CG : मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा प्रशिक्षण से शिक्षकों में बढ़ी जागरूकता, बाल अपराधों में आएगी कमी

CG

 

मनेंद्रगढ़, एस के मिनोचा। मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा एवं व्यक्तिगत सुरक्षा प्रशिक्षण में राज्य CG स्त्रोत दल के सदस्य एवं वरिष्ठ प्रशिक्षक सतीश उपाध्याय ने स्कूली बच्चों के प्रति एवं अन्य सामान्य बच्चों के यौन उत्पीड़न, यौन शोषण और पॉर्नोग्राफी जैसे जघन्य अपराधों को रोकने के लिए वर्ष 2012 में बनाए गए कानून की महत्वपूर्ण जानकारी प्रशिक्षण के दौरान शिक्षकों को दी। CG

Read More : CGPSC Recruitment : आयुर्वेद मेडिकल ऑफिसर के इतने पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, मिलेगी 1,77,500 रुपए तक की सेलरी, ऐसे करें अप्लाई

 

शाला सुरक्षा एवं व्यक्तिगत सुरक्षा प्रशिक्षण के परीक्षार्थियों को पोक्सो कानून के बारे में प्रशिक्षक उपाध्याय ने बताया कि जो लोगों ने विभिन्न प्रयोजनों के लिए बच्चों से गलत व्यवहार करते हैं, उनके लिए भी सख्त सजा का प्रावधान है। CG पोक्सो कानून के संदर्भ में उन्होंने जानकारी दी कि यदि अपराधी ने कुछ ऐसा अपराध किया है जो कि अन्य बाहरी अपराध के अलावा अन्य कानून में भी अपराध है तो अपराधी को सजा उस कानून में तहत होगी जो सबसे सख्त हो।

यदि पीड़ित बच्चा विकलांग है या मानसिक रूप से या शारीरिक रूप से बीमार है तो विशेष अदालत को उसकी गवाही को रिकॉर्ड करने या किसी अन्य उद्देश्य के लिए अनुवादक दुभाषी आया विशेष शिक्षक की सहायता दी जाती है ।

Read More : CG : वन विभाग ने की बड़ी कार्रवाई, जाल और धनुष के साथ शिकार पर निकला ग्रामीण गिरफ्तार…

 

मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा कार्यक्रम के अन्य बिंदुओं के अंतर्गत उपाध्याय ने शाला की सफाई, रसोई घर को सुरक्षित रखने के उपाय, शौचालय, पीने का पानी पेयजल, विद्युत प्रणाली और सुरक्षा, बाउंड्री वॉल, शाला परिसर और परिवेश अग्नि सुरक्षा, प्रबंधन दिव्यांग बच्चों के लिए बैरियर युक्त पहुंच, जल प्रबंधन, पानी और डूबने के खतरों से बचने के लिए उपाय, उत्सवों के दौरान सुरक्षा, खेल मैदान, सुरक्षा, शाला, परिवहन में सुरक्षा, सांप काटना बिच्छू काटना, डेंगू के रोकथाम के लिए सुरक्षित उपाय, वायरल बुखार बाल यौन दुर्व्यवहार के संरक्षण के लिए उपाय, मादक द्रव्यों का सेवन, ऑनलाइन और साइबर सुरक्षा, बच्चों के लिए दंडात्मक प्रक्रिया पर निषेध आदि महत्वपूर्ण विषयों पर विस्तार से जानकारी दी।

Read More : CG BREAKING : बस और ट्रक में बीच जोरदार भिड़ंत, हादसे में 8 यात्री बुरी तरह से हुए घायल, हाइवे में लगा जाम

 

शिक्षा विभाग द्वारा संचालित शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पदस्थ वरिष्ठ प्रशिक्षक सतीश उपाध्याय ने शाला में बच्चों की सुरक्षा और सलामती के लिए एवं आपातकालीन स्थिति में किए गए उपायों का प्रदर्शन भी किया -जैसे आपात स्थिति में शर्ट और जैकेट द्वारा स्ट्रेचर बनाना, आकस्मिक रूप से लगे हुए चोटों को रोकना,उसकी चिकित्सा एवं प्राथमिक चिकित्सा से संबंधित विभिन्न जानकारी को शिक्षकों से साझा किया।

Read More : CG Crime : शादी का झांसा देकर नाबालिग के साथ अपचारी बालक ने किया दुष्कर्म, साथ देने वाली मां भी गई जेल

 

प्रशिक्षक उपाध्याय ने रामानुज हायसेकेंडरी स्कूल में तीन दिवसीय प्रशिक्षण के दौरान एवं व्यक्तिगत सुरक्षा के अंतर्गत विभिन्न बुनियादी बातों को, बाल यौन अपराध और पास्को कानून से संबंधित बातों को विस्तार से बताया। कुशल प्रशिक्षक एवं वरिष्ठ साहित्यकार उपाध्याय ने आशा व्यक्त किया है जी नवीन शिक्षा सत्र प्रारंभ होने के बाद पोस्को कानून के संबंध में शिक्षकों को जागरुक करने से बाल अपराधों में निश्चित रूप से कमी आएगी।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button