कर्मचारियो को मिली है राजनैतिक पार्टी में काम करने की खुली छूट, प्रशासन सो रहा हैं कुंभकर्णी नींद

अनूपपुर/डूमर कछार एस के मिनोचा : अनूपपुर जिले के अंतिम छोर छत्तीसगढ़ बॉर्डर पर बसा नवगठित डूमर कछार नगर परिषद के कर्मचारियों द्वारा लगातार नियमो की धज्जियां उड़ाया जा रहा हैं जिसे देखने वाला कोई भी नही वहाँ के कर्मचारी वेतन तो नगर परिषद से लेते है और काम किसी और के लिए करते हैं सारे कर्मचारियो की राजनैतिक पकड़ होने के कारण कभी भाजपा तो कभी कांग्रेस के लिए पार्टी के लिए काम करते दिख जाते है। ये कर्मचारी पार्टी के लिए भीड़ बढाने का कार्य करते हैं जिसके दम में इन कर्मचारियों की नियुक्ति हुई है उनकी ढपली तो समय समय पर बजाना ही पड़ेगा पार्टी के लिए काम करते हुए दर्जनों कर्मचारियो की फ़ोटो वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रही हैं। पार्टी के इतने बड़े विधायक भी इन कर्मचारियों के साथ मिलकर नियम कानून के जमकर धज्जियां उड़ाने में सहयोग करेगा जब कि ये ही जनप्रतिनिधि लोगो को नियम कानून का पाठ पढ़ाते हैं और जब खुद की बारी आती हैं तब नियम कानून जेब मे रख लेते हैं। इसके पहले भी फर्जी भर्ती मामले में काफी चर्चित रह चुका हैं उसके बाद भी किसी न किसी कारण हमेशा चर्चा में बना रहता हैं इसके पहले राजेन्द्र कुशवाहा सीएमओ थे तब भी कई मामलों में सुर्खियों में रहा है अब फिर से एक नए मामले में चर्चा में आ रहा हैं।

 

कर्मचारी करते हैं राजनैतिक पार्टी के लिए काम

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर कोतमा विधायक सुनील सराफ के नेतृत्व में काँग्रेस विशाल सदस्यता अभियान के तहत शुक्रवार को दोपहर में ब्लॉक कांग्रेस राजनगर अंतर्गत मंडलम पौराधार में हनुमान मंदिर से कांग्रेस सदस्यता अभियान की शुरुआत की गई जिसमें कांग्रेस के बहुत सारे पदाधिकारी मौजूद रहे इनके अलावा डूमर कछार के दर्जनों कर्मचारी कार्यालय के समय शुक्रवार 14 जनवरी को दोपहर में इस सदस्यता अभियान में पहुँचकर कांग्रेस पार्टी के लोगो के साथ पूरे क्षेत्र में घूम घूम कर सदस्यता अभियान कार्यक्रम में लोगो की सदस्यता कराने में अहम भूमिका निभाई इन नगर परिषद के कर्मचारियों को किसने अधिकार दिया कि शासकीय कार्य को छोड़कर कांग्रेस पार्टी का सदस्यता अभियान कराकर पार्टी का प्रचार करें अगर यही अभियान भाजपा के द्वारा कराया जाएगा उसमे भी बहुत से कर्मचारी भाजपा के लिए काम करते हुए दिख जाएंगे इसलिए तो तो पार्टी ऐसे अपने लोगो को परिषद में भर्ती करवाई है जिन लोगो का समय समय पर उपयोग किया जा सके।

क्या होगी कर्मचारियो पर कार्यवाही

नगर परिषद के कर्मचारियों द्वारा मनमानी करके नियमो की धज्जियां उड़ाकर अगर किसी पार्टी के लिए इस तरह दिन के उजाले में खुलेआम बिना डर के काम कर रहे थे तब प्रशासन और जिम्मेदार अधिकारी उस समय क्या कर रहे थे क्या इन लोगो को सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी नही मिली या जान बूझकर अनदेखा कर गए मामला संज्ञान में आने के बाद इन कर्मचारियो के ऊपर कार्यवाही होगी या हमेशा की भांति अभयदान दे दिया जाएगा।

पार्टी चला रही हैं परिषद या कर्मचारी चला रहे पार्टी

नगर परिषद डूमर कछार को ऐसा लग रहा हैं कि पार्टी पूरे परिषद को चला रही है और पार्टी इन्ही कर्मचारियो के दम पर चल रही है। तभी तो पार्टी के गतिविधियों में परिषद के कर्मचारियों की उपस्थिति हमेशा बनी रहती हैं ये सभी कर्मचारी परिषद में भर्ती होने से पहले राजनैतिक पार्टी के सक्रिय सदस्य जरूर रहे होंगे जब बड़ी पार्टियों का इन कर्मचारियों के ऊपर हाथ होगा विधायक साथ मे होंगे तो ये कर्मचारी किसी छोटे मोटे अधिकारियों से क्यू डरेंगे।

 

इनका कहना हैं
मैं पूरे मामले को दिखवाकर कार्यवाही करता हूँ

राकेश शुक्ला सीएमओ नगर परिषद डूमर कछार

Back to top button