ताज़ा ख़बर
सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, 236 पदों पर निकली भर्ती, 25 जनवरी तक उम्मीदवार करें आवेदन..बिग ब्रेकिंग : स्वास्थ्य विभाग में बड़ा बदलाव, प्रमुख सचिव डॉ आलोक शुक्ला हटाए गए…breaking news : हरभजन सिंह हुए कोरोना संक्रमित, ट्वीट कर दी जानकारी..चमत्कारिक गुणो से भरपूर होता हैं ‘मुलेठी’, जाने कोविड काल में कैंसे इम्यूनीटी बूस्टर की तरह करता हैं कामफिल्मों में काम करने के लिए इन कलाकारों ने किया बड़ा त्याग, अक्षय और रणवीर ने तो पार कर दी सारी हदें ..RAIPUR BREAKING: 2 निरीक्षकों का तबादला, एसएसपी अग्रवाल ने ज़ारी किया आदेशवन विभाग की गिरफ्त में आए तीन संदिग्ध शिकारी, स्कॉर्पियो, राइफल व अन्य सामग्री जप्तरिश्ते निभाने में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते ये 4 राशि वाले लोग, जानें कहीं आप भी इसमें शामिल तो नहींधनुष को ऐश्वर्या से तलाक लेना पड़ा भारी, रजनी के फैंस ने किया एक्टर की अपकमिंग फिल्म का बहिष्कार..AFC Women’s Asian Cup 2022: ईरान से नही जीत पाया भारत, सही मौके पर किया कई गोल मिस, नतीजन मैच का हुआ ये हाल

सरपंच के खिलाफ ग्रामीणों ने खोला मोर्चा, एसडीएम से शिकायत कर कहा – सड़क की जमीन में पानी टंकी बनाने का अवैध प्रस्ताव पारित किया..

Mahendra Kumar SahuJanuary 7, 20221min

पिथौरा । ग्राम पंचायत बुंदेली के सरपंच सुनीता दीवान के खिलाफ ग्रामींणो ने मोर्चा खोल दिया हैं। ग्रामीणों ने सरपंच पर आरोप लगाया हैं कि पद पर रहते हुए उन्होंने सड़क मद की भूमि पर पानी टंकी निर्माण हेतु विधि विरुद्ध प्रस्ताव पारित किया है। इस लिए सरपंच का पद में बने रहना लोक हित मे उचित नही है । सरपंच को धारा 40 पंचायत राज अधिनियम के तहत हटाने की मांग भी की गई है ।बता दें की ग्राम बुंदेली के ग्रामीण चन्द्रशेखर, सुकलाल एवं नोहर प्रभाकर ने सरपंच के खिलाफ मोर्चा खोला है इनकी शिकायत है कि ग्राम बुंदेली के शासकीय सड़क मद की भूमि ख. न. 2180 रकबा 0.46 हे.कुछ भाग पर ग्रामीणों का वर्षो पूर्व से मकान बना हुआ है जिसे सरपंच तोड़ना चाहती है । सरपंच ने उक्त सड़क मद की भूमि का कलेक्टर से मद परिवर्तन कराए बिना ही तथा राजस्व अभिलेख में पानी टँकी हेतु सुरक्षित कराए बीना ही पद का दुरुपयोग करते हुए प्रस्ताव पानी टँकी बनाने का प्रस्ताव पारित किया है ।

read more : देश की राजधानी में कोरोना का कहर, दिल्ली में बेकाबू हुई कोरोना की रफ्तार, 24 घंटे में सामने आए 17000 से ज्यादा मामले…

 

क्या है नियम- जबकि नियम यह है कि शासकीय प्रयोजन में उपयोग आने वाली किसी भी शासकीय भूमि को धारा 237 छ ग भू रा संहिता के तहत कलेक्टर द्वारा मद परिवर्तन कर राजस्व अभिलेखो में सुरक्षित किया जाता है इस नियम का पालन सरपंच ने नही किया है। ग्रामीणों की उपरोक्त शिकायत को एसडीएम पिथौरा ऋतु हेमनानी ने गंभीरता से लिया और सरपंच के विरुद्ध तत्काल धारा 40 पंचायत राज अधिनियम के तहत मामला पंजीबद्ध करते हुए सरपंच सुनीता को कारण बताओ नोटिस जारी करने का आदेश दिया है ।

read more : कंवर समाज सूरजपुर ने काका लरंग साय की 18वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि दी, पकनी चौक का नामकरण व भूमि पूजन का आयोजन

क्या होता है धारा 40- छत्तीसगढ़ पंचायत राज अधिनियम मैं बने प्रावधानों के अनुसार अगर कोई सरपंच का पद में बने रहना लोकहित में अवांछनीय है तो विहित अधिकारी उसे समुचित रूप से सुनवाई का अवसर देने के बाद पद से हटा सकता है । पद से हटाए जाने के बाद उक्त व्यक्ति को 6 वर्ष तक निर्वाचन में भाग लेने के लिए आयोग्य होता है ।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007