ताज़ा ख़बर
चिंता न करें, पुराने सोने पर भी मिलेंगे अच्छे दाम, ज्वेलरी दुकान जाकर बस करना होगा ये कामBIG BREAKING : बदले गए कई जिलों के आबकारी अधिकारी, सहायक आयुक्त और उपायुक्त सहित 17 अधिकारियों का ट्रांसफर, देखे सूचीबड़ी खबर : पंडो जनजाति पर फूटा दबंगों का गुस्सा, लगाया मछली चोरी का आरोप, जनचौपाल लगाकर बेरहमी से की पिटाई, 35 हजार जुर्माने का जारी किया फरमानजब पीछे से बजा म्यूजिक तो जाग उठा पंजाबी, बीच मैदान में भांगड़ा करते दिखें कप्तान विराट कोहली, सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियोRAIPUR: महंगाई को लेकर विरोध: बैलगाड़ी में सवार होकर निगम मुख्यालय निकले महापौर ढेबर, तेल के दामो में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर किया प्रदर्शन, मोदी सरकार को लेकर कही ये बड़ी बातCG CRIME: युवक और युवती ने एक ही फंदे में फांसी लगाकर की खुदकुशी, दोनों एक दिन पहले घर से निकले थे, जांच में जुटी पुलिसअब 60 रुपये में भरवा सकेंगे पेट्रोल! मोदी सरकार करने जा रही है ये बड़ा ऐलान, कंट्रोल होगा महंगाईInternational yoga Day : रायपुर में ट्रांसजेंडर के समुदाय ने मनाया Health अंतरराष्ट्रीय विश्व योग दिवस, कहा दवा हमारे शरीर के अंदर है..इस खिलाड़ी ने खेली तूफानी पारी, 52 चौकों और 5 छक्‍कों से जड़ दिया तिहरा शतकबड़ी खबर : पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 880 ग्राम गांजा के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार

पंचायत सचिव की मनमानी : अपने भैय्या-भाभी और मित्रों के नाम पर पंचायत में लगाया फर्जी बिल, लाखों की राशि का किया आहरण

Deepak SahuJune 10, 20211min


 

सारंगढ : रायगढ़ जिले के सारंगढ जनपद पंचायत अंतर्गत ग्राम पंचायत जेवरा के सचिव की मनमानी सामने आई है। जेवरा पंचायत में पदस्थ सचिव सतनोहर जोल्हे ने अपने भैय्या -भाभी और अपने मित्रों के नाम पर फर्जी बिल बनाकर सरकारी राशि निकाल लिया। इतना ही नहीं सचिव ने इसकी जानकारी गुप्त रखते हुए बिल व्हाऊचर लगाकर शासन को आर्डिट के लिए भेज दिया।

दरअसल, ग्राम पंचायत जेवरा में पंचायत सचिव ने फोर्टिन फ़ायनेश कमीशन की राशि का वेंडर को न भुगतान करके अपने भैया भाभी और दूसरे पंचायत के मित्रो के नाम पर जनरेट करके राशि का गबन कर लिया गया है। इस संबंध में जब पंचायत के सचिव और सरपंच से संपर्क करने की कोशिश की गई तो दोनों ने कॉल रिसीव करना उचित नहीं समझा।

सरपंच और सचिव की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल

जेवरा पंचायत के सरपंच और सचिव की कार्यप्रणाली पर अब तरह तरह के सवाल खड़े हो रहे है। सरपंच और सचिव अपने अपने हितैसी व्यक्तियों के नाम को डाला तो है लेकिन खाता नम्बर पंचायत का डाला गया है। ऐसे में एक बड़ी लापरवाही हो सकती है। इतना ही नहीं कई बिलो पर दूसरे पंचायत के लोगों का नाम डाला गया है।


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें