ताज़ा ख़बर
सपा को लगा एक और बडा झटका, अपर्णा यादव के बाद इस बड़े मंत्री ने दिया इस्तीफ़ासाऊथ अफ्रीका ने भारत को दी करारी शिकस्त, नहीं काम आयी कोहली और धवन की शानदार बल्लेबाजी…CORONA UPDATE : प्रदेश में आज मिले 5625 नए सक्रमित मरीज, राजधानी में नहीं थम रही रफ़्तार, जाने जिलेवार स्थितिभारतीय क्रिकेट टीम पर मंडराया कोरोना का साया, कप्तान सहित 5 खिलाड़ी हुए संक्रमित…नगर निगम द्वारा व्यापारियों से अवैध यूजर चार्ज की शिकायत लेकर पहुंचे सुंदरानी, मंत्री शिव डहरिया ने दिया ऐसा जवाब कि मुंह लटकाकर लौटना पड़ाजंगल से लकड़ी काटने वाले तस्कर को रेंजर ने पकड़ाविराट कोहली ने तोड़ा मास्टर ब्लास्टर सचिन का रिकॉर्ड, शिखर ने जमाई करियर की 34वीं हाफ सेंचुरी..CDS जनरल बिपिन रावत के भाई ने थामा बीजेपी का हांथ, सीएम ने कराया पार्टी में प्रवेशफिर बदलेगा मौसम का मिजाज, 21 से 22 जनवरी को इन जिलों मे होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने दी चेतावनी..26 जनवरी को परेड टाइमिंग में हुआ 30 मिनट का बदलाव, बड़ी वजह आयी सामने

सेवानिवृत्त डॉक्टर ने सरकार को वारिस बनाकर दान कर दी करोड़ों की संपत्ति, इस वजह से लिया बड़ा फैसला?

Mahendra Kumar SahuJanuary 14, 20221min

 

नई दिल्ली। एक सेवानिवृत्त डॉक्टर ने अपनी करोड़ों की संपत्ति का वारिस सरकार को बना दिया। हमीरपुर जिले के उपमंडल नादौन के रहने वाले स्वास्थ्य विभाग से सेवानिवृत्त चिकित्सक ने अपनी पत्नी की अंतिम इच्छा को पूरा करते हुए सरकार को वारिस बनाकर अपनी करोड़ों की चल-अचल संपत्ति सरकार के ही नाम कर दी।

 

 

 

पंचायत जोलसप्पड़ के गांव सनकर के 72 वर्षीय डॉ. राजेंद्र कंवर 33 वर्षों बाद स्वास्थ्य विभाग से और उनकी पत्नी कृष्णा कंवर शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त हुईं थीं। एक वर्ष पूर्व पत्नी का देहांत हुआ था। दोनों की इच्छा थी कि उनकी कोई संतान न होने के चलते वे अपनी चल-अचल संपत्ति सरकार के नाम वसीयत कर देंगे, क्योंकि उन्होंने सरकारी नौकरी के दौरान ही सब कुछ अर्जित किया है।

 

READ MORE : निवेशकों की बल्ले-बल्ले, इस क्रिप्टोकरेंसी ने कर दिखाया कमाल, 15 महीने में 1 रुपए बना 2.5 लाख…

 

डॉ. कंवर का जन्म 15 अक्तूबर, 1952 को माता गुलाब देवी और पिता डॉ. अमर सिंह के घर गांव धनेटा में हुआ था। 1974 में एमबीबीएस की पढ़ाई इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज तत्कालीन समय में स्नोडेन अस्पताल शिमला से पूरी की। उसके उपरांत इंटरनशिप पूरी करके 3 जनवरी, 1977 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भोरंज मे बतौर चिकित्सक ज्वाइन किया। नौकरी के दौरान उन्होंने सेवा भाव के जज्बे के चलते पदोन्नति को भी दरकिनार किया। डॉ. कंवर अभी भी प्रतिदिन सैकड़ों मरीजों के स्वास्थ्य की देखभाल कर रहे हैं। वह एक नामी डॉक्टर (कांगू वाले डॉक्टर) के नाम से और समाजसेवी की हैसियत से जाने जाते हैं।

 

READ MORE : टीवी से लेकर बॉलीवुड सितारे मना रहे लोहड़ी… सांस और ननद के साथ फोटो किया शेयर…कैप्शन में लिखा – ” हैप्पी लोहरी”…

 

इस संबंध में हमीरपुर के नायब तहसीलदार अतर सिंह का कहना है कि हो सकता है कि ऐसी वसीयत हुई हो, लेकिन यह व्यक्तिगत तथा कॉन्फिडेंशियल डॉक्यूमेंट होता है। व्यक्ति की मृत्यु के बाद संबंधित पटवार सर्कल में दर्ज करवा कर बाकायदा इसके इंतकाल के बाद ही वारिस इसका मालिक बन सकता है। इसके बारे में जिस व्यक्ति ने अपनी बिल दी होती है, वही अपनी इच्छानुसार इस पर कुछ बोल सकता है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007