ताज़ा ख़बर
BIG BREAKING : ” ओमिक्रॉन ” ने भारत में दी दस्तक, इस राज्य में मिले दो केस, केंद्रीय स्वास्थय मंत्रालय ने की पुष्टी…BAD NEWS: मिर्जापुर के इस कलाकार का हुआ निधन, फ्लैट में बहुत बुरी स्थिति में मिला शव, निभाया था बेहद अहम् किरदारसैमसंग ने लांच किया सबसे सस्ता स्मार्टफोन, फीचर्स और प्राइस सुनकर उड़ जाएंगे होश..रिसर्च में खुलासा : ज्यादा समय मोबाइल पर बिताने से बच्चे हो रहे इस गंभीर बीमारी का शिकार..तड़प के प्रीमियर में केएल राहुल ने किया कुछ ऐेसा, देखकर उड़ गए सलमान और सुनील शेट्टी के होश, जानिए आखिए क्रिकेटर ने क्या किया ..एल्गार परिषद मामला : सुधा भारद्वाज को मिली राहत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी तकनीकी खामी के आधार पर जमानत, कहा – वह जमानत की हकदारअगर यह दुर्लभ नोट आपके पास है तो आप जल्द हो सकते हैं मालामाल, करें यह मामूली प्रोसेस…कोरोना बुलेटिन : प्रदेश के इस जिले में आज मिले सबसे ज़्यादा कोरोना के मरीज, स्वास्थ्य विभग ने जारी किया मरीजों का आंकड़ाGold Price Today : अगर खरीदना है सोना तो मत करिए देर, सोने के भाव में आई भारी गिरावट, नहीं मिलेगा इससे अच्छा मौकायात्रा करने के पहले पढ़ लें ये खबर, रेलवे प्रशासन ने रद्द कर दी 35 ट्रेनें, ये बताया कारण  

श्री कृष्ण जन्म की कथा सुन भाव विभोर हुए श्रद्धालु, श्रीमद् भागवत कथा में सुनाया भगवान वामन अवतार प्रसंग

Mahendra Kumar SahuNovember 12, 20211min

 

विनोद रायसागर, मुंगेली: जिले के खर्रीपारा स्थित काली मंदिर प्रांगण में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के दौरान गुरुवार को वामन अवतार का प्रसंग सुनाया गया। कथावाचक पंडित मुकेश दीक्षित ने कहा कि भगवान वामन अवतार लेकर जैसे ही राजा बली के पास पहुंचे वे प्रसन्न हो गए। जब दान की बारी आई तो राजा बली ने भगवान के वामन अवतार से दान मांगने के लिए कहा।

 

 

 

इस पर राजा बली से तीन पग जमीन मांगी गई। तब राजा मुस्कुराए और बोले तीन पग जमीन तो बहुत छोटा सा दान है। इसके बाद भगवान ने दो पग में राजा बली के पूरे राज्य को नाप दिया, लेकिन तीसरे पग के लिए राजा बली के पास देने के लिए कुछ भी नहीं था। तब राजा बली ने महादानी होने का परिचय देते हुए तीसरे पग के सामने अपने आपको समर्पित कर दिया। इस कथा के अंत में यह सीख दी गई कि कभी भी किसी को घमंड नहीं करना चाहिए। ऐसे में भगवान किसी न किसी रूप में परीक्षा जरूर लेते हैं। इसी प्रकार भगवान श्रीकृष्ण की जन्म कथा का प्रसंग सुनकर श्रद्धालु भाव विभोर हो उठे। कथा व्यास पंडित मुकेश दीक्षित ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने अपने भक्तों का उद्धार व पृथ्वी को दैत्य शक्तियों से मुक्त कराने के लिए अवतार लिया था।

 

 

उन्होंने कहा कि जब-जब पृथ्वी पर धर्म की हानि होती है, तब-तब भगवान धरती पर अवतरित होते हैं। श्रीकृष्ण के जन्म का प्रसंग व उनके जन्म लेने के गूढ़ रहस्यों को कथा व्यास ने बेहद संजीदगी के साथ सुनाया। उन्होंने बताया कि जब अत्याचारी कंस के पापों से धरती डोलने लगी, तो भगवान कृष्ण को अवतरित होना पड़ा। सात संतानों के बाद जब देवकी गर्भवती हुई, तो उसे अपनी इस संतान की मृत्यु का भय सता रहा था। भगवान की लीला वे स्वयं ही समझ सकते हैं। भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल के सभी बंधन टूट गए और भगवान श्रीकृष्ण गोकुल पहुंच गए। कथा का संगीतमयी वर्णन सुन श्रद्धालुगण झूमने लगे। कथा के पश्चात महाआरती की कार्यक्रम भी रखा गया । जिसमें मोहल्ले सहित आसपास के लोग महाआरती में शामिल होकर भगवान से आशीर्वाद लिया। इस दौरान काली मंदिर एवं श्रद्धा सुमन लक्ष्मी उत्सव समिति, वरिष्ठ नागरिक , जनप्रतिनिधि सहित बड़ी सँख्या में मोहल्लेवासी भी मौजूद थे।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007