ताज़ा ख़बर
हैदराबाद बना देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर, रिपोर्ट हुआ जारी, पहले नंबर के शहर का नाम सुनकर चौंक उठेंगे आपRAIPUR BREAKING: मोबाइल चोर गिरोह का खुलासा, 60 से अधिक लोगो को बना चुके है निशाना,नेपाल में खपाते थे चोरी के एप्पल आईफोन, 2 नाबालिक सहित 3 अंतर्राज्यीय आरोपी गिरफ़्तारसंघ लोक सेवा आयोग ने भारतीय वन सेवा की परीक्षाओं की समय सारणी की जारी, इस दिन से शुरू होगी परीक्षाभय्यूजी महाराज केस में तीन लोगों को 6-6 साल की सजा…सेवादार, ड्राइवर और शिष्या को कोर्ट ने दिया दोषी करार…BIG BREAKING: रायपुर एयरपोर्ट चौक पर तेज़ रफ़्तार कार डिवाइडर से टकराई, 21 वर्षीय युवक की मौके पर मौतसेब के साथ उसके छिलके भी हैं सेहत के लिए लाभदायक, फेंकने के बदले इस प्रकार कर सकते हैं इस्तेमाल…Buy Term Papers Online – How to Prevent the Pitfallsवन अधिकार मान्यता पत्र की मांग को लेकर संसदीय सचिव से मुलाकात, उचित पहल करने का दिया आश्वासनकिम-जॉंग के हैं बेहद अजीबो-गरीब शौक…अपना टॉयलेट साथ में लेकर चलता है तानाशाह…वजह जानकर हो जाएंगे आप हैरान…कांग्रेस के जिला प्रवक्ता ने भाजपाइयों को दिया सड़क के भूमि पूजन का निमंत्रण

सरकार का दावा मौतों के नहीं है कोई रिकॉर्ड : केन्द्र के रवैये पर भड़की कांग्रेस, किसान नेता बोले-हम देते हैं डाटा

Mahendra Kumar SahuDecember 1, 20211min

 

 

नई दिल्ली। कृषि बिल (Farmer Bill) लेने के बाद केन्द्र सरकार (Central Government) की मुसीबत कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है। अब बुधवार को लोकसभा (Loksabha) में सरकार ने दावा किया है कि मंत्रालय के पास किसानों (Farmer) की मौत संबंधी कोई रिकॉर्ड नहीं है। केन्द्र के इस बयान के बाद विपक्षी नेता हंगामा मचाना शुरू कर दिये हैं। किसानों के मौत के मामले में एक फिर सरकार घिरती हुई नजर आ रही है।

 

 

 

आपको बता दें कि पूरे मामले में कांग्रेस ने किसान आंदोलन में मारे गये किसानों के परिजनों को 5-5 करोड़ रुपये मुआवजा देने की मांग की है। साथ ही किसानों की एमएसपी समेत अन्य मांगों को भी माना जाने की बात कही है। कांग्रेस (congress)  का कहना है कि यह ऐतिहासिक किसान आंदोलन है, जिसकी वजह से काले कानून वापस लिए गए। उन्होंने कहा, इस आंदोलन में 700 किसान शहीद हुए हैं।

 

सरकार ने लोकसभा में पूछा गया था कि क्या सरकार के पास कोई डाटा है कि कितने किसानों की आंदोलन के दौरान मौत हुई है और क्या सरकार आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों को मुआवजा देगी। सरकार इसकी जानकारी दे। इस सवाल के जवाब में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा में लिखित जवाब में कहा, कृषि मंत्रालय के पास किसान आंदोलन की वजह से किसी किसान की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं है। ऐसे में मृतक किसानों को वित्तीय सहायता देने का कोई सवाल ही नहीं उठता।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007