ताज़ा ख़बर
RAIPUR BIG BREAKING: राजधानी में देर रात दर्दनाक सड़क हादसा, 2 युवतियों की मौके पर ही मौत,4 युवक-युवती गंभीर रूप से घायलHow Professional Essay Services Can Benefit Studentsइन राशियों को मिलेगा भाग्य का साथ, सूर्य की तरह चमकेगी किस्मत, पढ़ें 28 नवंबर का राशिफल..बिग ब्रेकिंग : देर रात 40 पटवारियों का हुआ तबादला, देखिए पूरी लिस्ट..Airtel ने किया फ्री डाटा देने का ऐलान, इन ग्राहकों को मिलेगा लाभ, जल्दी कीजिए इस प्लान के तहत रिचार्ज..इस महिला ने उठाया चौकाने वाला कदम, पति के गुजर जाने के बाद गाय के साथ किया ये काम, सुनकर हैरान हो जाएंगे आप..इतने रुपए सस्ता मिलेगा गैस सिलेंडर, LPG ग्राहकों को मिली बड़ी राहत, जल्द शुरु हो सकती है ये सेवा..जोर- शोर से शुरु हुई कैटरीना-विक्की की शादी की तैयरियां, सलमान से लेकर बॉलीवुड के कलाकार नही है शादी में Allow..नई गाड़ी खरीदने का बना रहे प्लान, इन बातों का रखे ध्यान, यहां मिलेगा सबसे सस्ता कार लोन प्लॉन..मंडी निरीक्षक के एग्जाम दिलाने वाले परीक्षार्थी हो जाए सावधान, इन नियमों का करे पालन, नही तो उठाना पड़ सकता हैं भारी नुकसान..

PM का देश के नाम संबोधन: सरकार ने तीनों कृषि कानून वापस लिए, किसानों के आगे सरकार को झुकना पड़ा, 14 महीने से चल रहा था किसान आंदोलन

Mahendra Kumar SahuNovember 19, 20211min

 

 

 

 

देश के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने यह बड़ा ऐलान किया है। पिछले एक साल से चल रहे किसान आंदोलन(Farmer protest) की वजह बने तीनों नए कृषि कानून (Agriculture Law) केंद्र सरकार (Center Government) ने वापस ले लिए हैं। शुक्रवार के दिन   प्रधानमंत्री मोदी ऩे अपने संबोधन(Exhortation) में कहा- सरकार तीनों कृषि कानूनों को नेक नीयत के साथ लाई थी, लेकिन यह बात हम किसानों को समझा नहीं सके।

 

 

 

 

PM मोदी ने दी प्रकाश पर्व की बधाई
मोदी ने कहा, ‘मेरे प्यारे देशवासियों आज देव दीपावली का पावन पर्व है। आज गुरुनानक देव जी का भी पावन प्रकाश पर्व है। मैं विश्व में सभी लोगों और सभी देशवासियों को बधाई देता हूं। यह भी बेहद सुखद है कि डेढ़ साल बात करतारपुर साहिब कॉरिडोर फिर से खुल गया है। गुरुनानक देव जी ने कहा है कि संसार में सेवा का मार्ग अपनाने से ही जीवन सफल होता है। हमारी सरकार इसी सेवा भावना के साथ देशवासियों का जीवन आसान बनाने में जुटी है। न जाने कितनी पीढ़ियां जिन सपनों को सच होते देखना चाहती थीं, भारत उन्हें साकार करने की कोशिश कर रहा है।

 

 

READ MORE:

 

 

किसान की जिन्दगी का आधार है जमीन

प्रधानमंत्री ने कहा- मैंने किसानों की परेशानियों और चुनौतियों को बहुत करीब से देखा है। जब देश ने मुझे 2014 में प्रधानमंत्री के तौर पर देश की सेवा का मौका दिया तो हमने किसान कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी। बहुत लोग अनजान हैं कि देश के 100 में से 80 किसान छोटे किसान हैं। उनके पास 2 हैक्टेयर से भी कम जमीन है। इनकी संख्या 10 करोड़ से भी ज्यादा है। उनकी जिंदगी का आधार यही छोटी सी जमीन का टुकड़ा है।

मोदी ने कहा कि ये किसान इसी जमीन से अपने परिवार का गुजारा करते हैं, इसलिए देश के छोटे किसानों की परेशानियों को दूर करने के लिए बाजार, बीमा, बीज और बचत पर चौतरफा काम किया। हमने किसानों को अच्छी क्वालिटी के बीज के साथ नीम कोटेड यूरिया और सॉयल हेल्थ कार्ड जैसी सुविधा दी। इन प्रयासों से प्रोडक्शन बढ़ा। हमने फसल बीमा योजना से ज्यादा से ज्यादा किसानों को जोड़ा। बीते चार साल में एक लाख करोड़ से अधिक का मुआवजा किसान भाई-बहनों को मिला है।

 

 

 

 

 

हम छोटे किसानों के लिए बीमा और पेंशन की सुविधा भी लाए। हम उनकी सुविधाओं को ध्यान रखते हुए उनके खातों में सीधे एक लाख बासठ हजार करोड़ रुपए ट्रांसफर किए। उन्हें उनकी उपज की सही कीमत मिले, इसके लिए भी कई कदम उठाए। इन्फ्रास्ट्रक्चर को बेहतर किया, एमएसपी बढ़ाई। इससे उपज कि पिछले कई रिकॉर्ड टूट गए है। देश की मंडियों को ईनाम योजना से जोड़कर किसानेां को अपनी उपज कहीं भी बेचने का प्लेटफॉर्म दिया। कृषि मंडियों पर करोड़ों रुपए खर्च किए। पहले के मुकाबले देश का कृषि बजट 5 गुना बढ़ गया है।

 

 

 

 

 

तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान किया
मोदी ने कहा कि किसानों की ताकत बढ़ाने के लिए दस हजार एफपीओ किसान उद्पादक संगठन बनाने की भी प्लनिंग है, इस पर 7 हजार करोड़ रुपए का फंड खर्च किए जा रहे हैं। हमने क्रॉप लोन बढ़ा दिया। यानी हमारी सरकार किसानों के हित में लगातार एक के बाद एक कदम उठाती जा रही है। पूरी ईमानदारी से काम कर रही है। साथियों किसानों की इसी अभियान में देश में तीन कृषि कानून लाए गए थे। देश के किसानों को खासकर छोटे किसानों को फायदा हो। यह मांग देश में लंबे समय से होती रही थी। पहले भी कई सरकारों ने इस पर मंथन किया था। इस बार भी संसद में चर्चा हुई मंथन हुआ और यह कानून लाए गए। देश में अनेक किसान संगठनों ने इसका संमर्थन किया। मैं आज उन सभी का बहुत-बहुत आभारी हूं। धन्यवाद करता हूं।

 

 

 

 

 

मोदी ने कहा- हम नेक नीयत से कानून लाए, लेकिन समझा नहीं पाए
हमारी सरकार किसानों के लिए खासकर छोटे किसानों के हित में पूरी सत्य निष्ठा से किसानों के प्रति पूर्ण समर्पण भाव से यह कानून लेकर आई थी, लेकिन यह हम अपने प्रयासों के बावजूद कुछ किसानों को समझा नहीं पाए। हम पूरी विनम्रता से किसानों को समझाते रहे। बातचीत भी होती रही। हमने किसानों की बातों को समझने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कानून के जिन प्रावधानों पर उन्हें एतराज था उन्हें सरकार बदलने को तैयार हो गई। साथियों मैं आज गुरु नानक देवजी का पवित्र पर्व है यह समय किसी को दोष देने का नही है। मैं आज यह पूरे देश को यह बताने आया हूं कि हमने तीनों कृषि कानून वापस लेने का फैसला लेने का फैसला करता हूं। इसी महीने हम इसे वापस लेने की प्रक्रिया पूरी कर देंगे।

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007