ताज़ा ख़बर
राशिफल : 7 दिसंबर से पलट जाएगी इन राशियों की किस्मत, मित्रों के सहयोग से होगा धन लाभ…केआरके के ट्वीट से मचा सोशल मीडिया में बवाल, कहा – 35 प्रतिशत ठरकी और डेसपरेट लोग सॉफ्ट पॉर्न फिल्म चंडीगढ़ करे आशिकी देखने जाएंगे..हवस की पुजारी है ये एक्ट्रेस , भाई से लेकर जिम ट्रेनर से बनाए शारीरिक संबंध, उसके बाद अमिताभ के साथ किया..BIG BREAKING : देश में पैर पसार रहा ओमिक्रॉन, महाराष्ट्र में मिले दो और नए मरीज, दक्षिण अफ्रीका और अमेरिका से लौटे लोगों में हुई पुष्टि…CORONA UPDATE : प्रदेश में कोरोना ने तोड़े रिकॉर्ड, 22 हजार 988 सैंपलों में मिले इतने मरीज…इन चार राशि के लोगों पर नहीं रहेगा शनिदेव का प्रक्रोेप, होगी सुख समृद्धि और धन की अपार वर्षाउर्फी जावेद ने बोल्ड फोटो शेयर कर यूजर्स से मांगा कैप्शन, तो फैंस ने दिया चौकाने वाला बयान..नगर पंचायत चुनाव :- भोपालपटनम से 34 व भैरमगढ़ से 33 प्रत्याशी उतरे चुनावी मैदान में, 6 निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव से हुए दूरशिक्षक भर्ती परिणाम को लेकर राज्य शासन ने जारी किया आदेश, नियुक्ति आदेश जारी होने में लगेगा और समय, 14580 पदों पर होनी थी सीधी भर्ती…big breaking : मैेदान छोड़ भागे भाजपा के अधिकृत उम्मीदवार अजितेश सिंह, कांग्रेस के राजेंद्र सिंह अरोरा और रामानंद मौर्य के बीच होगा सीधा मुकाबला

सीएम बघेल बोले , स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में शिक्षा नि:शुल्क, IAS-IPS के बच्चे ले रहे प्रवेश, हर वर्ग के बच्चों को मिल रहा लाभ..

Mahendra Kumar SahuNovember 14, 20211min

 

रायपुर । छत्तीसगढ़ में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल अखिल भारतीय सेवा के अफसरों के बच्चों के लिए खोले गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में एक भी ऐसा स्कूल नहीं था, जहां IAS-IPS अफसर अपने बच्चों को पढ़ा सकें। यह स्कूल बन जाने के बाद अफसरों के बच्चों ने एडमिशन लिया है। मुख्यमंत्री ने यह बात रायपुर के दीन दयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में आयोजित जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम में कही।

 

READ MORE : सीएम बघेल की पदयात्रा शुरु, यहां करेंगे आमसभा को संबोधित, कई दिग्गज नेता होंगे शामिल..

 

उन्होंने कि कोरोना काल में अफसरों के साथ लगातार बैठकें हो रही थीं। एक जनप्रतिनिधि होने के नाते मुझे लगता था कि हमारे छत्तीसगढ़ में ऐसा एक भी अस्पताल नहीं, जिसमें IAS-IPS अधिकारी अपना और परिजनों का इलाज करा सकें। ऐसा कोई स्कूल नहीं जिसमें IAS-IPS अपने बच्चों को पढ़ा सकें। छत्तीसगढ़ बने 21 साल हो गए, अब कम से कम इस चुनौती को स्वीकार करें। डॉ. प्रेमसाय सिंह और डॉ. आलोक शुक्ला ने इसको स्वीकार किया। वहीं से शुरुआत हुई स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की।

 

 

सीएम ने कहा कि पहले रायपुर के तीन स्कूलों को चयनित किया गया। इनके रिनोवेशन के लिए 2-2 करोड़ रुपए दिए। शिक्षकों की बात आई तो जिले के ऐसे शिक्षकों को वहां भेजा गया, जिन्होंने अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई की थी। बाद में इसकी लोकप्रियता और मांग बढ़ती रही। उसके बाद इसे 52 तक पहुंचाया गया। अब ऐसे 171 स्कूल हो गए हैं। अभी भी विधायकों का दबाव बना रहता है कि उनके क्षेत्र में भी यह स्कूल खुले। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में प्रवेश के लिए जितना एप्रोच आया है, उतना किसी और काम के लिए नहीं आया। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में शिक्षा नि:शुल्क है। लोअर मिडिल क्लास को दूसरे अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में पढ़ाई कराना महंगा पड़ता हैं। यहां से 25 प्रतिशत सीटों पर गरीबी रेखा से नीचे के बच्चों का एडमिशन अनिवार्य है। अनुसूचित क्षेत्रों में तो 75 प्रतिशत बच्चे इसी श्रेणी के हैं।

 

 

मुख्यमंत्री ने 2030 का विजन डॉक्यूमेंट भी पेश किया। उन्होंने कहा कि स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों की तर्ज पर अंतरराष्ट्रीय स्तर के स्कूल संचालित किए जाएंगे। ऐसा इसलिए ताकि हमारे बच्चे अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में खड़े हो पाएं। सरकार तीन वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए बालवाणी शुरू करेगी। वहीं 9वीं से 12वीं तक के स्कूली बच्चों को पढ़ाई के साथ औद्योगिक शिक्षा भी दी जाएगी। ताकि वे पढ़ाई के साथ किसी अन्य विधा का हुनर अर्जित कर सकें।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007