Jyeshtha Purnima 2022 : ज्येष्ठ पूर्णिमा पर करें ये छोटा सा उपाय, घर में आएगी सुख-समृद्धि

Jyeshtha Purnima 2022

 

रायपुर। Jyeshtha Purnima 2022 ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को ज्येष्ठ पूर्णिमा (Jyeshtha Purnima) व्रत रखा जाता है। इस साल ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत 14 जून दिन मंगलवार को है। जीवन सुख और समृद्धि के लिए ज्येष्ठ पूर्णिमा के​ दिन व्रत और पूजा करते हैं। इस दिन चंद्रमा की पूजा करने से चंद्र दोष दूर होता है और कुंडली में चंद्रमा की स्थिति मजबूत होती है। Jyeshtha Purnima 2022 

ज्येष्ठ पूर्णिमा को सत्यनारायण भगवान की कथा सुनते हैं और उनकी पूजा करते हैं। Jyeshtha Purnima 2022 ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन लोग सत्यनारायण भगवान की कथा भी सुनते हैं और व्रत रखते हैं। आइए जानें ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत की तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि।

Read More : Buddha Purnima: आज बुद्ध पूर्णिमा पर इस समय करें पूजा, जीवन में कभी नहीं आएगी समस्या 

 

  • तिथि
    पंचांग के अनुसार इस बार ज्येष्ठ पूर्णिमा की तिथि 13 जून, सोमवार, रात 09 बजकर 02 मिनट से शुरु होगी। Jyeshtha Purnima 2022  ज्येष्ठ पूर्णिमा की तिथि की समापन 14 जून, मंगलवार, शाम 05 बजकर 21 मिनट पर होगा। ​उदया तिथि के हिसाब से ये व्रत 14 जून को रखा जाएगा।

 

  • पूजा मुहूर्त
    ज्येष्ठ पूर्णिमा पर साध्य और शुभ योग का संयोग बन रहा है। Jyeshtha Purnima 2022 इस दिन साध्य योग सुबह 9 बजकर 40 मिनट तक रहेगा। इसके बाद शुभ योग शुरु हो जाएगा। शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 54 मिनट से दोपहर 12 बजकर 49 मिनट तक रहेगा। ऐसे में सुबह के समय आप ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत की पूजा कर सकते हैं। रात के समय विधि-विधान से चंद्रमा की पूजा करें।
Read More : Magh Purnima 2022: मां लक्ष्मी को करना चाहते हैं प्रसन्न तो माघ पूर्णिमा में करें ये उपाय, बन रहे खास संयोग में मिलेंगे फलदायी लाभ

 

  • चंद्रोदय समय
    इस बार ज्येष्ठ पूर्णिमा पर चंद्रोदय का समय शाम 7 बजकर 29 मिनट है।

   करें ये काम

  • इस दिन चंद्रमा को जल में दूध, चीनी, अक्षत और फूल मिलाकर अर्पित करना चाहिए. ऐसा करने से चंद्र दोष दूर होते हैं।
  • इस दिन विधि-विधान से देवी लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से आर्थिक स्थिति में सुधार होता है. आर्थिक तंगी दूर होती है।
  • इस दिन देवी लक्ष्मी को खीर का भोग लगाएं और कन्याओं को खीर का प्रसाद बांटें।
  • ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन स्नान और दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।
  • इस दिन सफेद चीजों का दान करें. सफेद कपड़े, चावल, दही, चांदी, मोती और सफेद फूल का दान करें।
  • चंद्रमा से जुड़ी वस्तुओं का दान करने से चंद्रमा मजबूत होता है और सुख-समृद्धि प्राप्ति होती है।
  • ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन घर में सत्यनारायण भगवान की पूजा रखें. इससे धन, संपत्ति और वैभव की प्राप्ति होती है।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button