डॉक्टरों ने स्टोर का लक्षण पहचानने के लिए बताया तेज एवं कारगर फार्मूला, कभी समस्या हो तो सबसे पहले करें यह काम..

 

हेल्थ डेस्क । स्ट्रोक एक न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम है, जिसे ब्रेन अटैक के नाम से भी जाना जाता है देखा जाए तो वह आज के बाद में स्टॉक बहुत आम समस्या है स्ट्रोक से हर साल पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।
न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर कुणाल बहरानी के अनुसार स्ट्रोक भारत में मौत का दूसरा बड़ा कारण है, आमतौर पर स्ट्रोक दो तरह का होता है, ‘पहला ब्लड क्लॉट और दूसरा हेमरेज’। सामान्य तौर पर हम जो देखते हैं इसमें वेसल्स ब्लॉक हो जाती हैं, जिसे ‘इस्केमिक स्ट्रोक’ कहते हैं, इस कारण हमारे न्यूरॉन्स नष्ट हो जाते हैं।

 

READ MORE : नगरीय प्रकोष्ठ और मेडिकल कालेज के सदस्य अध्यक्ष अशोक फडनवीस ने स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव से की मुलाकात, मेडिकल कॉलेज में सी.टी. स्कैन मशीन उपलब्ध करवाने की रखी मांग

 

1.पैरालिसिस की स्थिति पैदा हो सकती है।
2.स्ट्रोक से पीड़ित व्यक्ति को हाथ, चेहरे और पैर में सुन्नता या कमजोरी महसूस होती है।
3.ब्रेन स्ट्रोक के मरीज के शब्द साफ नहीं निकलते हैं और अचानक से उसके व्यवहार में परिवर्तन देखने को मिलता है।
4.स्ट्रोक से जूझ रहे व्यक्ति को चक्कर आने लगते हैं।
5.दोनों आंखों से देखने में परेशानी होना।
6.स्ट्रोक से पीड़ित व्यक्ति को चलने-फिरने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

 

READ MORE : महात्मा गांधी वार्ड के विभिन्न स्थानों में खस्ताहाल सड़को का होगा डामरीकरण, विधायक कुलदीप जुनेजा ने नारियल फोड़कर किया भूमिपूजन

 

‘F’ चेहरा- इसमें व्यक्ति को मुस्कुाने के लिए कहें और देखें कि व्यक्ति के चेहरे की एक तरफ झुकाव है या नहीं।
‘A’ आर्म्स – दोनों हाथें को उठाने के लिए कहें। क्या एक हाथ उठाने में असमर्थ है।
‘S’ स्पीच- क्या व्यक्ति के बोलने में आपको असामान्यता महसूस होती है।
‘T’ टाइम- तुरंत टाइम नोट करें और डॉक्टर के पास जाएं।

 

Back to top button