CG Crime : राजधानी में गुंडे, बदमाशों एवं चोरों के हौसलें बुलंद, पत्रकार कालोनी नहीं है सुरक्षित, हो रही है लगातार चोरियां…

 


रायपुर। CG Crime राजधानी के कबीरनगर थाना क्षेत्र में पत्रकारों को बीएसयूपी कालोनी सोनडोंगरी में मकान आवंटित किया गया है। जहां आए दिन चोरियां हो रही है। दो माह के अंदर इस कालोनी में करीब दर्जन भर मकानों के ताला तोड़कर अज्ञात चोर ने चोरी की है। वहीं कालोनी के बाहर कुछ नशेड़ी तत्व के लोगों का जमावड़ा लगा रहता है, जो पत्रकार फैमिली से उलझते है और गाली-गलौज कर जान से मारने की धमकी देते है।

Read More : CG Crime : सूने मकान का ताला टूटा, नकदी सहित डेढ़ लाख के जेवर पार, पूर्व में हुए चोरी का अब तक पुलिस नहीं कर पाई खुलासा…

बता दें कि बीती रात मीडियाकर्मी आवासीय परिसर बीएसयूपी कालोनी सनडोंगरी में दो पत्रकारों के सूने मकान सहित 8 घरों के ताले टूटे है। जिसमें अज्ञात चोरों ने नकदी सहित हजारों रूपए के सामान पार कर दिए है। सूचना पर मौके में पहुंची कबीरनगर पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना कर डॉग स्कवायड को कालोनी में घुमाया गया।

वहीं पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किया है। जिसमें दो व्यक्ति टीशर्ट व बड़मुड़ा पहने हुए हाथ में बोरी लेकर जाते दिख रहे है। वहीं डॉग स्कवायड की टीम में घुमकर चोरों की पतासाजी कर रही है। फिलहाल पुलिस मामले को जांच में लिया है और चोरों की पतासाजी की जा रही है।

पूर्व में भी हुई थी चोरी
मीडियाकर्मी आवासीय परिसर कालोनी में पूर्व में भी 3-4 घरों के ताले टूटे थे। जिसमें कुछ नकदी सहित अन्य सामान पार हुए थे। जिसमें पुलिस अब तक आरोपियों तक नहीं पहुंच पाई है।

Read More : CG Crime : महिला से करता था छेड़खानी और अश्लील इशारे, पति संग दर्ज कराई रिपोर्ट, आरोपी गिरफ्तार

कालोनी के बाहर लगा रहता है नशेडिय़ों का जमावड़ा
मीडियाकर्मी आवासीय परिसर बीएसयूपी कालोनी के बाहर मेन गेट व बगल स्थित शमशान घाट के पास नशेडिय़ों का जमावड़ा लगा रहता है। जिन्हें रोकने टोकने पर कालोनी वासियों से गाली-गलौज अभद्र व्यवहार करते है। जिससे कालोनी में रहने वाली महिला-पुरूष परेशान है।

Read More : CG Crime : आंख में मिर्ची पावडर डालकर प्रेमी जोड़े से किया लूटपाट, पुलिस जांच में जुटी..

नहीं है किराएदारों का वेरीफिकेशन
मीडियाकर्मी आवासीय परिसर कालोनी के मकानों में 150-200 के आसपास किराएदार रहते है। जिनका ना कोई थाना में वेरीफिकेशन है और ना किराएदार अपने मकान मालिक को जानता है। यहां रहने वाले अधिकतर किराएदार दूसरे राज्य से है, जो यहां आसपास स्थित फैक्ट्रियों में काम करते है। जिससे पुलिस को भी इन सबकी जांच करना चाहिए, तभी अपराध रूक पाएगा। वहीं इस क्षेत्र में रात्रि गस्त बढ़ाने की जरूरत है।

JOIN TCP24NEWS WHATSAPP GROUP

Related Articles

Back to top button