ताज़ा ख़बर
राशिफल : शनिवार को इन राशि वालों की सितारों की तरह चमकेगी किस्मत, जानिए मेष से लेकर मीन राशि का हाल..छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण की दिशा में देश में अव्वल, वायु में हानिकारक गैसों में आई कमी,राज्य के वन क्षेत्र में भी दर्ज हुई वृद्धि..अब सुविधा और समय के हिसाब से जमा कर सकेंगे पेंशनर्स ये जरुरी चीज, सुनकर यकीन नही होगा, जल्दी पढ़िए पूरा खबरBREAKING NEWS : पुलिस और नक्सली के बीच हुई मुठभेड, एक नक्सली का शव बरामद, सर्चिंग अभियान जारी..रणबीर आलिया ने घोषित की Brahmastra की रिलीज डेट, तो फैंस ने दिया चौकाने रिएक्शन, सुनकर कुछ ऐसा रहा लवबर्डस का हाल..बीच सड़क में नोरा ने पेट दिखाकर की ऐसी हरकत, देखकर भड़ गए फैंस..लेडी इंस्पेक्टर सीमा जाखड़ बर्खास्त, 10 लाख रुपए की रिश्वत लेकर किया था ये काम, सुनकर हैरान हो जाएंगे आप..शेयर बाजार में आया भूचाल, 7 महीने मेें आई सबसे बड़ी गिरावट, एक घंटे में डूबे इतने लाख करोड़ रुपए ..6 दिसंबर को दिल्ली में आयोजित होगी भारत और रूस के विदेश और रक्षा मंत्री की पहली 2+2 वार्ता..आरआरआऱ का नया गाना जननी हुआ रिलीज, रामचरण, जूनियर एनटीआर और अजय देवगन के फेशियल एक्सप्रेशन देखकर रो पड़े फैंस..

आंवला नवमी व्रत आज, इस विधि-विधान से करें पूजा, पूरी होगी सारी मनोकामना, जानिए शुभ मुहूर्त

Mahendra Kumar SahuNovember 12, 20211min

 

 

नई दिल्ली। देश में त्योहारों को लेकर उत्साह देखते ही बनता है. दिवाली के बाद आने वाले कई पर्व को भी धूमधाम से मनाया जाता है. इन्हीं में से एक है अक्षय नवमी जो दीपावली के बाद मनाया जाता है. इस खास दिन आवंले के पेड़ की पूजा की जाती है. कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवला नवमी का व्रत रखा जाता है. इस व्रत को आवंला नवमी या अक्षय नवमी कहा जाता है.

 

 

 

इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे भोजन करने के विशेष महत्व होता है. आंवला नवमी व्रत देव उठनी एकादशी व्रत से दो दिन पूर्व रखा जाता है. आंवला नवमी के दिन आंवला के पेड़ की बहुत ही विधि विधान के साथ पूजा की जाती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जो भी लोग पूरी श्रद्धा के साथ आंवला नवमी के दिन व्रत और पूजा करते हैं उनकी हर एक मनोकामना पूरी होती है.

 

 

READ MORE: राशिफल : शुक्रवार को इन राशि वालों की सितारों की तरह चमकेगी किस्मत,जानिए 12 नवंबर का राशिफल..

 

 

आंवला नवमी 2021 तिथि
हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि यानी की 12 नवंबर दिन शुक्रवार को अक्षय नवमी है. इसका प्रारम्भ प्रात: 05 बजकर 51 मिनट पर हो रहा है. इसके साथ ही नवमी का समापन 13 नवंबर दिन शनिवार को प्रात: 05 बजकर 31 मिनट पर होगा. ऐसे में जो लोग भी व्रत रखते हैं उनके लिए 12 तारीख ही शुभ है.

 

 

 

 

आंवला नवमी 2021 पूजा मुहूर्त
आप 12 नवंबर को प्रात: 06 बजकर 41 मिनट से दोपहर 12 बजकर 05 मिनट के बीच में ही आंवला नवमी की पूजा करें, ये बेहद शुभ मुहुर्त है. खास बात है कि इस बार ये व्रत व्रत ध्रुव योग में पड़ा है. 12 नवंबर को पूरे दिन ध्रुव योग है. जबकि यह योग 13 नवंबर को 03 बजकर 17 मिनट पर खत्म हो जाएगा. ध्रुव योग को मांगलिक कार्यों के लिए बेहद शुभ और फलदायी माना जाता है.

 

 

 

इतना ही नहीं इस बार आंवला नवमी के दिन रवि योग भी बन रहा है. हालांकि रवि योग दोपहर 02 बजकर 54 मिनट से लेकर 13 नवंबर को प्रात: 06 बजकर 42 मिनट तक ही रहने वाला है.

 

 

 

आंवला नवमी की पूजा विधि
आवंला के वृक्ष की हल्दी कुमकुम आदि से पूजा करें और उसमें जल और कच्चा दूध अर्पित करें. इसके बाद आंवले के पेड़ की 9 या 108 परिक्रमा करते हुए तने में कच्चा सूत या मौली को लपेटा जाता है. पूजा के बाद इसकी कथा पढ़ी और सुनी जाती है. पूजा खत्म होने के बाद परिवार और मित्रों आदि के साथ वृक्ष के नीचे बैठकर भोजन किए जाने का महत्व है. इसके साथ ही इस दिन आवंले को खाना भी बेहद शुभ माना जाता है.

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007