ताज़ा ख़बर
अपने ही भ्रष्टाचार का सचिव खुद करेगा मूल्यांकन, पंचायत को नही उपयंत्री की जरूरत, घटिया कार्यो का गढ़ बनता जा रहा पंचायत, अधिकारियों की सह पर खुलेआम भ्रष्टाचारबंद पड़ी रेलगाड़ियों का परिचालन बेहद जरूरी : वैश्यRAIPUR BIG BREAKING: राजधानी में देर रात दर्दनाक सड़क हादसा, 1 युवती की मौके पर ही मौत, अन्य गंभीर रूप से घायलHow Professional Essay Services Can Benefit Studentsइन राशियों को मिलेगा भाग्य का साथ, सूर्य की तरह चमकेगी किस्मत, पढ़ें 28 नवंबर का राशिफल..बिग ब्रेकिंग : देर रात 40 पटवारियों का हुआ तबादला, देखिए पूरी लिस्ट..Airtel ने किया फ्री डाटा देने का ऐलान, इन ग्राहकों को मिलेगा लाभ, जल्दी कीजिए इस प्लान के तहत रिचार्ज..इस महिला ने उठाया चौकाने वाला कदम, पति के गुजर जाने के बाद गाय के साथ किया ये काम, सुनकर हैरान हो जाएंगे आप..इतने रुपए सस्ता मिलेगा गैस सिलेंडर, LPG ग्राहकों को मिली बड़ी राहत, जल्द शुरु हो सकती है ये सेवा..जोर- शोर से शुरु हुई कैटरीना-विक्की की शादी की तैयरियां, सलमान से लेकर बॉलीवुड के कलाकार नही है शादी में Allow..

कोरोना से मृतक व्यक्ति के परिवारों को 4 लाख रूपए की मुआवजा राशि देने की मांग, मुख्यमंत्री बघेल ने प्रधानमंत्री को लिखी चिट्ठी ..

Mahendra Kumar SahuNovember 24, 20211min

रायपुर । Chief Minister Bhupesh Baghel ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर मांग की है कि केन्द्र सरकार कोरोना से मृतक व्यक्ति के परिवारों को मुआवजा के रूप में पूर्व घोषित 4 लाख रूपए की राशि देने के लिए आवश्यक पहल करें। प्रधानमंत्री को भेजी गई चिट्ठी में  CM BHUPESH  ने लिखा है कि केन्द्र सरकार गृह मंत्रालय द्वारा 14 मार्च 2020 को जारी अपने पहले आदेश को लागू करें, जिसमें सरकार ने प्रति मृतक 4 लाख रूपए की राशि देने की घोषणा की थी।Chief Minister Bhupesh Baghel ने चिट्ठी में यह भी अवगत कराया है कि central government ने बाद में इस अधिसूचना में संशोधन किया और मुआवजे की राशि को घटकार 50 हजार रूपए कर दिया। हमें लगता है कि ऐसे संकट के समय में मृतक के परिवार को 4 लाख रूपए की राशि प्रदान करना जरूरी है। हमारा ऐसा मानना है कि SDRF मानदंडों के अनुसार मुआवजा राशि 4 लाख रूपए में से 75 प्रतिशत जो कि 3 लाख होते हैं, central government  द्वारा वहन किया जाना है, जबकि शेष 25 प्रतिशत जो कि एक लाख रूपए है, राज्यों की जिम्मेदारी होगी। हम कुल 4 लाख रूपए मुआवजे की राशि में से राज्य के हिस्से की राशि देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसमें हम आपके सहयोग की अपेक्षा करते हैं ताकि संकट की इस घड़ी में हम अपने नागरिकों के साथ खड़े हो सकें और उन्हें सम्मानपूर्वक जीवन जीने में अपना योगदान दे सकें।

READ MORE : नौकरी पाने का सुनहरा अवसर,यहां निकली बंपर वैकेंसी, ये रही शैक्षणिक योग्यता, जल्दी करें अप्लाई कहीं देर ना हो जाए..

मुख्यमंत्री बघेल ने चिट्ठी में यह भी अवगत कराया है कि हमारे संविधान में निहित जनकल्याण भाव-हमारे नागरिकों को शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य आवश्यक सेवाओं का मूल अधिकार प्रदान करता है। इसके साथ ही हमारा संविधान भारत के प्रत्येक नागरिक को यह अधिकार देता है कि जो राज्य से अपने संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करा सके। 11 सितम्बर 2021 को भारत सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक विस्तृत हलफनामा प्रस्तुत किया, जिसमें कहा गया कि वह एसडीआरएफ (राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष) के माध्यम से कोविड-19 महामारी से प्रभावित लोगों के परिवारों को मुआवजा राशि के रूप में 50 हजार रूपए का भुगतान करेगा। एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) के तहत मुआवजे की राशि को केन्द्र और राज्य द्वारा क्रमशः 75 प्रतिशत से 25 प्रतिशत के अनुपात में साझे रूप से वहन किया जाता है।

READ MORE: क्या बीजेपी और मनसे होंगे साथ, राज ठाकरे से देवेंद्र फडणवीस के मिलने के बाद अफवाहों का बाजार गर्म..

मुख्यमंत्री बघेल ने चिट्ठी में अवगत कराया है कि कोविड-19 महामारी ने इस देश की अधिकांश आबादी को बुरी तरह प्रभावित किया है। लोगों की असमय मौत हुई है, व्यवसाय बंद हो गए हैं, लोग पलायन को मजबूर हो गए हैं। परिवारों ने अपने कमाऊ सदस्यों को खो दिया है और महामारी के दौरान निजी अस्पतालों में इलाज के खर्च ने उन्हें सड़कों पर ला दिया है। परिवारों ने अपनी सारी बचत गंवा दी है और वो भारी कर्ज में डूब गए हैं। ऐसे कठिन समय में मुआवजे के रूप में सिर्फ 50 हजार रूपए बिल्कुल भी पर्याप्त नहीं है। सरकार ने माननीय सुप्रीम कोर्ट के समक्ष यह तर्क दिया है कि 4 लाख रूपए मुआवजा देने के बाद केन्द्र सरकार के पास कोविड-19 से निपटने के लिए सरकार के खजाने में पर्याप्त धन नहीं बचेगा। जबकि सरकार द्वारा लगातार महंगा पेट्रोल, डीजल बेच कर जनता से कर एकत्रित करना जारी है और दूसरी तरफ कार्पोरेट मिलों को लगातार कर में रियायत दी जा रही है। वही सरकार देश के आम नागरिकों को कोई राहत देने से इनकार करती है।

मुख्यमंत्री बघेल ने चिट्ठी में यह भी अवगत कराया है कि एक लोक कल्याणकारी राज्य की अवधारणा पर आधारित राष्ट्र की यह जिम्मेदारी है कि वह जरूरत के समय अपने नागरिकों की देखभाल करें। हमने अपने राज्य में इस कठिन समय में लोगों की मदद करने के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की है। हमें उम्मीद है कि केन्द्र सरकार भी इस जिम्मेदारी को साझा करेगी।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007