ताज़ा ख़बर
चिंता न करें, पुराने सोने पर भी मिलेंगे अच्छे दाम, ज्वेलरी दुकान जाकर बस करना होगा ये कामBIG BREAKING : बदले गए कई जिलों के आबकारी अधिकारी, सहायक आयुक्त और उपायुक्त सहित 17 अधिकारियों का ट्रांसफर, देखे सूचीबड़ी खबर : पंडो जनजाति पर फूटा दबंगों का गुस्सा, लगाया मछली चोरी का आरोप, जनचौपाल लगाकर बेरहमी से की पिटाई, 35 हजार जुर्माने का जारी किया फरमानजब पीछे से बजा म्यूजिक तो जाग उठा पंजाबी, बीच मैदान में भांगड़ा करते दिखें कप्तान विराट कोहली, सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियोRAIPUR: महंगाई को लेकर विरोध: बैलगाड़ी में सवार होकर निगम मुख्यालय निकले महापौर ढेबर, तेल के दामो में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर किया प्रदर्शन, मोदी सरकार को लेकर कही ये बड़ी बातCG CRIME: युवक और युवती ने एक ही फंदे में फांसी लगाकर की खुदकुशी, दोनों एक दिन पहले घर से निकले थे, जांच में जुटी पुलिसअब 60 रुपये में भरवा सकेंगे पेट्रोल! मोदी सरकार करने जा रही है ये बड़ा ऐलान, कंट्रोल होगा महंगाईInternational yoga Day : रायपुर में ट्रांसजेंडर के समुदाय ने मनाया Health अंतरराष्ट्रीय विश्व योग दिवस, कहा दवा हमारे शरीर के अंदर है..इस खिलाड़ी ने खेली तूफानी पारी, 52 चौकों और 5 छक्‍कों से जड़ दिया तिहरा शतकबड़ी खबर : पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 880 ग्राम गांजा के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार

बड़ी खबर : मंदिर की 47,000 एकड़ जमीन हुई लापता : HC ने लगाई फटकार, तो एक्शन में आई सरकार

Mahendra Kumar SahuJune 11, 20211min

चेन्नई। आप लोगों ने सामान के गायब होने की खबर सुनी होगी।लेकिन क्या जमीन के गायब होने की खबर सूनी है। जी हां ऐसा मामला तमिलनाडु से सामने आ रही है। यहां मंदिर की 47000 एकड़ जमीन लापता हो गई है। इस पूरे मामले को लेकर मद्रास हाईकोर्ट Madras High Court ने राज्य सरकार को फटकार लगाई है। साथ कहा है के जमीन को वापस पाने के लिए क्या कदम उठा रहे हैं।

 

दरअसल, मंदिर की 47000 एकड़ जमीन लापता हो गई है। यह मामला मद्रास हाईकोर्ट पहुंची हुई है। जहां राज्य सरकार को कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाते हुए जानकारी मांगी है। राज्य सरकार को हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती (एचआर और सीई) विभाग की ओर से कार्रवाई करने और जुलाई 5 तक सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार लापता 47000 एकड़ मंदिर भूमि पर एक जवाबी हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया था।

 

एचआर एंड सीई विभाग ने पुष्टि की कि सरकार मंदिर की भूमि को बहाल करने की तैयारी में है, और पहले से ही 3,43,647 एकड़ मंदिर भूमि की जानकारी सत्यापित की जा चुकी है। विभाग ने अपने पास उपलब्ध आंकड़ों और राज्य की भूमि रिकॉर्ड रजिस्ट्री में तमिलनाडु सरकार के राजस्व विभाग के साथ तुलना की है। एचआर एंड सीई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि, ‘हमने वेबसाइट पर राज्य के हजारों मंदिरों से संबंधित शीर्षक दस्तावेजों, चिट्टों और यहां तक कि उपहार कार्यों की जानकारी पहले ही अपलोड कर दी गई है। अब लोग आसानी से मंदिरों के साथ भूमि की पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

 

राज्यभर में आंदोलन

भाजपा नेता और पार्टी प्रवक्ता केटी राघवन ने कहा, ‘हमें देखना होगा कि तमिलनाडु सरकार (Tamil Nadu Government) इस संबंध में कितनी गंभीर है। मद्रास हाई कोर्ट ने मानव संसाधन और सीई विभाग को पहले ही मंदिर भूमि रिकॉर्ड की असमानता के संबंध में एक जवाबी हलफनामा दाखिल करने के लिए कहा है। राज्य सरकार के नीति नोटों में 1984 में जब यह 5.25 लाख एकड़ थी और 2019-20 में जब इसे 4.78 लाख एकड़ कर दिया गया था, जिसमें 47,000 एकड़ का अंतर देखने को मिला। यदि सरकार अतिक्रमणकारियों से मंदिर की भूमि को दोबारा प्राप्त करने के लिए कदम नहीं उठाती भाजपा राज्य भर में बड़े आंदोलन शुरू करेगी।

Watch the video;-


 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें