INSIDE STORY : चिटफंड कंपनियों में डूबे पैसा पाकर खिले निवेशकों के चेहरे, सुनिए निवेशकों की जुबानी कैसा बिता संकट का समय

 

 

रायपुर।चिटफंड कंपनियों में ठगी का शिकार हुए निवेशकों के जीवन में लंबे समय बाद खुशियां फिर लौट आई जब शुक्रवार को  निवेशक न्याय कार्यक्रम के जरिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने निवेशकों के खाते में पैसे एक बार में लाख रुपए ट्रांसफर किए। निवेशकों को उम्मीद नहीं थी कंपनियों में डूबे उनके पैसे फिर मिल पाएंगे। पैसी वापस होने की खुशी उनके चेहरे पर साफ नजर आ रही थी। अनियमित वित्तीय कंपनी देव्यानी प्रापर्टी लिमिटेड की संपत्ति की नीलामी से प्राप्त 4.14 करोड़ रुपए की राशि निवेशकों के खाते में अंतरित की गई। बड़ी संख्या में प्रदेश भर से पहुंचे हुए थे। मेडिकल कॉलेज ऑडिटोरियम भीतर और बाहर निवेशकों से भरा हुआ था।

READ MORE: CM Bhupesh Baghel ने खारी नाला में नरवा विकास योजना के तहत किया अद॔न डेम का वर्चुअल लोकार्पण

 

लाख रुपए से कर्ज होगा दूर

चिटफंड कंपनियों में ठगी का शिकार खेलन मिरी का कहना है, आज से 5 पांच साल पहले चिटफंड कंपनी में परिवार के सभी सदस्यों ने 50 लाख रुपए जमा करवा दिए थे। ठगी होने के बाद घर में आर्थिक संकट आ गया था। आज भी पूरा परिवार पैसों की तंगी से फंसा हुआ है। उन्होंने बताया, गांव में कई लोगों से उधार लेकर जीवन चला रहा है। ठगी हुए पैसे फिर मिलेंगे इसकी उम्मीद नहीं थी, लेकिन बैंक में आए 1 लाख से अधिक पैसों से कर्ज मुक्त हो जाऊंगा। यह पैसे जीवन में खुशियां लेकर आया हुआ है।

बेच दी थी 10 एकड़ जमीन

पैसा दोगुना कराने लालच में दुर्ग के अमोली राम साहू ने 10 एकड़ की जमीन बेचकर चिटफंड कंपनी में 11 लाख रुपए लगा दिए थे। सरकार की ओर से उन्हे 80 हजार रुपए प्रदान किया गया है। उनका कहना है, बेटे और बेटियों के शादी धूमधाम से कराने के लिए पैसे कंपनी में डाल दिए थे लेकिन ठगी का शिकार होने के बाद जीवन में संकट अचानक से बढ़ गया। सुविधाओं के अभाव में घर में बेटियों की शादी हुई है। जमीन बेच देने से खेती किसानी से भी आर्थिक नुकसान हो गया। 7 सालों के बाद भी जीवन सामान्य नहीं हुआ है। सरकार से मिले पैसे थोड़ी राहत जरूर मिली है। यह पैसे मिलेंगे इसकी भी उम्मीद नहीं थी।

READ MORE: BREAKING: एक बार फिर से चर्चा का विषय बना जांजगीर, इस गांव में निकला दो मुंहा का सांप, देखने उमड़ी ग्रामीणों की भीड़, जानिए कितना खतरनाक है यह सांप

छोड़ दी थी उम्मीद

कंपनी में 20 लाख रुपए निवेश कर ठगी का शिकार हुई राधा बाई साहू ने बताया, मेरी मां ने अपनी पूरी पूंजी कंपनी में लगा दी थी। पैसे डुबने के बाद हमारे पास कुछ भी नहीं बचा था। शुरुआत में कुछ सालों तक जीवन व्यापन करना मुश्किल हो गया था। सरकार के जरिए पैसे फिर वापिस मिलेगा इसकी थोड़ी भी उम्मीद नहीं थी। उन्होंने बताया, बैंक में 1 लाख 10 हजार रुपए ट्रांसफर हुए है। इस पैसे बड़ी राहत मिलेगी।

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button