ताज़ा ख़बर
मिर्जापुर के इस फेमस एक्टर की हुई मौत, मुन्ना भईया ने सोशल मीडिया में पोस्ट शेयर कर दी जानकारी, फैंस को लगा गहरा सदमा..जियो के ग्राहकों को लगा बड़ा झटका, कंपनी ने इतने प्रतिशत बढ़ाए कॉल और डेटा प्लांस, जानिए सारे प्लांस के दाम..BIG BREAKING : ” ओमिक्रॉन ” ने भारत में दी दस्तक, इस राज्य में मिले दो केस, केंद्रीय स्वास्थय मंत्रालय ने की पुष्टी…BAD NEWS: मिर्जापुर के इस कलाकार का हुआ निधन, फ्लैट में बहुत बुरी स्थिति में मिला शव, निभाया था बेहद अहम् किरदारसैमसंग ने लांच किया सबसे सस्ता स्मार्टफोन, फीचर्स और प्राइस सुनकर उड़ जाएंगे होश..रिसर्च में खुलासा : ज्यादा समय मोबाइल पर बिताने से बच्चे हो रहे इस गंभीर बीमारी का शिकार..तड़प के प्रीमियर में केएल राहुल ने किया कुछ ऐेसा, देखकर उड़ गए सलमान और सुनील शेट्टी के होश, जानिए आखिए क्रिकेटर ने क्या किया ..एल्गार परिषद मामला : सुधा भारद्वाज को मिली राहत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी तकनीकी खामी के आधार पर जमानत, कहा – वह जमानत की हकदारअगर यह दुर्लभ नोट आपके पास है तो आप जल्द हो सकते हैं मालामाल, करें यह मामूली प्रोसेस…कोरोना बुलेटिन : प्रदेश के इस जिले में आज मिले सबसे ज़्यादा कोरोना के मरीज, स्वास्थ्य विभग ने जारी किया मरीजों का आंकड़ा

युवा पीढ़ी को नशे के दलदल से बचाने भूपेश सरकार का बड़ा फैसला राज्य में नहीं चलेगा हुक्का बार

Mahendra Kumar SahuNovember 23, 20211min

रायपुर। छत्तीसगढ़ में हुक्का बार को पूरी तरह से बंद करने राज्य सरकार के निर्णय पर आम जनता ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए इसे एक ठोस कदम बताया है। वहीं स्कूलों में शत-प्रतिशत क्षमता के साथ पुनः स्कूल संचालन को लेकर पालकों की अलग-अलग राय है। राज्य सरकार ने केबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले लिए हैं, दूसरी ओर हुक्का बार बंद होने से एक बड़ी राहत मिली है। स्कूली बच्चों में हुक्का की लत लगातार बढ़ रही थी और युवा वर्ग नशे के दलदल में लगातार फंस रहे थे।

मंत्रिपरिषद की बैठक में राज्य सरकार ने ठोस निर्णय लेते हुए छत्तीसगढ़ में हुक्का बार पूरी तरह से बंद कराने का ऐलान कर दिया है। इससे राज्य में वैध-अवैध रूप से चल रहे 1500 से अधिक हुक्का बार हमेशा के लिए बंद हो जाएंगे। अब तक के प्रकरणों में स्पष्ट देखा जा रहा था कि हुक्का बार में अधिकतर स्कूल-कॉलेज के बच्चे ही मुख्य ग्राहक बनकर पहुँचते थे।

 

 

साइकोलॉजिस्टों का भी स्पष्ट मत था कि पिछले कुछ वर्षों में बच्चों में पागलपन, चिड़चिड़ापन के लक्षण काफी तेजी से बढ़ रहे थे। इसकी मुख्य वजह नशे की लत थी। जानकारों की माने तो हुक्का बार में हुक्के में गांजे की बीट डाला जाता है, इससे इसे पीने वाले के मन में इसे दोबारा हासिल करने की चाहत लगातार बढ़ती जाती है। इस तरह शौकिया तौर पर ही सही एक-दो बार हुक्का गुड़गुड़ाने वाले बच्चे लगातार इस नशे के चंगुल में फंसकर रह जाते हैं और इसके बाद उनके स्वभाव में लगातार चिड़चिड़ापन और पागलपन जैसे लक्षण सामने आते हैं।

 

पिछले कुछ सालों में राजधानी रायपुर सहित आसपास के कुछ शहरों में बच्चों में इस तरह के लक्षण लगातार बढ़ रहे थे। जिसकी मुख्य वजह नशे की लत है और इसके पूरा न होने पर बच्चों में यह लक्षण तेजी से बढ़ते जा रहा है। जानकारों की माने तो पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश सहित महाराष्ट्र, ओडिशा, उत्तरप्रदेश, झारखंड जैसे राज्यों में हुक्का बार पूरी तरह से प्रतिबंधित है, इस क्रम में अब छत्तीसगढ़ का नाम भी शामिल होने जा रहा है।

 

READ MORE: देश में एक ही दिन में मिले कोरोना के 7,579 नए मामले, इस राज्य में तीसरी लहर की आशंका से सहमे लोग

 

दूसरी ओर राज्य में अब शत-प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया गया है। राज्य में अब स्कूलों का संचालन पहले की तरह ही होगा। लेकिन राज्य सरकार के इस फैसले को लेकर पालकों में विभिन्न मत अभी भी कायम है। अधिकतर पालक छोटे बच्चों को स्कूल भेजने से कतरा रहे हैं, क्योंकि बच्चों के लिए अभी तक वैक्सीन नहीं आई है। दूसरी ओर कोरोना में अपनों को खोने वाले पालक और ज्यादा घबराए हुए हैं, उन्हें डर है कि स्कूल जाकर कहीं उनके बच्चे भी इस बीमारी की चपेट में न आ जाएं।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007