्वारा व्यक्ति और समाज को सुबुद्ध, स्वावलंबी व सुसंस्कृत बनाया जा सके। उन्माद, अदूरदर्शिता का नाम राजनीति नहीं है। महाभारत, मत्स्यपुराण, अग्नि पुराण आदि में कहा गया है कि राजनीति का दूसरा नाम है राजधर्म। नीति और धर्म पर्यावाची शब्द हैं।

READ MORE : RAIPUR NEWS : नुपूर शर्मा विवाद पर बोले शंकराचार्य, कहा- कब क्या बोलना चाहिए इसकी समझदारी होनी चाहिए, महाभारत एक शब्द कहने से हुई थी

हिन्दू शब्द तो नया है पहले तो सिर्फ सनातनी ही थे

शंकराचार्य महाराज ने बताया कि हिंदू आज कहने लगे हैं, पहले तो सनातनी ही कहते थे। सनातनी, वैदिक, आर्य, हिंदू चारों का प्रयोग कर सकते हैं। हिंद महासागर, हिंदकुट, हिंदी, हिंदू ये सब प्राचीन शब्द हैं। पुराण, ऋग्वेद में भी हिंदू शब्द का प्रयोग है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हिंसा कहीं भी हो, हम उसका समर्थन नहीं करते।

READ MORE : Horoscope Today 18 June 2022 : सिंह और मकर राशि वाले भूलकर भी ना करें ये काम ! शनि देव हो सकते है नाराज़ , जानिए अन्य राशियों का हाल

मंदिरों में साईं बाबा काे मुख्य स्थान देना गलत

महाराज ने साईं बाबा के मंदिरों को लेकर बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है सांई बाबा के मंदिरों में देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को किनारे करके साईं बाबा काे मुख्य स्थान देना गलत है। साईं बाबा के नाम पर मंदिरों से देवी देवताओं हटाना गलत है। कोई किसी भी कुल में पैदा हुआ हो, उसके कुल की जानकारी देनी चाहिए। छुपाने से क्या मतलब है, यह तो भक्तों के साथ धोखा है।

READ MORE : Sara Ali Khan को थाई हाई स्लिट ड्रेस पहनना पड़ गया भारी, ट्रोलर्स ने लगाईं क्लास, कहा – वेरी बैड नॉट….

नुुपूर शर्मा विवाद में शंकराचार्य ने कहा

नुपूर शर्मा के बयान से स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज सहमत नहीं है, उन्होंने विवाद को लेकर कहा, कब किसी को क्या कहना चाहिए ये समझदारी होनी चाहिए। उन्होंने कहा, यदि द्रौपदी ने दुर्योधन को अंधे का बेटा अंधा न कहा होता तो शायद महाभारत न होती। लेकिन उनके इस एक शब्द के कारण महाभारत हुई। इसी संदर्भ को उन्होंने नुपूर शर्मा के विवाद से जोड़ा, लेकिन इसके बाद उन्होंने हंसते हुए ये भी कह दिया कि शायद इस युग में महाभारत की जरूरत हो।

 

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button