Chanakya Niti: दुश्मन भी नहीं टिक पाते ऐसे लोगों सामने जिनमे होते है यह गुण…

 

chanakya niti

 

 

नई दिल्ली, Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य ने अपने चाणक्य नीति में एक श्लोक के जरिए कुछ गुणों को विकसित करने की बात कही है. यदि व्यक्ति इन गुणों को विकसित कर ले तो उसके सामने दुश्मन टिक ही नहीं सकता. और वो श्लोक है- अनुलोमेन बलिनं प्रतिलोमेन दुर्जनम्, आत्मतुल्यबलं शत्रु विनयेन बलेन वा.

इस श्लोक के माध्यम से आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति अपने क्रोध को काबू कर सकता है, वो कभी गलत निर्णय नहीं लेगा. ऐसे में वो दुश्मन के उकसाने में नहीं आएगा. उसे पता होता है कि उसे कब क्या करना है. जो लोग क्रोध में आकर निर्णय लेते हैं, वो खुद के लिए ही मुसीबत बनते हैं.

 

READ MORE:Chanakya Niti: कभी भी बाहरी लोगो से न करें अपने पारिवारिक मुद्दों की चर्चा, नहीं तो जीवन में हमेशा उठाएंगे भारी नुकसान…

 

 

कहा जाता है कि धैर्य से व्यक्ति आधी लड़ाई जीत लेता है. इसलिए परिस्थितियां कितनी ही विपरीत हों, आप धैर्य का दामन न छोड़ें. बस शत्रु की गलतियों पर नजर रखें. उसकी एक गलती पर किया गया आपका प्रहार आपको जीत दिला सकता है.

जो लोग दुश्मन को अपने सामने कुछ नहीं समझते, वो अक्सर धोखा खाते हैं. दुश्मन को हल्का न समझें. उन्हें शक्तिशाली मानकर अपनी तैयारी करें, ताकि आप हर परिस्थिति में उनका मुकाबला करने लायक खुद को बना सकें. अपनी महत्वपूर्ण योजना का भागीदार किसी विश्वसनीय को भी न बनाएं.

 

इन सभी बातों के अलावा कुछ अन्य बातों का भी खयाल रखें. जैसे यदि शत्रु हमसे अधिक शक्तिशाली है तो उसके अनुकूल चलें और विवेक से निर्णय लें. अगर वो छल करने वाला है तो अपना विपरीत व्यवहार करें और अगर दुश्मन बराबरी का है तो उसे अपनी नीतियों में उसे इस कदर उलझा लें, कि वो चाहकर भी नहीं निकल पाए.

 

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button