ताज़ा ख़बर
Utilizing Custom Paper to Make an Effective Siteसरकार का दावा मौतों के नहीं है कोई रिकॉर्ड : केन्द्र के रवैये पर भड़की कांग्रेस, किसान नेता बोले-हम देते हैं डाटानिकाय चुनाव : 15 सीटों पर प्रत्याशी चयन को लेकर कांग्रेस की अंतिम सूची पर आज शाम तक लगेगी मुहरआम लोगों की फिर टूटी उम्मीद, 100 रूपए महंगा हुआ गैस सिलेंडर, जाने कहां, कितने बढ़े दाम…RAIPUR BREAKING : अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझाई, रिश्तेदार ने अपने ही 2 साथियों के साथ मिलकर दिया था घटना को अंजाम, पूछताछ में ज़मीन विवाद का हुआ खुलासा!!!!कोरोना के नए वैरिएंट ने लोगों में बढ़ाई दहशत, बीते 3 दिनों में विदेश से लौटे राजधानी के 78 यात्री, यात्रियों को रहना होगा 7 दिन क्वॉरेंटाइन मेंछत्तीसगढ़ में आज से होगी धान खरीदी, साढ़े 22 लाख किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी करेगी सरकार, बारदाना इस साल भी बना मुसीबतBREAKING नगरीय निकाय चुनाव : कांग्रेस ने 5 नगर पंचायत और 2 नगर पालिकाओं के कांग्रेस प्रत्याशियों की जारी की सूची, देखे पूरी सूचीOmicron Alert: दूसरे देशों से प्रदेश में आने वालों की होगी Genome Sequencing, आखिर क्या होती है ये सिक्वेंसिंग और देश में कहा कहा है इसकी सुविधा जूनियर डॉक्टर ने राज्यपाल से मुलाकात कर 2 सूत्रीय मांगो को लेकर सौंपा ज्ञापन, जूनियर डॉक्टरों ने कहा..

दुनिया के चौथे व एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट-जेवर की आज आधारशिला रखेंगे पीएम नरेन्द्र मोदी

Mahendra Kumar SahuNovember 25, 20211min

 

29.650 हजार करोड़ की लागत से बनने वाले इस एयरपोर्ट के खुलने से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवार्ड अड्डे पर दबाव होगा कम

 

नोएडा।  दुनिया के चौथे व एशिया के सबसे बड़े हवाई अड्डे की आधारशिला आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रखने जा रहे हैं। ग्रेटर नोएडा के जेवर में 29 हजार 650 करोड़ रुपये की लागत से 5845 हेक्टेयर जमीन पर बनने वाले इस एयरपोर्ट के शुरू होने के बाद इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट का दबाव कम हो जाएगा।

सितंबर 2024 में शुरू हो जाएगी उड़ान:

जेवर एयरपोर्ट पर एक साथ 178 विमान खड़े हो सकेंगे। पहली फ्लाइट यहां से सितंबर 2024 में उड़ेगी। शुरुआत में जेवर एयरपोर्ट की सालाना क्षमता 9 करोड़ यात्रियों की होगी, जिसे साल 2050 तक 20 करोड़ किये जाने की योजना है। ये एयरपोर्ट पूरी तरह प्रदूषण से मुक्त होगा। एयरपोर्ट के पहले चरण के निर्माण पर करीब 10 हजार करोड़ रुपये का निवेश होगा।

 

इसीलिए जरूरी है जेवर में एयरपोर्ट:

अगर पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुछ शहरों के लोगों को एयरपोर्ट जाना हो तो वह कम से कम 2 घंटे के सफर के बाद दिल्ली पहुंचते हैं। जेवर में एयरपोर्ट बनने के बाद इन लोगों के लिए हवाई सफर और आसान हो जाएगा।

 

 

लाखों को मिलेगा रोजगार:

इंटरनेशनल एयरपोर्ट के आसपास करीब 100 अन्य इंडस्ट्री, मेडिकल इंस्टीट्यूट, होटल-शॉपिंग मॉल और कन्वेंशन सेंटर बनाने की भी योजना है। इससे करीब एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। इससे कारोबारी सहित किसानों के भी दिन बहुरेंगे। जेवर एयरपोर्ट के करीब 69 फर्मों को लगभग 146 हेक्टेयर औद्योगिक जमीन दी गई है।

 

 

जेवर एयरपोर्ट से 8 डोमेस्टिक और 1 इंटरनेशनल फ्लाइट शुरू की जाएंगीं। दिल्ली एयरपोर्ट की क्षमता पूरी होते ही यहां से 27-27 डोमेस्टिक-इंटरनेशनल फ्लाइट्स उड़ान भरने लगेंगीं। यह एयरपोर्ट कम से कम साल 2030 तक दिल्ली जैसा अंतरराष्ट्रीय आकार ले पाएगा।

 

READ MOER: India vs New Zealand LIVE Updates: टीम इंडिया को इतने रन पर लगा पहला झटका, गिल-पुजारा क्रीज पर, यहां देखें मैच से जुड़े अपडेट्स

 

हजारों हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण:

जेवर एयरपोर्ट के पहले चरण के लिए 1,334 हेक्टयर भूमि का अधिग्रहण किया गया है। ग्लोबल टेंडर के जरिये एटरपोर्ट निर्माण का कार्य स्विट्जरलैंड की ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी को दिया गया है। एयरपोर्ट के फेज 2 में 1365 हेक्टेयर, फेज 3 में 1318 हेक्टेयर और फेज 4 में 735 हेक्टेयर जमीन पर निर्माण कार्य होगा।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007