ताज़ा ख़बर
CG NEWS : नदी में बहकर आया महिला का शव, इलाके में फैली सनसनी, पुलिस ने जताई हत्या की आशंकाBIG BREAKING : छत्तीसगढ़ के इस जिले में भी बैंड व धूमाल बजाने की मिली अनुमति, कलेक्टर ने जारी किया आदेशEXCLUSIVE : कभी जार्ज पंचम फिर महात्मा गांधी और अब राजीव गांधी के नाम से जाना जाता है राजधानी का यह चौक, जाने इसके पीछे की पूरी कहानीBIG BREAKING: अब रविवार को इतने समय तक खुल सकेगा व्यापार, कलेक्टर ने ज़ारी किए आदेशEXCLUSIVE : अंतरराज्यीय बस स्टैंड बना नशेड़ियों का ठिकाना, खाली पड़े बस स्टैंड में युवा कर रहे नशा, अश्लील कामों को दे रहे अंजाम, पुलिस अधिकारियों भी नहीं ले रहे एक्शन… देखे VIDEOबढ़ती महंगाई को लेकर महिला कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला, सांसद ने कसा तंज कहा- पहला शाह तो दूसरा शहंशाह….CG BIG BREAKING : कोविड सेंटर से भागे पांच आरोपी गिरफ्तार, सभी के सभी संक्रमित, टीआई की कर दी धुनाई, वाहनों में तोड़फोड़RAIPUR: अनलॉक में बड़ी राहत दे सकता है जिला प्रशासन, दोपहर बाद जारी हो सकती है नई गाइडलाइन, रविवार को भी खुल सकती है दुकानेंBIG BREAKING : दर्दनाक सड़क हादसा: कार और ट्रक की जबरदस्त टक्कर, एक ही परिवार के 10 लोगों की मौतRAIPUR : बारवीं की आंसरशीट मूल्यांकन के लिए शिक्षकों को नहीं आना होगा केंद्र, घर में ही करेंगे कॉपी चेक, माशिमं ने की व्यवस्था.

वट सावित्री व्रत आज : ये है पूजा-पाठ की विधियां, इन कपड़ों के साथ नीता अंबानी की तरह दिखेंगी बेहद खूबसूरत

Deepak SahuJune 10, 20211min


 

वट सावित्री व्रत: वट सावित्री व्रत के दिन सावित्री यमराज से अफने पति के प्राण वापस लेकर आई थी, तभी से वट सावित्री का व्रत ज्येष्ठ मास की अमावस्या पर रखा जाता है। इस दिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करके तैयार होती हैं और नई साड़ी, मेंहदी, चूड़ी आदि पहनकर वट वृक्ष की पूजा करती हैं। इस व्रत में वट वृक्ष की पूजा का खास महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि जिस प्रकार वट वृक्ष की उम्र होती है, उतनी ही लंबी उम्र पति की बढ़ें। इस दिन कुछ महिलाएं जहां निर्जला व्रत रखती हैं, वहीं कुछ पूजा और दान करके बायना सास को देकर कथा सुनकर व्रत खोल लेती हैं।

इस व्रत में शिव पार्वती की पूजा की जाती है। गौरा से सुहाग मांगा जाता है और बड़ के पेड़ के चारों ओर परिक्रमा करके रक्षा सूत्र बांधते हैं। फल, पूड़ी आदि, बरगदा और भीगे हुए चने भी अर्पित किए जाते हैं। इस दिन महिलाएं पूजन सामग्री के तौर पर सिंदूर, दर्पण, मौली, काजल, मेहंदी, चूड़ी, माथे की बिंदी, साड़ी और सात तरह का अनाज और सत्यवान सावित्री की प्रतिमा को शामिल करती हैं।

नीता अंबानी के स्टाइल में ऐसे हो तैयार

मां लक्ष्मी और मां दुर्गा के वस्त्रों का रंग लाल होता है। वट सावित्री का व्रत सुहाग के लिए किया जाने वाला व्रत है। इसलिए यदि आप नीता अंबानी के स्टाइल में तैयार होना चाहती हैं तो इस पवित्र दिन के लिए ऐसी साड़ी या लहंगे का चुनाव करें, जिसमें लाल रंग हो। आप चाहें तो नारंगी, पीला या जामुनी जैसे आध्यात्मिक रंगों का चुनाव भी कर सकती हैं।

पूजा की विधि

इस दिन शादीशुदा महिलाएं सुबह जल्दी उठें और स्नान कर स्वच्छ हो जाएं। इसके बाद लाल या पीली रंग की साड़ी पहनकर तैयार हो जाएं। इसके बाद पूजा का सारा सामान एक जगह रख लें। वट (बरगद) के पेड़ के नीचे के स्थान को अच्छे से साफ कर वहां सावित्री-सत्यवान की मूर्ति स्थापित कर दें। इसके बाद बरगद के पेड़ पर जल चढ़ाएं। इसके बाद पुष्प, अक्षत, फूल, भीगा चना, गुड़ और मिठाई चढ़ाएं।

 

फिर वट वृक्ष के तने के चारों ओर कच्चा धागा लपेट कर तीन या सात बार परिक्रमा करें। इसके बाद हाथ में काला चना लेकर इस व्रत की कथा सुनें। कथा सुनने के बाद भीगे हुए चने का बायना निकाले और उसपर कुछ रूपए रखकर अपनी सास को दें। जिन स्त्रियों की सास उनके साथ नहीं रहती हैं वे बायना उन्हें भेज दें और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। पूजा समापन के पश्चात ब्राह्मणों को वस्त्र तथा फल आदि दान करें।

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

CALL US ANYTIME



Latest posts


Categories