ताज़ा ख़बर
पिता के घर से विदा होकर ससुराल पहुंचते ही दुल्हन को दूल्हा ने मार दिया तमाचा, जानिए ​क्या है वजहचिंता न करें, पुराने सोने पर भी मिलेंगे अच्छे दाम, ज्वेलरी दुकान जाकर बस करना होगा ये कामBIG BREAKING : बदले गए कई जिलों के आबकारी अधिकारी, सहायक आयुक्त और उपायुक्त सहित 17 अधिकारियों का ट्रांसफर, देखे सूचीबड़ी खबर : पंडो जनजाति पर फूटा दबंगों का गुस्सा, लगाया मछली चोरी का आरोप, जनचौपाल लगाकर बेरहमी से की पिटाई, 35 हजार जुर्माने का जारी किया फरमानजब पीछे से बजा म्यूजिक तो जाग उठा पंजाबी, बीच मैदान में भांगड़ा करते दिखें कप्तान विराट कोहली, सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियोRAIPUR: महंगाई को लेकर विरोध: बैलगाड़ी में सवार होकर निगम मुख्यालय निकले महापौर ढेबर, तेल के दामो में लगातार बढ़ोत्तरी को लेकर किया प्रदर्शन, मोदी सरकार को लेकर कही ये बड़ी बातCG CRIME: युवक और युवती ने एक ही फंदे में फांसी लगाकर की खुदकुशी, दोनों एक दिन पहले घर से निकले थे, जांच में जुटी पुलिसअब 60 रुपये में भरवा सकेंगे पेट्रोल! मोदी सरकार करने जा रही है ये बड़ा ऐलान, कंट्रोल होगा महंगाईInternational yoga Day : रायपुर में ट्रांसजेंडर के समुदाय ने मनाया Health अंतरराष्ट्रीय विश्व योग दिवस, कहा दवा हमारे शरीर के अंदर है..इस खिलाड़ी ने खेली तूफानी पारी, 52 चौकों और 5 छक्‍कों से जड़ दिया तिहरा शतक

सिलगेर में अब सुलह : आंदोलन खत्म, केवल धरने के रूप में जारी रहेगा प्रदर्शन, अनुमति के लिए मिलेंगे कलेक्टर से

Mahendra Kumar SahuJune 9, 20211min

 

बीजापुर। सिलगेर में चल रहे ग्रामीण आदिवासियों का आंदोलन खत्म हो गया है। अब केवल सैद्धांतिक रूप से धरने पर सुकमा में बैठे रहेंगे। इसके लिए अनुमति लेने ग्रामीण कलेक्टर से मिलेंगे। खबर है कि मुलवासी बचाओं मंच के सदस्य मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात करने वाले हैं।

 

पिछले दिनों से चली आ रही प्रतिरोध को लेकर राजधानी से लेकर बीजापुर के तर्रेम तक बैठकों दौर चल रहा है। जिस पर अब विराम लगता दिख रहा है। तर्रेम में प्रशानिक अधिकारियों से ग्रामीणों के प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात हुई है। तो रायपुर में जनसंगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने सीएम भूपेश बघेल और राज्यपाल अनुसुईया उइके से मुलाकात की।

 

मंगलवार को आंदोलनरत ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल सोनी सोरी और गोंडवाना समन्वय समिति के अध्यक्ष तेलम बोरैया के नेतृत्व में तर्रेम पहुंचा। जहां पर उन्होंने कलेक्टर, एसपी और डीआईजी से मुलाकात की। करीब 3 घंटे चली मुलाकात के बाद ग्रामीण बुधवार को सिलगेर में चल रहे आंदोलन को खत्म करने पर राजी हो गए, हालांकि सुकमा में धरना जारी रहेगा।

 

READ MORE:Nusrat Jahan ने पति Nikhil Jain से तोड़ा नाता, शादी को पूरी तरह गैर कानूनी और अवैध बताया, ​रिश्तों को लेकर कही ये बड़ी बात

 

इधर राजधानी में भी मुलाकात का दौर चला। जनसंगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात की। बाद में प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल अनुसुईया उईके से भी मिलने पहुंचा। सीएम ने कहा कि क्षेत्र के लोगों की विकास से जुड़ी जरूरतों को पूरा करने के लिये राज्य सरकार तत्पर है।

माओवाद प्रभावित सुकमा जिÞले के सिलगेर में पुलिस फायरिंग में तीन आदिवासियों की मौत के बाद लगातार विरोध प्रदर्शन कर सीआरपीएफ कैंप हटाने की मांग कर रहे थे। सिलगेर पंचायत के तीन गांवों के अलावा आस-पास के कम से कम 40 गांवों के लोग केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) की 153वीं बटालियन के कैंप के खिलाफ सड़कों पर थे।

 

प्रदर्शनकारियों में शामिल अरलमपल्ली गांव के सोडी दुला कहते हैं, “सरकार कहती है कि सड़क बनाने के लिए पुलिस का कैंप बनाया गया है लेकिन इतनी चौड़ी सड़क का हम आदिवासी क्या करेंगे?

 

 


About us

हम निर्भीक हैं, निष्पक्ष हैं व सच की लड़ाई लड़ने के लिए आपके साथ हैं…


CONTACT US

संपर्क करें