ताज़ा ख़बर
लुक्स के मामलेें में बॉलीवुड की कई हसीनाओं को मात देती है ये Bhojpuri Actress, देखिए वायरल तस्वीरें..Nora Fatehi की इन फोटो ने सोशल मीडिया में लगाई आग, बोल्डनेस देख सबका हुआ बुरा हालविराट कोहली की वनडे कप्तानी को लेकर जल्द आ सकता अहम फैसला, हो सकता है बड़ा बदलाव..कार्तिक आर्यन ने करण जौहर और दोस्ताना 2 को लेकर कही ये बात, सुनकर उड़ गए ट्रोलर्स के उड़े होशBIG BREAKING : महाराष्ट्र के बाद इस राज्य में हुआ ओमिक्रॉन ब्लास्ट, एक ही परिवार के 9 सदस्य मिले संक्रमित, हाल में दक्षिण अफ्रीका से लौटा था परिवार..घरेलू कलह के चलते पत्नी ने पांच बेटियों के साथ कुएं में लगाई छलांग, उसके बाद जो हुआ सुनकर यकीन नही होगा..ये है पांच सबसे सस्ते फोन, जिनके फीचर्स और प्राइस सुनकर उड़ जाएंगे होश..BIG BREAKING: राज्य में हुआ ओमिक्रॉन ब्लास्ट, एक साथ मिले 7 नए मरीज, देश में 12 हुई मरीजों की संख्या, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट ..बिग बैश लीग : ग्लेन मैक्सवेल की कप्तानी वाली मेलबर्न स्टार्स की टीम को मिली शर्मनाक हार, 11.1 ओवर में ढेर हुई पूरी टीम..महंगाई के बीच Reliance Jio दे रहा अपने ग्राहको को बड़ी राहत, इन ऑफर के जरिए उठा सकते है लाभ..

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा – हमारे पुुरखों ने छत्तीसगढ़ी कला संस्कृति और बोली भाखा को प्रचारित करने का काम किया, उनकी सोच सबको साथ लेके चलने की थी, वो लोगो को तोड़ने के बजाय जोड़ने में विश्वास रखते थे..

Mahendra Kumar SahuNovember 1, 20211min

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्योत्सव में कहा हमारे पुरखों ने हमेशा छत्तीसगढ़ी और छत्तीसगढ़िया वाद को प्रचारित और प्रसारित करने का काम किया। उनकी सोच सबको साथ लेके चलने की थी, वो लोगो को तोड़ने के बजाय जोड़ने में विश्वास रखते थे । हमारे पूर्वजो ने छत्तीसगढ़ महतारी के मान सम्मान के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। भले ही छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण हो चुका था लेकिन यहां छत्तीसगढ़ महतारी के बेटो का राज नही आया था।

 

READ MORE : बिग ब्रेकिंग – दिवाली से पहले सीएम बघेल ने दी किसानों को 1510 करोड़ 81 लाख रूपए की सौगात, कहा – किसान हितैषी योजनाओं से राज्य में समृद्ध हुई खेती-किसानी..

 

प्रदेश का ना राज्यगीत था और ना ही राज्य के कला संस्कृति और बोली भाखा को आगे बढ़ाने का प्रयास किया गया। छत्तीसगढ़ की अस्मिता को जागृत करने का काम हमारी सरकार द्वारा किय़ा गया। हमने ना सिर्फ छत्तीसगढ़ी बोली भाखा को पहचान देने की ओर काम किया बल्कि राजभाषा आयोग से लेकर राज्यगीत और अपनी हर नीति को छत्तीसगढ़ के पारंपरिक परिवेश से जोड़ कर काम किया। नक्सलवाद को हमने बहुत पीछे धकेल दिया हैं। हमारे महत्वपूर्ण कार्य से प्रभावित होकर नक्सली मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं। इसके अलावा गौ माता के सेवा करने के लिए हमने हर गांव मे गौठान बनावाया जो काफी कारगार साबित हो रहा हैं, लोगो को इससे रोजगार मिल रहा है और वे आर्थिक रुप से सबल बन रहे हैं।

 

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य स्थापना दिवस के मौके पर कहा स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर 12 13 और 14 जनवरी को युवा महोत्सव छत्तीसगढ़ लोक साहित्य कला कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें

Contact Our Chief Editor Mahendra Kumar Sahu

H14, dhehar city, gayatri nagar, raipur chhattisgarh, 492007