ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: 2 निरीक्षकों का तबादला, एसएसपी अग्रवाल ने ज़ारी किया आदेशवन विभाग की गिरफ्त में आए तीन संदिग्ध शिकारी, स्कॉर्पियो, राइफल व अन्य सामग्री जप्तरिश्ते निभाने में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते ये 4 राशि वाले लोग, जानें कहीं आप भी इसमें शामिल तो नहींधनुष को ऐश्वर्या से तलाक लेना पड़ा भारी, रजनी के फैंस ने किया एक्टर की अपकमिंग फिल्म का बहिष्कार..AFC Women’s Asian Cup 2022: ईरान से नही जीत पाया भारत, सही मौके पर किया कई गोल मिस, नतीजन मैच का हुआ ये हालसलमान और अमिताभ हुए ढेर, टीआरपी लिस्ट में अनुपमा ने फिर मारी बाजी, इन दो सीरियल को लगा तगड़ा झटका..यूजी और नीट की काउंसलिंग हुई शुरु, रजिस्ट्रेशन करने के लिए इन स्टेप्स को करें फॉलों…CORONA BREAKING : प्रदेश में नही थम रहा कोरोना का कहर, आज मिले 5649 नए मरीज, जाने जिलेवार संक्रमित मरीजों की संख्या..संतोष कुमार मांझी को मिली नई जिम्मेदारी, मत्स्य महासंघ मर्यादित रायपुर के संचालक मंडल में बनाए गए सदस्य, मित्रों और समर्थकों में खुशी की लहर…सरकार ने कम किए RT-PCR जांच के रेट, अब इतने रुपए में हो जाएगा काम, जाने रैपिड एंटीजन टेस्ट का दाम

क्या आप जानते हैं छत्तीसगढ़ से थी यह पहली महिला सांसद, 14 भाषाओँ का था ज्ञान…

Mahendra Kumar SahuDecember 18, 20211min

रायपुर। क्या आप जानते हैं कि देश की पहली महिला सांसद छत्तीसगढ़ से थीं, जी हां असम में जन्मी देश की पहली महिला सांसद हमारे प्रदेश छत्तीसगढ़ से थीं जिनका नाम मिनिनाता था। मिनीमाता ने राज्य को कई सारी योजनाएं और संस्थान दिए हैं. वे अपने पूरे जीवनकाल में गरीबी और छुआछूत को हटाने के लिए अनेक कार्य किये हैं. नारी, शिक्षा और मजदूरों को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने सदैव अपनी आवाज उठायी है. उनकी बदौलत संसद में अस्पृशयता बिल पास करवाया गया.

READ MORE : श्रम मंत्री शिव डहरिया के जन्मदिवस पर सीएम बघेल ने दी शुभकामनाएं, कहा- बाबा घासीदास की कृपा आप पर बनी रहे…

दहेज़ प्रथा और बाल विवाह जैसी कुप्रथा के लिए उन्होंने अपनी आवाज सांसद तक पहुंचाई है. प्रदेश में कृषि तथा सिंचाई के लिए हसदेव बांध परियोजना भी उन्हीं की देन है। भिलाई इस्पात संयंत्र में बाहरी लोगों के बजाय स्थानीय निवासियों को रोजगार और औद्योगिक प्रशिक्षण के अवसर उपलब्ध कराने के लिए आज भी सब उनका स्मरण करते हैं.

उनका जन्म 1913 में असम के नगांव जिले में हुआ था। बचपन में उनके परिजन उन्हें मिनाक्षी नाम से पुकारते थे।
वे छत्तीसगढ़ की पहली महिला सांसद थीं जो वर्ष 1952, 1957, 1962, 1967 और 1971 में कांग्रेस पार्टी के टिकट पर सांसद चुनी गई थीं।
मिनीमाता जब बतौर सांसद दिल्ली में रहा करती थीं तो उनका निवास एक धर्मशाला जैसा था। उन्हें छत्तीसगढ़ी के साथ हिंदी और अंग्रेजी समेत कुल 14 भाषाओँ का ज्ञान था. 11 अगस्त 1972 को एक विमान हादसे में उनकी मृत्यु हो गई थीं.

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007