ताज़ा ख़बर
RAIPUR BREAKING: शातिर चोर ने पहले शराब दुकान का ताला आरी ब्लेड से काटा, फिर लाखों रुपए नगदी किए पार,जाते-जाते एक बोतल शराब सहित DVR भी ले उड़ाराशिफल : 9 दिसंबर को इन राशि वालों की जागेगी सोई हुई किस्मत, धन-दौलत में अपार वृद्धि की संभावना…अपने बेटे की गर्लफ्रैंड के साथ रोमांस कर चुके है ये सुपरस्टार , बेटे को लगी भनक तो किया अपने बाप के साथ किया कुछ ऐसा ..ये हैं सलमान की पहली गर्लफ्रेंड, 19 साल की उम्र में हुआ था पहला प्यार, दीदार के लिए घंटों खड़े रहते थे कॉलेज के बाहर..रॉयल इनफील्ड का क्रेज ऐसा कि 2 मिनट में बिक गयी सारी गाड़ियां, जाने क्या है इसमें ख़ास…अरुणिता और पवनदीप के रिश्ते में आई दरार, अब इस एक्ट्रेस के साथ रोमांस करेंगे इंडियन आइडल 12 के विनर..विक्की-कैटरीना की शादी को लेकर सलमान की बहन अर्पिता ने दिया चौकानेे वाला बयान, सुनकर लोग कर रहे दोनो एक्टर्स को जमकर ट्रोल..सर्दियों में ऐेसे रखे अपना और अपनों का खयाल, नही तो हो सकती है ये परेशानियांCORONA UPDATE : 27 हजार सैंपलों में मिले 37 नए मरीज, इस जिले में मिले सबसे ज्यादा संक्रमित…

नक्सलियों ने sub engineer अजय की बनाई हजामत और फिर दिया आजादी का फरमान, यहां पढ़ें पूरी इनसाइड स्टोरी…

Mahendra Kumar SahuNovember 18, 20211min

 

गुप्तेश्वर जोशी, बीजापुर। बुधवार का दिन समूचे छत्तीसगढ़ और खासकर बीजापुर जिले के लिए बेहद सुखद रहा। हम ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि बुधवार को ही नक्सलियों के चंगुल में 7 दिन से कैद पीएमजीएसवाई के सब इंजीनियर अजय रोशन लकड़ा सकुशल रिहा होकर अपने परिवार के पास पहुंच गए।

 

 

 

जानिए अजय रोशन लकड़ा की जुबानी की कैसे 7 दिन उन्होंने नक्सलियों के साथ गुजारे …- मैं 11 नवंबर को गोरना मनकेलि गांव में बन रहे सड़क का कार्य देखने के लिए अपने विभाग के भृत्य लक्ष्मण परतागिरी के साथ गया था। तभी 10 से 12 लोग ग्रामीण वेशभूषा पहनकर हमारे पास आये और हमारी बाईक को गांव के अंदर लेकर चले गए और हमलोगों से कहा कि आप हमारे साथ चलिए कुछ पूछताछ करनी है। हमने बिना विरोध किये उनके साथ जंगल के अंदर चले गए। हमसे काफी पूछताछ की गई उसके बाद हमारे आंखों में में पट्टी बांधकर हमें कईयों किमी पैदल चलवाया गया। हमारी लोकेशन लगातार बदलती ही रहती थी। मैं शारीरिक विकलांग हूँ मुझे नक्सलियों के साथ पैदल चलने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा।

 

 

read more: देश के इन 1700 लोकल-पैसेंजर ट्रेनों के किराए में होगी 15 प्रतिशत की कटौती, जाने रेलवे का फैसला

 

 

मौत के मुंह से वापिस लौटा हूँ,ये है मेरे लिए नई जिंदगी है- अजय ने बताया कि 7 दिन तक नक्सलियों के साथ मैंने समय बिताया। मुझे पल पल मौत का अहसास होता था कि नक्सली मेरे साथ किसी तरह की घटना तो नहीं कर देंगे। इस बात का डर हमेशा से मेरे लिए मन मे लगा रहता था। लेकिन नक्सलियों ने मेरे साथ किसी भी तरह मारपीट नहीं कि और न ही मेरे लिए अपशब्दों का प्रयोग किया। मेरे परिवार और सारी लोगो की दुआएं काम आई और नक्सलियों ने मुझे रिहा कर कर दिया और आज रिहा होने के बाद ऐसा लगा जैसे मुझे नई जिंदगी मिल गई।मेरे लिए जिन लोगो ने प्रार्थना की मैं उनका शुक्रगुजार हूं।खासकर पत्रकारों को दिल से धन्यवाद करना चाहता हूं जिन्होंने मेरे लिए इतना कुछ किया।

 

 

 

 

समय समय पर देते थे खाना- नक्सलियों के साथ मैं एक हफ्ते तक रहा लगभग 168 घण्टे मैने उनके साथ बिताए मुझे समय समय पर नक्सली खाना देते रहे। खाने पीने की किसी भी तरह की कमी नक्सलियों ने मुझे नहीं होने दी।

 

 

 

नक्सलियों ने मेरी शेविंग की और कहा आज से तुम आजाद – नक्सलियों ने मेरी रिहाई करने से पहले मेरी दाढ़ी बनाई और कहा आज से तुम हमारी कैद से मुक्त हो रहे हैं हो इसलिए तुम्हारी दाढ़ी हम बना दिया रहे है ताकि तुम अच्छे दिख सको।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007