ताज़ा ख़बर
CG BREAKING : करंट की चपेट में आने से एक किसान समेत दो बैलों की हुई दर्दनाक मौत, इलाके में मचा हड़कंप, जांच में जुटी पुलिस16 माह बाद मल्टिप्लेक्स में फिर लौटी रौनक, 50 फीसदी दर्शकों के साथ गुलजार हुआ सिनेमा हॉल, वैक्सीनेटेड लोगों के लिए खास ऑफर, देखें VIDEO…1 अगस्त से बदल जाएंगे नियम, जानिए LPG के दामों को लेकर क्या है अपडेट, बैंक की कई सेवाएं भी हो जाएगी महंगी, पढ़िए पूरी खबर….जब सोनू सूद मुंबई पहुंचे तो उनके पास केवल इतने रुपये थे, फिर उन्हें इस बात का लगने लगा था डर, लोकल ट्रेन के धक्के खाते हुए…. ,ऐसे बने रियल लाइफ हीरो…Tiger Shroff से सेट पर भिड़ गया शख्स, फिर एक्टर ने दिया करारा जवाब, जानिए फिर क्या हुआ…जो विधायिका अपने छेत्र में विकास नहीं कर सकती उनसे प्रदेश के विकास के लिए आशा रखना मतलब मन में लड्डू खाना – पंकज जैनरायपुर से गोवा की राह हुई आसानः तीन अगस्त से उड़ान भरेगी फ्लाइट, इन दो जगहों के लिए भी शुरू होगी विमान सेवा, जानिए पूरा शेड्यूलविधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत और मुख्यमंत्री बघेल ने ‘चंदैनी गोंदा-एक सांस्कृतिक यात्रा‘ पुस्तक का किया विमोचनCRIME : प्रेम विवाह से नाराज पिता ने बेटी को उतारा मौत के घाट, पहले जन्मदिन मनाने के बहाने अपने पास बुलाया, फिर हत्या कर नहर में फेंक दी लाशविधानसभा का मानसून सत्र: जब जय…वीरू, गब्बर…कालिया की जोड़ी पर सदन में गूंजे ठहाके, जानिए क्या है पूरा मामला

अस्पताल छुपा रहा मौतों का आंकड़ा! परिजनों ने कहा- सात बच्चों के शव निकले अस्पताल से बाहर, इधर प्रशासन का दावा- सिर्फ दो की गई जान, कलेक्टर भी पहुंचे मौके पर

Sanjay sahuJuly 21, 20211min


 

रायपुर, नितिन नामदेव : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के जिला अस्पताल में 7 बच्चों की मौत की खबरों के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है. अस्पताल में भर्ती बच्चों के परिजनों ने कहना कि जिला अस्पताल में 7 बच्चों की मौते हुई है, लेकिन अस्पताल प्रबंधन इस बात को नाकार रहा है. प्रबंधन का कहना है कि केवल दो बच्चों की है मौत हुई है. इस मामले को लेकर संज्ञान लेते हुए कलेक्टर सौरभ कुमार ने आज जिला अस्पताल का निरीक्षण किया.

इधर निरीक्षण के जिला अस्पताल पहुंचे कलेक्टर सौरभ कुमार ने कहा कि अस्पतालों में हर बच्चे का फिजिकली रिकॉर्ड रखा जाता है. इसके साथ ही ऑनलाइन में रिकार्ड रखा जाता है. उन्होंने बताया की पिछले 24 घंटो में 2 बच्चो की मृत्यु हुई है. जो बहुत गम्भीर है. उन्होंने कहा कि हमें ये ध्यान देना है की 25 बच्चे अभी भी वेंटीलेटर में है और 13 बच्चे अलग अलग विलिंग में है. कुछ बच्चे अपनी मां के साथ बैड में है उन्होंने कहा की 2 बच्चो की मृत्य होना गंभीर बात है.

READ MORE : RAIPUR BREAKING : दो युवक लाश लेकर पहुंचे मारवाड़ी शमशान घाट, आशंका होने पर स्थानीय लोगो ने किया हंगामा, मौके पर पहुंच पुलिस कर रही जांच.
दो घंटे में ही 3 बच्चों की मौत हो गई

अमलेश्वर से आए एक युवक ने बताया, शाम 7 बजे से रात 9 बजे के बीच ही तीन बच्चों की मौत हुई है. कल सुबह से कम से कम छह बच्चों के शवों को उन्होंने बाहर जाते हुए देखा है. एक अन्य बच्चे के परिजन ने बताया, कल रात को जिस बच्चे की मौत के बाद हंगामा हुआ उसको डॉक्टरों ने निजी अस्पताल जाने को कह दिया था. परिजनों ने एम्बुलेंस भी बुला ली, लेकिन ऑक्सीजन सहित बच्चे को वहां तक ले जाने को डॉक्टर तैयार नहीं थे. करीब आधे घंटे बाद बच्चे की मौत हो गई.

अस्पताल में 37 बच्चों का इलाज जारी

जिला अस्पताल में नर्सरी इंचार्ज डॉ. ओंकार खंडेलवाल ने मामले को लेकर कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है. उन्होंने कहा कि जिस वक्त मामले को हवा दी जा रही थी 15 से ज्यादा बच्चे वेंटिलेटर पर थे. यदि ऑक्सीजन की कमी होती, तो सभी की मौत हो सकती थी. बड़ी संख्या में बच्चों का उपचार यहां पर हो रहा है. संवेदनशील मामले भी अन्य जगहों से रेफर होकर आते हैं और अस्पताल अपनी जिम्मेदारी में उनका उपचार भी करता है, लेकिन रोजाना एक से दो बच्चों की मौत होती ही है. तमाम प्रयासों के बाद भी उन्हें नहीं बचाया जा सकता है. उन्होंने बताया कि अस्पताल में 37 बच्चों का उपचार जारी है, जिसमें से 23 की हालत नाजुक है.

 

 

XCheck Digital Badge


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें







lower banner