ताज़ा ख़बर
पिता के घर से विदा होकर ससुराल पहुंचते ही दुल्हन को दूल्हा ने मार दिया तमाचा, जानिए ​क्या है वजहचिंता न करें, पुराने सोने पर भी मिलेंगे अच्छे दाम, ज्वेलरी दुकान जाकर बस करना होगा ये कामBIG BREAKING : बदले गए कई जिलों के आबकारी अधिकारी, सहायक आयुक्त और उपायुक्त सहित 17 अधिकारियों का ट्रांसफर, देखे सूचीबड़ी खबर : पंडो जनजाति पर फूटा दबंगों का गुस्सा, लगाया मछली चोरी का आरोप, जनचौपाल लगाकर बेरहमी से की पिटाई, 35 हजार जुर्माने का जारी किया फरमानजब पीछे से बजा म्यूजिक तो जाग उठा पंजाबी, बीच मैदान में भांगड़ा करते दिखें कप्तान विराट कोहली, सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियोRAIPUR: महंगाई को लेकर विरोध: बैलगाड़ी में सवार होकर निगम मुख्यालय निकले महापौर ढेबर, तेल के दामो में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर किया प्रदर्शन, मोदी सरकार को लेकर कही ये बड़ी बातCG CRIME: युवक और युवती ने एक ही फंदे में फांसी लगाकर की खुदकुशी, दोनों एक दिन पहले घर से निकले थे, जांच में जुटी पुलिसअब 60 रुपये में भरवा सकेंगे पेट्रोल! मोदी सरकार करने जा रही है ये बड़ा ऐलान, कंट्रोल होगा महंगाईInternational yoga Day : रायपुर में ट्रांसजेंडर के समुदाय ने मनाया Health अंतरराष्ट्रीय विश्व योग दिवस, कहा दवा हमारे शरीर के अंदर है..इस खिलाड़ी ने खेली तूफानी पारी, 52 चौकों और 5 छक्‍कों से जड़ दिया तिहरा शतक

‘कविता’ पर प्रदेश में मचा बवाल, साहित्य अकदामी ने दे डाला ‘नक्सल’ का टैग, जानिए आखिर क्या है माझरा

Mahendra Kumar SahuJune 10, 20211min

 

 

गुजरात : पिछले तीन महीनों से देश भर में कई सारी तस्वीरें ऐसी आई है जिन्हे देख कर पुरे देश की आँखों से दर्द छलक उठा. इसपर बहुत से लोगों ने सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार की आलोचना की थी और अब भी लगातार लोग सभी बातों को लेकर सरकार की आलोचना कर ही रहे है. कुछ समय पहले बहुत सी तस्वीरें सामने आई थी जिसमे देखने को मिला था की कई लाशें गंगा में तैर रही है. गंगा में जिस तरह से कई शवों को प्रवाहित किया गया था, वो तो काफी दिल दहला देने वाला रहा. अब गुजरात में कवियित्री पारुल खाखर ने उन विचलित कर देने वाली घटनाओं पर एक कविता लिखी थी, उसकी काफी चर्चा भी रही. लेकिन अब उसी कविता को लेकर गुजरात में बवाल है. राज्य सरकार की गुजरात साहित्‍य अकादमी ने इसे साहित्‍यिक नक्‍सल करार दिया है. कहा गया है कि ऐसी कविताओं के जरिए अराजकता फैलाने का प्रयास हो रहा है.

 

 

ऐसी लिखी कविता की मच गया पुरे प्रदेश में बवाल

 

साहित्य अकादमी ने अपने संपादकीय के जरिए उस कविता पर जमकर निशाना साधा है. एक बार के लिए लेख में कहीं भी शव वाहिनी गंगा का उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन इशारा वहीं रहा है. लेख में साफ कहा गया है कि ये कविता नहीं है, बल्कि अराजकता फैलाने का काम हो रहा है. जोर देकर कहा गया है कि चर्चा में चल रही कविता किसी भी एंगल से काव्य नहीं है, ये बस व्यर्थ का आक्रोश है जहां पर भारतीय प्रजा, लोकतंत्र और समाज पर लांछन लगाने का काम किया गया है.

 

 

 

क्या सच में कविता के जरिए फैलाई जा रही है अराजकता?

 

संपादकीय में आगे लिखा गया है कि इस कविता में जिस प्रकार के शब्दों का इस्तेमाल हुआ है, वो किसी भी काव्य को शोभा नहीं देता है. ऐसी सोच सिर्फ देश में केंद्र विरोधी विचारधारा के विरोध में देखने को मिलती है. लेख के मुताबिक ऐसी ही सोच साहित्‍यिक नक्‍सलों की भी देखने को मिलती है.

गुजरात साहित्‍य अकादमी ने अपनी तरफ से साफ कर दिया है कि वे ऐसी किसी भी कविता को काव्य नहीं मानते हैं और वे उन कविताओं के जरिए प्रचार किए जा रहे विचारों से भी सहमत नहीं हैं. ऐसे में एक कविता को लेकर राज्य की सियासत काफी गरमा गई है.

सवाल तो इस बात को लेकर भी उठ रहे हैं कि क्या एक कविता को अराजकता फैलाने वाला बताया जा सकता है? लेकिन इस पर अभी कुछ भी ज्यादा खुलकर नहीं कहा जा रहा है. कवियित्री पारुल खाखर ने भी इस विवाद पर प्रतिक्रिया नहीं दी है.


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें