ताज़ा ख़बर
Utilizing Custom Paper to Make an Effective Siteसरकार का दावा मौतों के नहीं है कोई रिकॉर्ड : केन्द्र के रवैये पर भड़की कांग्रेस, किसान नेता बोले-हम देते हैं डाटानिकाय चुनाव : 15 सीटों पर प्रत्याशी चयन को लेकर कांग्रेस की अंतिम सूची पर आज शाम तक लगेगी मुहरआम लोगों की फिर टूटी उम्मीद, 100 रूपए महंगा हुआ गैस सिलेंडर, जाने कहां, कितने बढ़े दाम…RAIPUR BREAKING : अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझाई, रिश्तेदार ने अपने ही 2 साथियों के साथ मिलकर दिया था घटना को अंजाम, पूछताछ में ज़मीन विवाद का हुआ खुलासा!!!!कोरोना के नए वैरिएंट ने लोगों में बढ़ाई दहशत, बीते 3 दिनों में विदेश से लौटे राजधानी के 78 यात्री, यात्रियों को रहना होगा 7 दिन क्वॉरेंटाइन मेंछत्तीसगढ़ में आज से होगी धान खरीदी, साढ़े 22 लाख किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी करेगी सरकार, बारदाना इस साल भी बना मुसीबतBREAKING नगरीय निकाय चुनाव : कांग्रेस ने 5 नगर पंचायत और 2 नगर पालिकाओं के कांग्रेस प्रत्याशियों की जारी की सूची, देखे पूरी सूचीOmicron Alert: दूसरे देशों से प्रदेश में आने वालों की होगी Genome Sequencing, आखिर क्या होती है ये सिक्वेंसिंग और देश में कहा कहा है इसकी सुविधा जूनियर डॉक्टर ने राज्यपाल से मुलाकात कर 2 सूत्रीय मांगो को लेकर सौंपा ज्ञापन, जूनियर डॉक्टरों ने कहा..

भारत को मिल सकता है पहला समलैंगिक जज, केंद्र को भेजा गया प्रस्ताव, जानिए उनसे जुड़ी ये खास बातें…

Mahendra Kumar SahuNovember 16, 20212min

 

नई दिल्ली। देश में यह पहली बार हुआ है जब खुले तौर पर खुद को समलैंगिक स्वीकार करने वाले न्यायिक क्षेत्र के व्यक्ति को जज बनाने की सुप्रीम कोर्ट ने सिफारिश की है। अक्टूबर 2017 में दिल्ली हाईकोर्ट कॉलेजियम ने सर्वसम्मति से जज के लिए उनके नाम की सिफारिश की थी। इसके बाद से सुप्रीम कोर्ट चार बार उनकी सिफारिश का फैसला टाल चुका था। आखिरी बार अगस्त 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने उनकी सिफारिश का फैसला टाल दिया था।

 

 

 

सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने सीनियर वकील सौरभ कृपाल (49) को दिल्ली हाईकोर्ट का जज बनाने की सिफारिश की है। चीफ जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम की 11 नवंबर की बैठक में यह सिफारिश की गई है। खास बात ये है कि केंद्र की तरफ से चार बार कृपाल के नाम को लेकर आपत्ति जताने के बावजूद कॉलेजियिम ने अपनी सिफारिश दी है। हालांकि, ये साफ नहीं है कि कृपाल की नियुक्ति होती है तो कब तक हो पाएगी, क्योंकि केंद्र सरकार कॉलेजियम को रिव्यू के लिए भी कह सकती है।

 

 

READ MORE: लखीसराय हादसा: ट्रक और सुमो की टक्कर में 6 लोगों की मौत, इनमें 5 सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदार…

 

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने जब केंद्र से कृपाल के बैकग्राउंड के बारे में इनपुट मांगा था तो सरकार ने इंटेलीजेंस ब्यूरो (IB) की रिपोर्ट का हवाला दिया था। IB ने कृपाल के कुछ फेसबुक पोस्ट का हवाला दिया, जिनमें उनके विदेशी पार्टनर भी शामिल थे।

 

 

 

विदेशी साथी को लेकर केंद्र ने जताई थी आपत्ति
इस साल मार्च में तत्कालीन चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने केंद्र से कृपाल को हाईकोर्ट का जज बनाने के बारे में रुख जानना चाहा था, लेकिन केंद्र ने एक बार फिर इस पर आपत्ति जाहिर की थी। केंद्र ने कृपाल के विदेशी पुरुष साथी को लेकर चिंता जताई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 20 साल से कृपाल के पार्टनर ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट निकोलस जर्मेन बाकमैन हैं और स्विट्जरलैंड के रहने वाले हैं। इसलिए केंद्र को राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताएं हैं। पिछले साल एक इंटरव्यू में कृपाल ने कहा था कि शायद उनके सेक्सुअल ओरिएंटेशन की वजह से ही उन्हें जज बनाने की सिफारिश का फैसला टाला गया है।

 

 

एक नजर सौरभ कृपाल के परिचय पर
सौरभ कृपाल सीनियर वकील और पूर्व चीफ जस्टिस बीएन कृपाल के बेटे हैं। सौरभ पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी के साथ बतौर जूनियर काम कर चुके हैं, वे कमर्शियल लॉ के एक्सपर्ट भी हैं। सौरभ कृपाल ने दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज से ग्रेजुएशन की है, वहीं लॉ की डिग्री ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पूरी की है। वहीं कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से लॉ में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई की है। वे सुप्रीम कोर्ट में करीब 20 साल प्रैक्टिस कर चुके हैं। साथ ही यूनाइटेड नेशंस के साथ जेनेवा में भी काम कर चुके हैं। वे समलैंगिक हैं और LGBTQ के अधिकारों के लिए मुखर रहे हैं। उन्होंने ‘सेक्स एंड द सुप्रीम कोर्ट’ किताब को एडिट भी किया है।

 

 

 

IPC की धारा 377 और कृपाल
सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर 2018 में समलैंगिकता को अवैध बताने वाली IPC की धारा 377 पर अहम फैसला दिया था। कोर्ट ने कहा था कि समलैंगिक संबंध अपराध नहीं हैं। इसके साथ ही अदालत ने सहमति से समलैंगिक यौन संबंध बनाने को अपराध के दायरे से बाहर कर धारा 377 को रद्द कर दिया था। इस मामले में सौरभ कृपाल ने पिटीशनर की तरफ से पैरवी की थी।

 

 

READ MORE: CM भूपेश बघेल का बड़ा बयान- व्यापारी की तरह बताया केंद्र का व्यवहार, कहा- 500 राइस मील बंद होने की कगार पर…पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर भी साधा निशाना

 

 

समलैंगिकता के बारे में जानें !
समलैंगिकता का मतलब होता है किसी भी व्यक्ति का समान लिंग के व्यक्ति के प्रति यौन आकर्षण। साधारण भाषा में किसी पुरुष का पुरुष के प्रति या महिला का महिला के प्रति आकर्षण। ऐसे लोगों को अंग्रेजी में ‘गे’ या ‘लेस्बियन’ कहा जाता है।

 

 

 

 

 

कॉलेजियम सिस्टम
कॉलेजियम में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के अलावा चार सीनियर मोस्ट जजों का पैनल होता है। यह कॉलेजियम ही सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के जजों के अप्वाइंटमेंट और ट्रांसफर की सिफारिशें करता है। ये सिफारिश मंजूरी के लिए प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को भेजी जाती हैं। इसके बाद अप्वाइंटमेंट कर दिया जाता है।

 

 

READ MORE: Maruti Suzuki को यहां मिली नई फैक्ट्री लगाने की मंजूरी, 900 एकड़ जमीन में स्थापित होगा नया संयंत्र

 

 

रिव्यू के लिए भी कह सकता है केंद्र
कॉलेजियम की तरफ से भेजे गए नामों पर केंद्र फिर से विचार करने के लिए भी कह सकता है, लेकिन अगर कॉलेजियम फिर से अपनी बात दोहराए तो केंद्र इनकार नहीं कर सकता। हालांकि, नियुक्ति में देरी की जा सकती है।

 

अमेरिका, ब्रिटेन में भी हैं समलैंगिक जज
रॉबिन्सन को इसी महीने की 3 तारीख को अमेरिका के फेडरल सर्किट कोर्ट की जज नियुक्त किया गया है। वे फेडरल अपील कोर्ट की पहली लेस्बियन महिला जज हैं। ईथरटन ने सितंबर 2008 लॉर्ड जस्टिस ऑफ अपील की शपथ ली थी। वे ब्रिटेन के पहले घोषित समलैंगिक लॉर्ड जस्टिस ऑफ अपील हैं।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007