ताज़ा ख़बर
अपने ही भ्रष्टाचार का सचिव खुद करेगा मूल्यांकन, पंचायत को नही उपयंत्री की जरूरत, घटिया कार्यो का गढ़ बनता जा रहा पंचायत, अधिकारियों की सह पर खुलेआम भ्रष्टाचारबंद पड़ी रेलगाड़ियों का परिचालन बेहद जरूरी : वैश्यRAIPUR BIG BREAKING: राजधानी में देर रात दर्दनाक सड़क हादसा, 1 युवती की मौके पर ही मौत, अन्य गंभीर रूप से घायलHow Professional Essay Services Can Benefit Studentsइन राशियों को मिलेगा भाग्य का साथ, सूर्य की तरह चमकेगी किस्मत, पढ़ें 28 नवंबर का राशिफल..बिग ब्रेकिंग : देर रात 40 पटवारियों का हुआ तबादला, देखिए पूरी लिस्ट..Airtel ने किया फ्री डाटा देने का ऐलान, इन ग्राहकों को मिलेगा लाभ, जल्दी कीजिए इस प्लान के तहत रिचार्ज..इस महिला ने उठाया चौकाने वाला कदम, पति के गुजर जाने के बाद गाय के साथ किया ये काम, सुनकर हैरान हो जाएंगे आप..इतने रुपए सस्ता मिलेगा गैस सिलेंडर, LPG ग्राहकों को मिली बड़ी राहत, जल्द शुरु हो सकती है ये सेवा..जोर- शोर से शुरु हुई कैटरीना-विक्की की शादी की तैयरियां, सलमान से लेकर बॉलीवुड के कलाकार नही है शादी में Allow..

भोजन का भूलकर भी न करें अपमान, नहीं तो भुगतना पड़ सकता है ये परिणाम, इन बातों का रखें खास ध्यान

Mahendra Kumar SahuNovember 25, 20211min

 

नई दिल्ली। इंसान के जीवन में सबसे उपयोगी कोई चीज है तो वो है भोजन. भोजन हमारे जीवन का काफी महत्वपूर्ण हिस्सा है. भोजन जीवन के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है. धरती पर जिसके अंदर भी भगवान ने जान डालकर भेजी है, उन सबके लिए भोजन जरूरी है.

 

 

भोजन जीवन की सभी ऊर्जाओं का स्त्रोत भी होता है. यही कारण है कि हिंदू धर्म में भोजन को लेकर कई विशेष नियम बताए गए हैं,भोजन कैसे करना चाहिए? भोजन करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? खाना खाते वक्त क्या करना चाहिए? और क्या नहीं करना चाहिए?

 

 

READ MORE: रायपुर नगर निगम की सामान्य सभा आज: पक्ष-विपक्ष के बीच इन मुद्दों को लेकर हो सकती है तीखी नोंक-झोंक, 14 एजेंडो पर चर्चा के बाद लग सकती है मुहर, एक घंटे का होगा प्रश्नकाल

 

 

 

भोजन को लेकर जिन नियमों के बारे में बताया गया है, वह जानना सभी के लिए आवश्यक है. पौराणिक शास्त्रों में भोजन को लेकर कुछ नियमों आदि का उल्लेख किया गया है. सनातन धर्म में खाना खाने से पहले तीन बार जल छिड़कने की परंपरा रही है. कहते हैं इस तरह से हम अन्न देवता को खुश करते हैं और पहले उनको भोग देते हैं. जबकि वैज्ञानिक समीकरण में इस पर कहा गया है कि पहले के समय में लोग जमीन पर बैठ कर खाना खाने से पहले आचमान जरूर करते थे, जिससे चारो और पानी का घेरा रहता था और इसके चलते जमीन पर रखी थाली के पास कोई कीटाणु नहीं आता था. ऐसे में हम जानते हैं कि भोजन करते समय किन नियमों का पालन करना चाहिए.

 

 

 

 

आइए जानते हैं नियम
हमारे पौराणिक ग्रंथों में उल्लेख किया गया है कि भोजन को एक शुद्ध जगह पर बनाना चाहिए. शुद्ध जगह पर बने भोजन में ताजगी रहती है. भोजन को हर की कोई कन्या या स्त्री बना रही है, तो इससे सकारात्मकता आती है और जीवन में सुख समृद्धि की उन्नति होती है. इतना ही नहीं हिंदू मान्यता के अनुसार भोजन को सबसे पहले अग्नि देव को समर्पित किया जाता है. इसके अलावा भोजन करने से पहले इस मंत्र को जरूर पढ़ना चाहिए,इससे सभी देवी देवता आदि खुश होते हैं.

 

 

 

 

जानिए भोजन मंत्र
ब्रह्मार्पणं ब्रह्महविर्ब्रह्माग्नौ ब्रह्मणा हुतम्।
ब्रह्मैव तेन गन्तव्यं ब्रह्मकर्म समाधिना।।

 

ॐ सह नाववतु।
सह नौ भुनक्तु।
सह वीर्यं करवावहै।
तेजस्विनावधीतमस्तु।
मा विद्विषावहै॥
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:॥

 

 

READ MORE: मार्गशीर्ष मास का गुरुवार जानिए क्यों है बेहद खास, इस दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा से मिलते हैं विशेष फल, भूलकर भी न करें ये काम

 

 

पंचवालिका के बाद यदि घर में किसी अतिथि का आगमन हुआ है तो उसके लिए भोजन जरूरी करवाना चाहिए.अगर घर पर खाना कम भी हो तो भी अतिथि के लिए ताजा भोजन बनना चाहिए.

 

 

 

भोजन कैसा भी क्यों ना बना हो?
खाते वक्त हमेशा याद रखें कि भोजन की निंदा नहीं करनी चाहिए. भोजन कितना भी खराब ही क्यों ना बना हो, लेकिन भोजन को ईश्वर का प्रसाद समझकर खा लेना चाहिए, ऐसा करने से जीवन में कई सकारात्मक असर पड़ते हैं.

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007