ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: 2 निरीक्षकों का तबादला, एसएसपी अग्रवाल ने ज़ारी किया आदेशवन विभाग की गिरफ्त में आए तीन संदिग्ध शिकारी, स्कॉर्पियो, राइफल व अन्य सामग्री जप्तरिश्ते निभाने में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते ये 4 राशि वाले लोग, जानें कहीं आप भी इसमें शामिल तो नहींधनुष को ऐश्वर्या से तलाक लेना पड़ा भारी, रजनी के फैंस ने किया एक्टर की अपकमिंग फिल्म का बहिष्कार..AFC Women’s Asian Cup 2022: ईरान से नही जीत पाया भारत, सही मौके पर किया कई गोल मिस, नतीजन मैच का हुआ ये हालसलमान और अमिताभ हुए ढेर, टीआरपी लिस्ट में अनुपमा ने फिर मारी बाजी, इन दो सीरियल को लगा तगड़ा झटका..यूजी और नीट की काउंसलिंग हुई शुरु, रजिस्ट्रेशन करने के लिए इन स्टेप्स को करें फॉलों…CORONA BREAKING : प्रदेश में नही थम रहा कोरोना का कहर, आज मिले 5649 नए मरीज, जाने जिलेवार संक्रमित मरीजों की संख्या..संतोष कुमार मांझी को मिली नई जिम्मेदारी, मत्स्य महासंघ मर्यादित रायपुर के संचालक मंडल में बनाए गए सदस्य, मित्रों और समर्थकों में खुशी की लहर…सरकार ने कम किए RT-PCR जांच के रेट, अब इतने रुपए में हो जाएगा काम, जाने रैपिड एंटीजन टेस्ट का दाम

केंद्र सरकार का बड़ा तोहफा, खुद का जन औषधि केंद्र शुरू करने का दे रही मौका, बस करना होगा ये छोटा सा काम …

Mahendra Kumar SahuNovember 29, 20211min

नई दिल्ली.  कोरोना (Covid)महामारी फैलने के बाद सैंकड़ों लोगों का रोजगार ख़त्म हो गया था जिसके बाद कई युवा डिप्रेशन का शिकार हो गए थे. इन हालातों में केंद्र की मोदी सरकार ने युवाओं और अन्य लोगों की मदद करते हुए स्वरोजगार करने की सलाह दी और उनकी हर संभव सहायता करने का प्रयास किया. लोगों की मदद के लिए केंद्र सरकार ने कई ऐसी योजनाएं बनायी जिससे लोग स्वरोजगार यानी स्वयं का रोजगार शुरू कर सकें. इसी में सहायता करते हुए मोदी सरकार एक ऐसी योजना लेकर आई है जिससे आप अच्छी आय अर्जित कर स्वनिर्भर हो सकते हैं.

केंद्र सरकार प्रधानमंत्री (Prime minister) भारतीय जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए लोगों को आमंत्रित कर रही है. कम लागत में अच्छी कमाई देने वाला यह व्यवसाय एक सुनहरा अवसर साबित हो सकता है. इस व्यवसाय को शुरु करने के लिए सर्वप्रथम ‘रिटेल ड्रग सेल्स’ का लाइसेंस जनऔषधि केंद्र के नाम से लेना होता है. केंद्र सरकार द्वारा जारी अधिकृत वेबसाइट https://janaushadhi.gov.in/ से फॉर्म डाउनलोड करें. इसके बाद आवेदन ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर (A&F) के नाम से भेजें.

खुद का जनऔषधि केंद्र शुरु करने के लिए केंद्र सरकार ने तीन वर्ग निर्धारित किये हैं. पहले वर्ग में कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर अथवा पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर जन औषधि केंद्र शुरु कर सकता है. दूसरे वर्ग में ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट अस्पताल, स्वयं सहायता समूह वाले आते हैं, जबकि तीसरे वर्ग में राज्य सरकारों की तरफ से नॉमिनेट एजेंसियों को अवसर दिया गया है.

 

READ MORE : KBC के 21 साल और 1000 एपिसोड: पुराने दिनों को याद कर भावुक हुए अमिताभ बच्चन, आंखों से छलके आंसू, कहा- ऐसा लग रहा है जैसे पूरी दुनिया बदल गई…

ऋण वापसी योजना जन औषधि केंद्र शुरु करने के लिए दुकान में फर्नीचर के लिए 1.5 लाख रुपए तक का खर्च आता है, जबकि कंप्यूटर और फ्रिज में लगभग 50 हजार रुपए का खर्च आता है.

 

 

 

इस धनराशि को मासिक आधार पर अधिकतम 15 हजार रुपए तब तक वापस करना जरूरी होता है, जब तक 2 लाख रुपए की राशि चुकता ना हो जाये. इस इंसेंटिव को मंथली परचेज का 15 फीसदी या 15000 में जो अधिक हो, के आधार पर दिया जाता है. जन औषधि केंद्र व्यवसाय में अच्छी कमाई होती है. इसे शुरु करने पर दवा की बिक्री पर 20 प्रतिशत मार्जिन दुकान चलाने वालों को दिया जाता है.

 

 

 

 

इसमें नॉर्मल एवं स्पेशल इंसेंटिव का भी प्रावधान है नॉर्मल इंसेंटिव के रूप में केंद्र सरकार दवा की दुकान शुरु करने में आने वाले खर्च को वापस लौटा देती है. जनऔषधि केंद्र एक ऐसी सरकारी योजना है, जिसके तहत आम लोगों को कम कीमत पर दवाएं उपलब्ध कराई जाती है. इसके जरिये केंद्र सरकार लोगों को सस्ती कीमत पर दवाएं उपलब्ध कराती है. केंद्र सरकार इस योजना के जरिए देश के विभिन्न हिस्सों में ‘प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र’ खोलने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रही है. केंद्र सरकार ने मार्च 2024 तक 10,000 जन औषधि केंद्र खोलने का लक्ष्य निर्धारित किया है.

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007