ताज़ा ख़बर
शहर सरकार : बिरगांव नगरीय निकाय चुनाव त्रिकोणीय होने के आसार, चेहरा या मुद्दा वोटर कन्फ्यूज!मिर्जापुर के इस फेमस एक्टर की हुई मौत, मुन्ना भईया ने सोशल मीडिया में पोस्ट शेयर कर दी जानकारी, फैंस को लगा गहरा सदमा..जियो के ग्राहकों को लगा बड़ा झटका, कंपनी ने इतने प्रतिशत बढ़ाए कॉल और डेटा प्लांस, जानिए सारे प्लांस के दाम..BIG BREAKING : ” ओमिक्रॉन ” ने भारत में दी दस्तक, इस राज्य में मिले दो केस, केंद्रीय स्वास्थय मंत्रालय ने की पुष्टी…BAD NEWS: मिर्जापुर के इस कलाकार का हुआ निधन, फ्लैट में बहुत बुरी स्थिति में मिला शव, निभाया था बेहद अहम् किरदारसैमसंग ने लांच किया सबसे सस्ता स्मार्टफोन, फीचर्स और प्राइस सुनकर उड़ जाएंगे होश..रिसर्च में खुलासा : ज्यादा समय मोबाइल पर बिताने से बच्चे हो रहे इस गंभीर बीमारी का शिकार..तड़प के प्रीमियर में केएल राहुल ने किया कुछ ऐेसा, देखकर उड़ गए सलमान और सुनील शेट्टी के होश, जानिए आखिए क्रिकेटर ने क्या किया ..एल्गार परिषद मामला : सुधा भारद्वाज को मिली राहत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी तकनीकी खामी के आधार पर जमानत, कहा – वह जमानत की हकदारअगर यह दुर्लभ नोट आपके पास है तो आप जल्द हो सकते हैं मालामाल, करें यह मामूली प्रोसेस…

संघ शिविर में भागवत का संबोधन: धर्म परिवर्तन पर किया प्रहार, बोले- विभिन्न जातियों की विशेषता से यह देश सुंदर बना…

Mahendra Kumar SahuNovember 20, 20211min

 

 

 

 

 

 

मुंगेली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) शुक्रवार को मुंगेली जिले के मदकूद्वीप में RSS की तरफ से आयोजित कार्यक्रम (program) में पहुंचे। इस दौरान उन्होंने समाज, पर्यावरण (environment) और भारत (India) की संस्कृति पर बात की। साथ ही इशारों-इशारों में भागवत ने धर्म परिवर्तन (Religion change) करने वालों को भी मुंगेली (Mungeli) के मंच से चेतावनी दे गए।

 

 

 

 

 

संबोधन के दौरान मोहन भागवत ने कहा-

दुनिया के कई देश मानते हैं कि हम एक से होंगे तब एक होंगे। वो मानते हैं कि विविध होंगे तो हम अलग हो जाएंगे। मगर एक सा होने की जरूरत नहीं है, हमारी कई भाषाएं हैं, प्रांत हैं, जाति-उपजाति सभी की विशेषता है। यह सभी एक सुंदर देश बनाती हैं। एक देश को पूर्ण करती हैं। हमें संपूर्ण दुनिया को बताना है कि संतुलन के साथ चलना और विविधता का सम्मान करना हमारी विशेषता है। किसी को बदलने की चेष्टा मत करो, सभी का सम्मान करो, विविधता के साथ चलो। हमारे पूर्वज कई देशों की यात्रा पर गए मगर कभी किसी पर अपनी पूजा नहीं थोपी।

 

 

 

 

मोहन भागवत ने आगे कहा कि इस देश का एक ही धर्म है और वह है सत्य। हमने पूरे विश्व को परिवार मानने, सभी विविधताओं का सम्मान करने, घट-घट में राम का वास है परमात्मा का वास है ये सत्य संपूर्ण दुनिया को दिया। और कभी इसका श्रेय भी नहीं लिया। उन्हें बेहतर बनाया। हमसे हमेशा लड़ाई करने वाले चीन के लोग भी यह कहते हुए नहीं सकुचाते कि 2 हजार साल पहले चीन पर अपनी संस्कृति का प्रभाव भारत ने जमाया था यह उनके लिए एक सुखद याद है क्योंकि हमने अपनी पूजा के तरीकों को उन पर नहीं थोपा।

 

 

 

 

 

सुनाई शेर और बकरी की कहानी- मोहन भागवत  

लोगों को मोहन भागवत ने यहां शेर और बकरी की एक कहानी सुनाई। उन्होंने बताया कि जंगल में कुछ गडरिए रहा करते थे जब वह अपनी भेड़ों के साथ जंगल में पहुंचे तो उन्हें शेर का एक बच्चा मिला। उसकी मां को शिकारियों ने मार दिया था। शेर के बच्चे की आंखें भी नहीं खुली थी, गडरिया को दया आई वह शेर के बच्चे को अपने साथ लेकर आ गए। उसे बकरियों का दूध पिलाया और बकरियों के बीच ही पाला।

 

 

 

 

 

शेर भेड़-बकरियों के बीच बड़ा हुआ तो खुद को बकरी समझने लगा। एक दिन वो बरकियों के साथ जंगल गया हुआ था वहां दूसरा शेर उसे मिल गया यह देखकर वह डर गया। दूसरे शेर से जीवन की भीख मांगने लगा। दूसरे शेर ने कहा मेरे साथ चलो वह उसे तालाब के किनारे ले गया और पानी में उसका चेहरा दिखाया। तब भेड़-बकरियों के बीच पले शेर को समझ आया कि वह भी एक शेर है। उसने दहाड़ लगाई ये उसके जीवन की पहली दहाड़ थी। इसे सुनकर गड़रिए कभी जंगल की तरफ नहीं गए।

 

 

 

 

 

स्वयं को पहचानें, संगठन की शक्ति से परिचित हों  

आगे भागवत लोगों से कहने लगे अपने आप को पहचानो, हम उन ऋषियों के वंशज हैं जिन्होंने पूरी दुनिया को परिवार मानने का संदेश दिया। हमारा सत्य विविधताओं में मिल जुल कर रहना सिखाता है। यही हमें अच्छा मनुष्य बनाता है और यही सत्य हमें संपूर्ण दुनिया को बताना है। हिंदू धर्म इन्हीं विशेषताओं से भरा हुआ है हमें यह बातें दुनिया को सिखानी है पूजा करने का तरीका नहीं यह जीने का तरीका है। हम बलशाली बनेंगे तो बचेंगे कलयुग में संगठन ही शक्ति है, समाज यदि मिलकर रहेगा तो यह हमें शक्तिशाली बनाएगा।

 

 

 

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007