ताज़ा ख़बर
Nora Fatehi की इन फोटो ने सोशल मीडिया में लगाई आग, बोल्डनेस देख सबका हुआ बुरा हालविराट कोहली की वनडे कप्तानी को लेकर जल्द आ सकता अहम फैसला, हो सकता है बड़ा बदलाव..कार्तिक आर्यन ने करण जौहर और दोस्ताना 2 को लेकर कही ये बात, सुनकर उड़ गए ट्रोलर्स के उड़े होशBIG BREAKING : महाराष्ट्र के बाद इस राज्य में हुआ ओमिक्रॉन ब्लास्ट, एक ही परिवार के 9 सदस्य मिले संक्रमित, हाल में दक्षिण अफ्रीका से लौटा था परिवार..घरेलू कलह के चलते पत्नी ने पांच बेटियों के साथ कुएं में लगाई छलांग, उसके बाद जो हुआ सुनकर यकीन नही होगा..ये है पांच सबसे सस्ते फोन, जिनके फीचर्स और प्राइस सुनकर उड़ जाएंगे होश..BIG BREAKING: राज्य में हुआ ओमिक्रॉन ब्लास्ट, एक साथ मिले 7 नए मरीज, देश में 12 हुई मरीजों की संख्या, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट ..बिग बैश लीग : ग्लेन मैक्सवेल की कप्तानी वाली मेलबर्न स्टार्स की टीम को मिली शर्मनाक हार, 11.1 ओवर में ढेर हुई पूरी टीम..महंगाई के बीच Reliance Jio दे रहा अपने ग्राहको को बड़ी राहत, इन ऑफर के जरिए उठा सकते है लाभ..मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पशुपालकों, महिला समूहों और गौठान समितियों को दी करोड़ों की सौगात, जारी की इतनी बड़ी रकम..

संसद के शीतकालीन सत्र में तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने प्रस्तुत होगा विधेयक

Mahendra Kumar SahuNovember 24, 20211min

 

 

नई दिल्ली।  देशहित व कृषक हित के लिए लाए गए तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने अब 29 नवंबर को संसद के शीतकालीन सत्र में विधेयक प्रस्तुत किया जाएगा। 29 नवंबर के लिए लोकसभा के लिए प्रकाशित सूची से पता चला है कि तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए (फार्म लॉज रिपील बिल 2021) शीर्षक वाला बिल – (1) किसान उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020; (2) आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020; और (3) कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020, 29 नवंबर को पेश किया जाएगा।

 

सितंबर 2020 में संसद द्वारा बनाए गए इन कानूनों का कई किसान संगठनों ने कड़ा विरोध किया है। देश भर में कई किसान समूह इन कानूनों के पारित होने के बाद से एक साल से अधिक समय से व्यापक विरोध और आंदोलन कर रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि इन कानूनों को खत्म कर दिया जाए। 19 नवंबर को राष्ट्र के नाम एक विशेष संबोधन में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की कि केंद्र संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए कदम उठाएगा।

 

इधर प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा-हमने तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने का फैसला किया है। हम आगामी संसद सत्र में कानून को निरस्त करने के लिए संवैधानिक प्रक्रिया के तहत समाप्त करेंगे। जनवरी 2021 में, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और विरोध करने वाले समूहों के बीच बातचीत की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए अगले आदेश तक इन कानूनों के कार्यान्वयन पर रोक लगा दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने भी वार्ता करने के लिए एक समिति का गठन किया था। हालांकि, किसान संघों के नेताओं ने समिति का बहिष्कार किया।

 

 

किसानों द्वारा उठाई गई मुख्य शिकायत यह है कि कानूनों के परिणामस्वरूप राज्य द्वारा संचालित कृषि उपज विपणन समितियों को समाप्त कर दिया जाएगा, और न्यूनतम समर्थन मूल्य तंत्र को बाधित करेगा। विरोध कर रहे किसानों को डर है कि कानून कॉरपोरेट शोषण का मार्ग प्रशस्त करेगा। इन कृषि कानूनों की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं का एक बैच सुप्रीम कोर्ट में दायर किया गया है और इसे लागू करने में संसद की क्षमता पर भी सवाल उठाया गया है।

 

READ MORE : सरकार ने 300% बढ़ाई पुलिस की पॉकेट मनी, हर महीने मिलेंगे इतने रुपये ज्यादा, पढ़ें पूरी जानकारी….

 

 

हाल ही में उत्तर प्रदेश में हुई लखमीपुर खीरी हिंसा की घटना तब हुई जब केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के काफिले में वाहनों ने कथित तौर पर किसानों के एक समूह में टक्कर मार दी, जो कानूनों के खिलाफ धरना दे रहे थे। अक्टूबर 2021 की एक समाचार रिपोर्ट के अनुसार साल भर के विरोध प्रदर्शनों के दौरान लगभग 600 लोगों की जान चली गई है। प्रदर्शनकारियों ने विरोध प्रदर्शन के हिस्से के रूप में गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में एक ट्रैक्टर परेड का आयोजन किया था, जिसके कारण राष्ट्रीय राजधानी और लाल किले में हिंसक घटनाएं हुईं।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007